हनीमून बीएफ

छवि स्रोत,2015 के सेक्सी वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

चिकनी भाभी: हनीमून बीएफ, मेरा एक हाथ उसके सर के पीछे था, दूसरा हाथ अपने आप ही उसकी जांघों में चला गया.

साली की सेक्सी चूत

उसने अपनी जवान बेटी की खातिर मीना को दोबारा समझाया लेकिन मीना अपनी दुराचारी हरकतों से बाज नहीं आई. रानी मुखर्जी की सेक्सी वीडियो फुल एचडीलंड को चाटना, चूमना, सहलाना, जांघों को प्यार करना, बॉल्स को चूमना चाटना.

आज भी मैं हर शनिवार रविवार सुबह कैंटीन जाता हूँ और दूर से दीदी को देखता हूँ और दीदी भी शॉपिंग के बहाने आती है, झलक दिखाती है. बीपी सेक्सी सुपरहिटआज जब मैं 45 का हूँ, तो सोचता हूँ, उनका (या मेरा) बच्चा कितना बड़ा हो गया होगा? और यह भी, कि यहाँ से जाने के बाद चुदाई न मिलने पर भाभी की तबियत खराब होती होगी, तो वो क्या करती होगी? वैसे ही तड़प-तड़प कर दिन काटती होगी, या फिर मेरी तरह कोई मिल गया होगा?[emailprotected].

उसने मेरी बुर चूसी और अपना लंड चुसवाया मगर उसने अपना लंड मेरी बुर में डालने की कोई कोशिश नहीं की.हनीमून बीएफ: कल्पना ने कुछ सोचते हुए कहा- ह्म्म्म …थोड़ी देर सोचने के बाद, एक लंबी सांस लेते हुए बोलना शुरू किया- मैं अभी तक कुंवारी हूँ.

जरा सोच के देख … अगर तेरे या मेरे घरवालों को पता चला तो मेरा क्या हाल बनेगा?” मीना ने कहा.फिर वो उठी और उसने मुझे पीठ के बल लेटा कर लंड को किस किया और मेरे लंड पे कंडोम लगा कर उसपे बैठ गयी.

सेक्सी वीडियो बढ़िया फिल्म - हनीमून बीएफ

मैंने मैडम को संजीदा देखा तो मैंने भी हामी भर दी और ‘जी हां … क्यों नहीं.मैंने अपने घुटनों को भाई के दायें बायें करके अपनी चूत में उसके लंड को पकड़कर रगड़ती रही.

थोड़ी देर में जब लंड खाली हो गया तो मैडम ने हथेली पर इकट्ठे लावा को चाट लिया. हनीमून बीएफ मैंने उसकी गांड की दरार को अपने हाथ से चौड़ी किया और अपना लंड उसकी गांड में धकेल दिया.

और निकालो?” सर ने ज़ोर देकर कहा।जी … और नहीं है एक भी अब मेरे पास!” मैंने जवाब दिया।तुम कुछ भी कहोगी और मैं विश्वास कर लूँगा? तलाशी तो देनी ही पड़ेगी तुम्हें!” उन्होंने बनावटी से गुस्से से मुझे घूरा.

हनीमून बीएफ?

उसे मैंने कुछ ख़ास नहीं कहा, बस इतना बोला- भाई मैं तो फिर भी पड़ोसन को ठोक रहा हूँ, तू तो मकान मालिक की लड़की को ही लगभग रोज चोदता है. भाभी बिल्कुल नंगी मेरे सामने चुत किये लेटी हुई थी और मैं भाभी की झांटों में क्रीम लगा कर झाग बना रहा था. मैं- अरे मामी जी आप इतने जल्दी क्यों उठ गईं, थोड़ी देर ओर आराम कर थोड़ी लेतीं.

लगती क्यों नहीं, जब कोई दिल से और सच्ची कहानी लिखता है, तो वो पसन्द आती ही हैं. इतने में उसने कहा- उस दिन ये सब क्यों नहीं हो पाया और आज क्यों?मैंने जवाब दिया- मैं उस दिन शायद ये सब नहीं चाहती थी, मेरा मन नहीं था. भाभी ने मेरा पैंट उतारा और मेरे बाबूराव को हाथ में पकड़ कर उससे खेलने लगीं.

आशीष ने भी मुझसे बोला कि आई लव यू मेरी जान … मेरी खूबसूरत सेक्सी बंध्या. तभी भाभी ने आकर मेरे मुँह अपनी चूत रख दी और बैडमैन भाभी के चूचे चूसने लगा. उसे सोल्डिंग करने के लिए मैं उसका पेस्ट का डब्बा खोल रहा था, वो खुल ही नहीं रहा था, मैं स्क्रू ड्राईवर से खोल रहा था तभी मेरा हाथ कट गया.

फिर उन्होंने पूछा कि तुम्हारी कोई गर्लफ्रैंड नहीं है क्या?मैंने न में जवाब देते हुए सