सेक्सी बीएफ हिंदी एचडी फुल

छवि स्रोत,বাঙালি বৌদির সেক্স ভিডিও

तस्वीर का शीर्षक ,

xxxट्रिपल एक्स: सेक्सी बीएफ हिंदी एचडी फुल, सुबह आँख खुली तो हम टेबल पर पड़े थे और उनकी चूत से मेरा वीर्य निकल रहा था.

माधुरी दीक्षित के सेक्सी वॉलपेपर

पर तुम्हारे ब्रेस्ट नहीं निकले हैं, क्या वजह है पिंकी?”रोशनी को मुस्कुराते हुए देख पिंकी ने गुस्से से कहा- रोशनी दीदी की भी चूत में क्लिट वाला दाना नहीं है और मुझे तो दीदी के ब्रेस्ट भी नकली लगते हैं, अन्दर से ब्रा में रुई भरकर रखी होगी. বাজার সেক্স ভিডিওउसने 10-15 मिनट में मेरे लिप्स गले कंधे मतलब जितना खुला हिस्सा था, उतने पर किस कर लिए.

दीदी अपनी दो उंगलियां वी शेप बना कर अपनी चुत के दोनों फांकों पर रख दीं और उंगलियों को फैला कर चूत को पूरा खोल दिया. देसी भाभी सेक्सी एचडी वीडियोमैंने उस चीज को हाथ से महसूस किया तो पता चला कि दीदी ने अपनी चुत में एक बैंगन घुसा रखा है जिसको वह अन्दर बाहर कर रही थीं.

रीमा- पानी की जगह मेरा शु-शु चलेगा?मैं- अभी तो पानी ही पिला, तेरे शु-शु की बाद में सोचूंगा.सेक्सी बीएफ हिंदी एचडी फुल: मैंने देखा कि दोस्त का लंड भी खड़ा हो गया था, वो जल्दी जल्दी ड्रिंक खत्म कर के बोला- यार, अब मैं चलता हूँ.

फिर थोड़ी देर बाद चाची उसी नाइटी में आईं और उन्होंने पूछा- चाय पीनी है?मैंने हां कह दिया, फिर वो चाय बनाने चली गईं.मैंने बाथ लिया वहीं बाथरूम में ही सारी चीज़ें सोच सोच कर मुठ मारी और थकान के मारे सो गया.

ಮುಸ್ಲಿಂ ಸೆಕ್ಸ್ ವೀಡಿಯೋಸ್ - सेक्सी बीएफ हिंदी एचडी फुल

लेकिन नीति मैडम को काफी सहूलियतें दी गईं, जैसे छुट्टियां अधिक देना, छुट्टियों के पैसे ना काटना, नीति मैडम का वेतन भी बढ़ा दिया गया, पिज्जा उसके हॉस्टल भिजवाना, जहाँ अक्सर मेरे कालेज की और मैडम भी हुआ करती थीं.इसके बाद से मेरी बुझी हुई चूत फिर से सुलग गई और तब से मैं उसके साथ और घुलने मिलने लग गई.

उसके जाने के कुछ देर बाद जब मैं बेड से खड़ी होने लगी, तो मेरी टाँगें कांपने लगीं. सेक्सी बीएफ हिंदी एचडी फुल वो अपने खड़े लंड को सहला रहा था और अपना नंबर आने का इंतज़ार ही कर रहा था.

दो मिनट बाद उसका दर्द कम हुआ और वो चुप हो कर गांड चुदाई का मजा लेने लगी.

सेक्सी बीएफ हिंदी एचडी फुल?

रेड कलर की ब्रा और पेंटी उनकी लिपस्टिक में पूरी तरह से मैच कर रही थी. मेरे झड़ने के बाद भी परीक्षित मेरी चूत को चाटते रहे और फिर से मेरी चूत का पानी भी पी गए. मैंने अजय का लंड अपने मुँह से बाहर निकाला और और पवन का लंड पकड़ कर अपनी गांड में ठेलने लगा.

अब मयूर की नौकरी बचाने के लिए मैं मुख्यमंत्री तक से जुगाड़ लगा दूंगा. कुछ देर बाद मुझे दर्द कम होता हुआ सा लगा और चुत में एक मीठी सी चुभन सी होने लगी. साला पाठा का लंड रबर ट्यूब की तरह था, न पूरी तरह कड़क ही था, न ही सुस्त.

मेरी हॉट सेक्स स्टोरी में हर एक बात सच है! मेरी गरम चुदाई कहानी आपको कैसी लगी? आप मुझे मेरी मेल आईडी पर मेल भेज कर बता सकते हैं।[emailprotected]. मैंने भी खुलते हुए कहा- मुझे चूत में मज़ा नहीं आता, मैं गांड के मज़े लेता हूँ. पूरा पेलल दोदोओ…’मैं अपने हाथों से उसके मम्मों को दबाने लगा और उसे जोर से चूसने लगा.

मैंने लंड सलवार के ऊपर से ही अपनी बहन की उभरी हुई गांड के दरार के बीच दबा रखा था. रेड कलर की ब्रा और पेंटी उनकी लिपस्टिक में पूरी तरह से मैच कर रही थी.

उस दिन मेरी ताई जी ने मुझसे कहा- एक पंखा अपनी नई भाभी के कमरे में लगा दे… और मैं मन्दिर जा रही हूँ.

अभी कुछ ब्लेंक रिकॉर्डिंग बाकी थी क्योंकि मॉम की रिकॉर्डिंग रात की थी और मैंने दस बजे कैमरा निकाला था.

फिर मैंने आंटी को अपनी ओर खींचते हुए कहा- आंटी, दो साल से आपसे प्यार पाने की राह देख रहा हूँ. मैंने पिंकी से पूछा- तुम्हारी उम्र कितनी है?उसने कहा- सर 19 साल है. उसने तय कर लिया था कि आज की खुशी के एवज में वो मुझे अपनी कुंवारी गांड का छेद खोलने देगी.

नीला ने अपने हाथों का दबाव बढ़ाया और पूछा- तुम पानी में देर तक साँस रोक सकते हो तो तुमको ये मजा अभी मिल सकता है. इसके बाद मैंने बिस्तर से 3 फिट दूर खड़ा होकर वहां से उनको बिस्तर पर फेंका. वहां पहुँची तो जमाई जी रजाई में थे।मैंने कहा- रचना बेटी मेरे पास आकर बोली कि वो वहाँ लेटेगी, तो वो वहां लेट गई.

वो मुझे अन्दर आने की कह कर सीधे किचन में चली गई और अपने कपड़े ठीक करके मेरे लिए पानी लेकर आई, मैंने पानी पिया और वो मेरे सामने सोफे पे बैठ गई.

दोस्तो, मैं बबलू, मेरी पिछली कहानीप्रीति चूत चुदाने को मचल रही थीसभी पाठकों को पसंद आई थी. जैसे कोई मछली पानी से बाहर निकलने पर जोर जोर से मुँह खोलते बंद करते हुए हांफती या फुदकती है. पहले जब मैं हस्तमैथुन करता था तो मैं हर बार बहुत जल्दी ही झड़ जाता था, पर पता नहीं आज क्या हो रहा था.

मेरे परिवार में शादी थी, सब घरवाले वहां जा रहे थे और साथ ही कॉलोनी के मंदिर में नई मूर्ति की स्थापना भी हो रही थी. मैंने रूम में पहुँच कर अपनी माल रिचा को फोन किया और पूछा कि उसने मेरे बारे में मीषा ने क्या क्या बात की?तो उसने बताया कि मीषा मुझ पर फ़िदा हो गई है और जल्द ही मेरा काम बन जाएगा. वो खड़ी होकर मेरे पास आई और बोली- क्या तुम मेरे चूचे नहीं देखते हो? क्या तुम मेरी चाल को देख कर कमेंट्स नहीं करते?अंकिता जी ऐसा नहीं है.

वहां पर एक ग्राउंड फ्लोर पर बड़ी सी कैंटीन है… जहां सब लोग खाना खाने आते हैं.

आपको माही की गांड चुदाई की कहानी में अगले सेक्स स्टोरी में बताऊंगादोस्तो, इस चुदाई की कहानी में सभी नाम कल्पनिक हैं, लेकिन कहानी असली है. मेरी पहली कहानीमैं कॉलगर्ल कैसे बन गईएक सच्ची चुदाई की कहानी थी, जो मेरी ना हो कर किसी और की थी.

सेक्सी बीएफ हिंदी एचडी फुल मैं- इसका मतलब ये हुआ कि जब भी आपके पति घर पर नहीं होंगे, हम देर रात तक बातें कर सकते हैं?माँ- हां… कर सकते हैं. मैंने अर्जुन के बाजू पर अपना सिर रखा और एक हाथ अर्जुन के कमर पर! अब मुझसे और बर्दाश्त नहीं हो रहा था तो मैंने धीरे धीरे अर्जुन की टी शर्ट में अपना हाथ डालना शुरू किया और सेक्सी बॉडी को छूकर मेरे अंदर करेंट दौड़ गया जिससे मेरे लंड ने फुंकारें मारना शुरू कर दिया.

सेक्सी बीएफ हिंदी एचडी फुल चूँकि ये सब अनुभव मेरे लिए नया था तो मैं सब काम बड़ी तसल्ली से कर रहा था. आपको मेरी रोमांटिक सेक्स स्टोरी कैसी लग रही है?मुझे सबकी प्रतिक्रिया का बेसब्री से इंतज़ार रहेगा.

उसके मम्मे तो कपड़े फाड़ दें कुर्ती के ऊपर से ऐसे टाइट दिखते रहते थे.

डॉग एंड गर्ल सेक्सी

मुझे आज भाभी के साथ लिपटना कुछ अलग ही सुख दे रहा था क्योंकि आज मेरे लंड को मालूम था कि आज बिना कंडोम केभाभी की चुतमें गोता लगाने का मौका मिलने वाला है. अगले 15 सेकंड में वह किसी वार्ड में घुस जाता या फिर आगे बरामदे में लगी भीड़ में चला जाता… और उससे पहले मुझे उसे रोकना था. वाह क्या चूचे थे यार… एकदम गोरे गोरे और मोटे मोटे… सख्त खरबूज जैसे… दूर से उसके मम्मे ऐसे लगते ही नहीं थे.

पिंकी ने न चाहते गोलू की भिंडी को पकड़ा और अपने गुलाबी होंठों से एक किस किया. मुझे तुम्हारा लौड़ा देखना है, उसको मुँह में लेना है, तेरे लंड को अपने मम्मों पर घिसना है, लंड को अपनी चुत में और गांड में लेना है. दोस्तो, आप लोग, जो चुदाई के माहिर हैं उन्हें पता होगा कि हमारे जैसी लड़कियां, जो असल में पूरी रंडियां होती हैं.

उसने कहा- मैंने तो इस काम के लिए कम से कम 15 दिन का टाइम सोचा था जो आपने एक ही रात में कर दिया अगला दिन भी नहीं रुकने दिया.

वो जब छुट्टियों में रहने इधर आती है, तो रात को हमारे रूम में ही डबल बेड पर हमारे बीच में ही सोती है. कमरे में दोबारा मस्त ध्वनि गूंजने लगी ‘पच पच पच पच… आह आ आ आई ईईई… पच पच पच पच!सोफाचेयर पर बैठे हुए मैं खुद को किसी शो का दर्शक समझ रहा था… और मुश्किल से ही खुद को प्रेमी जोड़े की शानदार परफॉरमेंस पर तालियाँ बजाने की इच्छा से रोके हुए था. इतने में उसने मेरा लंड चूस चूस कर पूरा निचोड़ लिया और मैंने उसके मम्मों पर ही अपना लंड का रस गिरा दिया.

चलिए यह सब तो बाद की बात है, आप अबकी बार हां करिए, नहीं भी कर सकती हो. मैंने लंड और उसकी गांड का छेद बिल्कुल सही पोज़ीशन में आ जाएं, उसके लिए निशा की कमर के नीचे दो तकिए लगा दिए. जिससे वह फिर से गर्म हो गई और मैं अब अपने लंड को आगे पीछे करने लगा.

तभी उनका हाथ टाप से अंदर ले जा कर ब्रा के ऊपर से दूध दबाने लगे और एक हाथ लेगी के अंदर से पैंटी के नीचे घुसा कर मेरी चूत में उंगली करने लगे, मैं गरम होने लगी. भाभी मुझसे कहने लगीं- मुंदे लंड, मेरी प्यास बुझाएगा भोसड़ी के!मैंने कहा- साली रंडी, सब कुछ करूँगा लेकिन पहले अपना माल दिखा, भैनचोदी.

मैंने अपने बहन को बांहों में ले लिया और उनके रसीले होंठों को चूसने लगा. मैं बोला- भाभी क्या बात है अभी तक इतनी टाईट चूत कैसे है?तो भाभी दर्द में ही बोलीं- उस साले मेरे पति का 3 इंच का है. एक तो मेरा शरीर पहले से ही एकदम चिकना हो गया था, उस पर से वो तेल गजब ढा रहा था.

वैसे कसम से सच बता कि तुझे कैसा लगा लाइव शो?मैं कुछ नहीं बोली तो वो खुद ही बोली कि मुझे पता है तुम्हें पूरा मज़ा आया होगा मगर बोलोगी नहीं.

कुछ देर बाद मैंने भाभी से कहा कि भाभी अब इस रस को बाहर मत आने देना. परवीन करीब 10 मिनट तक लंड चूसती रही, फिर वह बोली- सैफ अब बर्दाश्त नहीं होता. उसने एक कागज़ पर लिखा और मुझे देते हुए कहा- ओके अब जाओ और ये मेरा नम्बर है.

मैंने कमर उठा कर लंड को भाभी की चुत की जड़ तक ठेलते हुए कहा- क्यों नहीं भाभी. मैंने उससे उसके पति के बारे में पूछा तो उसने बताया कि वो जॉब के लिए दिल्ली रहते हैं और कभी कभी आते हैं। उन दोनों के बीच जमती नहीं तो ममता ने औरंगाबाद में ही रहना पसंद किया।खाना खाने के बाद हम दोनों गप्पे मारने बैठ गए। मुझे भी समय का पता नहीं चला, काफी देर हो गयी तो उसने मुझे उसके घर ही रुकने को कहा। मैंने भी उसकी यह बात मान ली.

मैं वहां से उठकर जाने लगा, तभी उसकी माँ ने महक से कहा कि यदि तुझे पढ़ना है तो तू समीर के घर पर चली जा. मैंने दरवाजा खटखटाया और उधर ललिता फिर से सोने का नाटक करने लगी ताकि माँ को शक न हो. इसके बाद भी काफी दिन नार्मल ही बीते, पर धीरे धीरे अब वो भी मुझे प्यार करने लगी थी.

bhabi सेक्स

जीजा बोले- वन्द्या, तुम्हारा जिस्म तो आग की भट्टी की तरह बहुत गर्म है, तुम प्यासी हो, बहुत चुदासी हो!मैं यह बात समझ नहीं पा रही थी.

उसके कमरे में आते ही मैंने अपनी बहन को चूमना चालू कर दिया और पागलों की तरह उसका चेहरा तो कभी उसका गला चूमने लगा. कुछ देर उसकी गांड मारने के बाद मैंने उसे आगे से लंड डाल कर अलग अलग पोज में चोदा. उसके जाने के बाद मेरी रमीला रंडी मॉम बोलीं- कुत्ते… मारेगा क्या इस लड़के को? इतना बड़ा लंड उसकी गांड में दे रखा था.

मैंने देर ना करते हुए आराम आराम से चुत पर अपनी जीभ फेरना चालू कर दी. एक दिन वो बॉलीवुड की बहुत मशहूर एक्ट्रेस जिसका नाम मैं नहीं लिख सकती, उसकी चुदाई की फिल्म लेकर आई और बोली- डार्लिंग आज तुम्हें बताती हूँ कि इतनी फेमस होने पर भी चुत, चुत ही होती है, जो चुदने को हमेशा तैयार रहती है. नवीन सेक्सी गेममैंने उससे पूछा तो क्या तुम तैयार हो, मुझमें पूरी हिम्मत है?उसने इस पर कुछ नहीं कहा और हँसने लगी… मैं समझ गया.

अभी तक क्यों नहीं रखा?जैसे वो टेबल पर हाथ रख कर बात करने लगीं, मेरी हरामी नजर उनके मम्मों पर चली गई. मैं बोली- अरे मम्मी ऐसे ही कुण्डी दे गई होगी, कहीं कोई और आ गया तो?बालू बोले- आने दो… अब हम मियां बीवी बनने वाले हैं। क्यूं डरें किसी से?वो नहीं गये बंद करने गेट अंदर से!और अब सीधे मेरे चूत को फैला कर अपनी जीभ से चाटने लगे; जोर जोर से चूसने लगे और दोनों हाथों से मेरे दूध दबाने लगे.

वो मुझे काफ़ी अजीब तरह से चैक कर रहे थे, वो कभी मेरी गांड पे हाथ लगाते तो कभी मम्मों को छूने की कोशिश करते. मैंने फिर से सुपारे को चूत के अन्दर डाल कर निकाल लिया, फिर पूरे तेजी के साथ उसकी चूत में अपना लंड पेल दिया. मैंने उसे सांत्वना दी और कहा बस कुछ देर में सब ठीक हो जाएगा और मजा आने लगेगा.

अब अर्पिता तो जल बिन मछली की भान्ति तड़प रही थी, उसकी साँसें तेज़ होने लगी और उसके साथ साथ उसके सीने पर तैनात दूध के तो बड़े बड़े गुब्बारे गुब्बारे भी हिल रहे थे. तुम्हें अपने किए हुए काम, जो बदले की भावना से थे, उनका फल मिल गया है, क्योंकि तुम्हारा लड़का तुम्हें पूरी तरह से छोड़ छाड़ कर अब कनाडा जाकर बस गया है. वो रकम मैं अड्वान्स में ले लेती हूँ और अपनी कमीशन निकाल कर उस लड़की को दे देती हूँ.

मैंने कहा तो वो मना करने लगी और बोलने लगी कि उसका पति भी उससे करवाता है लेकिन उसको पसन्द नहीं है ओर उल्टी सी आती है.

मैंने उसको नीचे लिटाया और खुद विपरीत दिशा में उसके मुंह में लंड देकर उसके नंगे बदन पर लेट गया. बस उनको चोदने की प्लानिंग में दिमाग दौड़ने लगता…आगे की कहानी अगले भाग में.

जूही के हाल में आइना इस तरह से लगा था कि किचन में क्या हो रहा है सब दिखता था और हाल में क्या हो रहा है वो किचन से दिखता है. हालांकि मैं कोई हीरो नहीं हूँ जो हर लड़की मेरी तरफ भागे और इतना सीधा भी नहीं हूँ जो कोई लड़की देख कर अनदेखा कर दे. ड्राइवर कार निकाल लाया था और वो दोनों उसमें बैठ कर बहुत तेजी से निकल गए.

!मैंने कहा- पहले माल तो दिखाओ मेरी जान, आगे का खेल तो बाद में होगा. भाभी के चूतड़ काफी मस्त थे, गोल-गोल और मुलायम थे… एकदम रुई के गद्दे की की तरह थे. किसी पेज में कास्ट को लेकर कमेंट्स हो रहे थे, तो मैंने भी उसमें कमेंट्स करना शुरू कर दिए.

सेक्सी बीएफ हिंदी एचडी फुल मैं साढ़े पांच फुट की हाइट थी और तब जिम जाता था, तो मेरी बॉडी भी ठीक ही थी. जैसे ही मैंने प्रिया का बायाँ हाथ उठा कर अपने ऊपर रखा तो प्रिया ने मुझे अपने साथ कस कर भींच लिया.

बच्चा पैदा करने वाली सेक्सी

बाहर एक बच्चे को दिखाते हुए बोली- ये मेरा छोटा बेटा है, बड़ा दिल्ली में है, वो नहीं आया. उस की मस्त फिगर ने मुझे पहले थोड़ा बहकाया था, जब जो चलती तो सारा स्टाफ उसके चूतड़ पीछे से देखने के लिए मरता था. जिनेन्द्र ने बताया कि उसके कुछ फ्रेंड्स भी यहीं रहते हैं, तुम्हें मस्ती करनी है तो उन्हें आज बुला लेते हैं.

थोड़ी देर इसी प्रकार चूसने के बाद बोली- राजे… तुमने मस्त कर दिया… अब बड़ा मज़ा आ रहा है… पता है राजे ऐसी मस्त कर देने वाली चुदाई मुझे अपने पति से कभी न मिली… तू तो यार चुदाई का कलाकार है… राजे राजे राजे…उसका सुन्दर मुखड़ा अपने मुंह से चिपका के मैंने उसके होंठ चूसने शुरू कर दिये. उसके बाद तीसरी चुदाई हमने रात का खाना खाने के बाद की, तीसरी चोदन क्रिया हमने घर की छत पर की क्योंकि काव्या का घर तिमंजिला था और आसपास कोई घर उतना ऊंचा नहीं था तो किसी के देखने का कोई सवाल नहीं था. पेटिकोट सेक्सी वीडियोउसका फिगर भी इतना कमाल का है कि इतनी उम्र की होने के बावजूद वो लगती 30 की ही थी.

मैंने हल्का सा किस करते हुए उनके होंठों को स्पर्श किया, मैं उनके सब्र का इम्तहान ले रहा था.

वो मुझसे बोल रही थी- नेहा तुम तो अब मुझे अपनी माँ कहा करो, मैं सच में तुमको अपनी बेटी मानूँगी. फिर वो थोड़ी देर ऐसे ही घूमते रहे और मॉल के बाहर आ गये और गाड़ी की तरफ गए.

मैं भी मौके का फायदा उठाते हुए धीरे से पीछे जाकर उसके मम्मों को दबाने लगा. उसकी चुत में बीच की उंगली डाल कर उसे उठा दिया और उसे बैड पर लिटाया. क्योंकि उसे पता था कि मैं उसके बिछाए जाल में फंसती जा रही हूँ और इसमें से निकलने का कोई रास्ता नहीं बचेगा, सिवाय चुत को चुदवाने के.

करीब दस मिनट दीदी की चुदाई में दीदी फिर से झड़ गईं और उनकी चुत में जलन होने लगी, उन्होंने मेरे लंड से खुद की चुत को अलग कर लिया.

खैर मैंने अपनी किस्मत पर रोते हुए कपड़े डाले, पैसे का लिफ़ाफ़ा लिया और ड्राइंग रूम में आ गई, जहाँ ड्राइवर मेरा वेट कर रहा था. ”अच्छा तुमको मेरी क्या चीज सबसे सेक्सी लगी? अब ये मत कहना आपकी आँखें बहुत प्यारी हैं… सब सच सच बताओ. फिर उसे उल्टा कर उसकी टांगें चाटीं, घुटने के पीछे, जाँघों पर, कूल्हों पर भी खूब जुबान चलाई.

मूवी दिखाओ सेक्सीअब दीदी अपने एक हाथ से अपनी चूचियों को सहला रही थीं… और फोन पे ‘हूँ… हूँ…’ कर के प्रीति की बातों का मजा लिए जा रही थीं- वाओ… उसने तेरी चुत चाटी?? आव्स्म यार…!यह कहते हुए दीदी अपने हाथ को अपनी चुत पर ले जाकर पैंटी के ऊपर से ही रगड़ने लगीं. आज अपनी आपबीती सुना रहा हूँ, जो बिल्कुल सच्ची है, जो मेरे साथ हुआ था.

सेक्सी हिंदी पुरानी

एक तो मेरी पूरी टांगें उनको दिख रही थीं, उस पर से मैं जिस लड़के के साथ आई थी, वो भी वहां नहीं था. मैंने उसको सिगरेट ऑफर की तो उसने सिगरेट सुलगाई और मुझे सोफे पर बैठा कर मेरा लंड निकाल कर चूसते हुए सिगरेट के छल्ले उड़ाने लगी. रास्ते में मेडिकल स्टोर पर मैंने गाड़ी रोक दी और उसको दिखाते हुए कंडोम का एक पैकेट ले लिया और घर आ गया.

मुझे मस्ती करनी है अडल्ट वाली मस्ती!”मैंने उसे ओके बोला और आगे की बात समझाई. मुझे थोड़ा अजीब भी लगा क्योंकि पहली बार मैंने किसी दूसरे मर्द का लंड देखा था. फिर जहाँ पर उसका थूक लगा था, उधर से मेरी चूत में अपने लंड को डालना शुरू किया.

मैं उसके मम्मों को दबा देता और वो मेरे लंड को पेंट के ऊपर से पकड़ कर मसल देती थी. मैंने कहा- आंटी जी, आपने तो कहा था कि आपके पति वापस चले जाएंगे, फिर क्यों नहीं गए?वो वर्षा आंटी बोली- हाँ जाने वाले थे लेकिन सन्डे की वजह से एक दिन और रुक गए हैं. कयामत तो तब बरपा हुई जब प्रिया ने अपनी बायीं टांग उठा कर मेरे ऊपर रख दी.

मैं मिलने की जगह सोचने लगा और बात तुगलकाबाद किले पर मिलने की तय हुई. तभी उसने खुद ही मुझसे नंबर माँगा और बोला कि मुझे कुछ काम होगा तो कॉल करूँगी.

उसके बॉयफ्रेंड ने कालेज की टीचरों को फोन करके सबको बता कर रुचिका को बदनाम करने की कोशिश की.

मेरी सेक्स स्टोरी हिंदी के पहले भाग में आपने पढ़ा कि एक दिन एक कॉलेज गर्ल ने मुझसे मेरे बाइक पर लिफ्ट मांगी. राजस्थानी लंगा सेक्सी”क्यों मैं सुंदर नहीं हूँ क्या आप लोगों ने तो तारीफ ही नहीं की!”अरे भाभी वो जिनेन्द्र को शायद अच्छा नहीं लगे इसलिए…”अरे चिंता मत करो, उनको बुरा नहीं लगेगा. दीपिका चिखलिया familyउसने बताया कि पहली बार में लड़की के खून निकलता है और दर्द बहुत होता है. उनके लड़के को नहीं। सो मैं तुम्हारा मामा का लड़का बनकर आ जाऊँगा और तुम्हारे घर रुक भी सकूँगा।राज मैं तुम्हें सैयां बनाना चाहती हूँ और तुम भईया बन रहे हो।”जान मेरी.

मैंने नोटिस किया कि रोशनी पिंकी को साइड में ले जाकर उससे कुछ बात कर रही थी.

वो जोर जोर से मेरी कमर पर नाख़ून चुभो रही थी और गर्दन पर किस कर रही थी. आपका ज्यादा समय खराब न करते हुए अगली कहानी आपके सामने रखता हूं कि कैसे अंजलि ने अपनी शादीशुदा ननद पारुल की चूत की प्यास बुझवाई. भाभी की चूत लगातार पानी छोड़ रही थी और मेरा लौड़ा बड़े आराम से अन्दर बाहर आ जा रहा था.

उसने सेक्सी डांस शुरू किया और डांस करते हुए अपने एक एक कर कपड़े उतारती गई. मैं- मेरी प्ले लिस्ट है, सारे गाने मेरी पसन्द के हैं, जो आपको पसंद हैं, आप प्ले कर लो. जब मुझे लगा कि यही सही मौका है, तो मैंने एक धक्का मारा और आधा लंड निशा की गांड में घुसेड़ दिया.

पंजाबी सेक्सी वीडियो बताओ

अगले दिन हमारे यहाँ आर्ट्स के तीन स्टूडेंट एडमिशन किए, वे फर्स्ट इयर में थे. मैं नीचे बैठ कर उनको देख रहा था, इसलिए वो बहुत ज़्यादा सेक्सी लग रही थीं. वो भी भड़कीले पीले रंग की, जो कि बड़े ही चुस्त तरीके उसकी चूत और गांड से चिपकी हुई थी.

उसका दूध किसी अमृत से कम नहीं लग रहा था, जिसे मैं सारा का सारा पिए जा रहा था.

और बाद में मुझको बहुत पछतावा हुआ कि मैंने अपने मज़े के लिए एक कुँवारी लड़की को प्रेगनेंट कर दिया था.

कुछ ही देर में मैं एक बार और झड़ गई और इस बार चिंटू भी मेरी चूत का सारा रस पी गया. मुझे उसने बहुत बार चोदा, मुझे भी चुदाई में बहुत मजा आने लगा और थोड़े समय बाद उस लड़के के परिवार का दूसरी जगह ट्रान्सफर हो गया, तो वो चला गया. दिल्ली वाली भाभी का सेक्सी वीडियोजैसे ही वो रुकी, मैंने अपन स्पीड तेज कर दी और उसको जोर जोर से चोदने लगा.

अपनी बुआ की बेटी यानी फुफेरी बहन की वो चुदाई मुझे आज तक भली भान्ति याद है. एक दिन मैंने डॉक्टर से बात की कि क्या इसका कोई इलाज़ है?उसने कहा- हां है. वो भी अपनी गांड उठा कर मेरा पूरा साथ दे रही थीं और अपनी कमर उठा उठाकर मेरे लंड को अपने अन्दर तक ले रही थीं.

मेरे जैसे ना मालूम कितनी होंगी, जो इस दलदल में फंस कर निकल नहीं सकतीं. हमने कुछ देर झूले पर झूल कर समय बिताया, फिर हमने टीवी चला लिया और साथ बैठ कर टीवी देखने लगे.

वो उसके मम्मों को पीने लगा तो मेरी बीवी बोली- अपने भी कपड़े खोल दो ना.

मैंने उससे पूछा तो क्या तुम तैयार हो, मुझमें पूरी हिम्मत है?उसने इस पर कुछ नहीं कहा और हँसने लगी… मैं समझ गया. रेड कलर की ब्रा और पेंटी उनकी लिपस्टिक में पूरी तरह से मैच कर रही थी. मैं वीडियो देखकर सन्न रह गया।मैंने वीडियो को फॉरवर्ड करके देखा तो आगे टिंकू प्रियांशु पर चढ़ा हुआ था; उसने प्रियांशु की टांगें अपने हाथों में पकड़ रखी थीं और उसकी गांड में लंड को पेल रहा था।मैंने मन ही मन कहा ‘साला मेरे भाई पर भी हाथ साफ कर गया।’बड़ा ही पहुंचा हुआ गांडू निकला ये तो।लेकिन इसने ये किया कब.

अंडरवियर सेक्सी पिक्चर मीशा ने अपनी चुत देखी तो उसकी चुत पे सूजन आ गई थी, उससे खून भी निकला था जिसे देख कर वो डर गई थी. मैंने उसे ज़ोर से जकड़ा तो वो कराह दी और अलग होकर बड़े कातिलाना अंदाज़ में बोली- आप मर्द हो कि घोड़ा, इतनी दरिंदगी से कोई चोदता है.

मैंने कहा- चाची, देखो न मेरा लंड फिर दर्द होने लगा, एक बार और इसको चूस कर शांत करो न. मैंने कहा- यार हँसी मज़ाक में बोर कैसे हो गईं?वो बोली- कुछ नहीं बस यूं ही. मैंने उनको पीछे से कस कर पकड़ लिया और बोला- जानेमन, तुझे जबसे देख रहा हूँ बस ऊपर वाले से यही माँगता हूँ कि तेरी गांड मारने को मिल जाए और आज मौका मिला तो आप जाने लगीं.

घोड़ी घोड़ा का सेक्स

पवन ने मुझे अपनी तरफ घुमा दिया और मेरी लड़कियों जैसी चुचियों को चूसने लगा. उन्होंने भी मेरा साथ दिया औऱ अपने हाथों से अपना कुर्ता उतार कर मेरे हाथ की हथेलियों को अपने बोबों पर रख दिया जिन्हें मैं ब्रा के ऊपर से ही मसलने और दबाने लगा. जमाई जी बात करते करते मेरी जांघों पर हाथ ले आये थे और सहलाने लगे थे.

कुछ देर बाद जब मैं एग्जाम देकर घर आने लगी, तभी मुन्नालाल सर कहने लगे कि तुम्हारा ईको का एग्जाम बहुत बुरा हुआ है और तुम ईको में फेल हो. मां अब गरम हो गई थीं और उनके मुँह से मादक सीत्कारें निकलने लगी थीं.

मैं तेरे बीज को अपने अन्दर लेना चाहती हूँ चोद दे मुझे… और ज़ोर से आह उम्म्ह… अहह… हय… याह… आहह ऐसे ही आहह आह आहह आ आ आहह आहह मज़ा आ रहा है.

वो इस तरह ही चिल्लाती रहीं और पूरे कमरे में फ़चफ़च की आवाज़ गूंजने लगीं. दीदी ने पैंटी का आगे का हिस्सा पकड़ कर साइड में सरका दिया… जिससे दीदी कीचुत बिल्कुल नंगीहो गई… और अब चुत साफ साफ दिखाई देने लगी. मैंने नैना के मम्मों को खूब चूसा और दबाया और साथ में ही अपना एक हाथ उसके दोनों पैरों के बीच में ले जाकर उसकी चूत को जींस के ऊपर से ही दबाने लगा.

तो मूर्ति स्थापना की वजह से 2 दिन तक कॉलोनी में कार्यक्रम ही कार्यक्रम थे. फिर वो और गरम हो गई और मुझको अपने साथ चिपकाने लगी तो मैंने उसकी पेंटी उतारी, उसकी चुत पर अभी रोयें से ही आये थे और चूत के होंठ आपस में चिपके पड़े थे. दोस्तो, ये बात एकदम सही है कि जब चुत में लंड बिना किसी आवरण के अंदर जाता है तो जो प्राकृतिक रगड़ का सुख मिलता है, वो लंड और चुत दोनों को ही एक अलग सा सुख देता है.

वो भी लंड लेने के लिए मरी जा रही थी, सो उसने भी अपनी चुत को फैला कर लंड पकड़ लिया.

सेक्सी बीएफ हिंदी एचडी फुल: सेक्स कैम गर्ल स्वातिफिर स्वाति ने चारों ओर घूम कर मुझे अपनी नंगी जांघों के साथ साथ पेंटी में कैद अपने सेक्सी कूल्हों को भी दिखाया. कमरे में दोबारा मस्त ध्वनि गूंजने लगी ‘पच पच पच पच… आह आ आ आई ईईई… पच पच पच पच!सोफाचेयर पर बैठे हुए मैं खुद को किसी शो का दर्शक समझ रहा था… और मुश्किल से ही खुद को प्रेमी जोड़े की शानदार परफॉरमेंस पर तालियाँ बजाने की इच्छा से रोके हुए था.

कुसुम- देख मैं तो तेरे भले के लिए ही बोल रही हूँ कि तू चाहे जो भी कर ले. उनकी चुत फिर से गरम हो गई थी और अब वे भी पूरी मस्ती से चुदाई का मजा ले रही थीं. ब्लाउज के सारे बटन खुलने के बाद उसकी चुचियां एक नाम मात्र की ब्रा में क़ैद थीं और उस ब्रा में वो कयामत ढा रही थी.

उस दिन मैंने जानबूझ कर ढीले कपड़े पहने हुए थे, जिसमें से उसको मैं मम्मों की दूधिया घाटी और अपनी चड्डी की झलक भी दिखा सकूँ.

जिससे मुझ पर नशा सा छा रहा था। मेरा दिल कर रहा था कि मैं चूत को खा ही जाऊँ। कभी-कभी मेरे दाँत चूत पर गड़ जाते, तो मधु एकदम तड़प उठती। मुझे उसे तड़पाने में मजा आ रहा था. अब तो विक्रम का बुरा हाल था और वो अपने लंड को सम्भाल ही नहीं पा रहा था. रेंट बहुत कम था क्योंकि वो डैड के फ्रेंड का ही फ्लैट था, सो हमें ज़्यादा रेंट नहीं देना था.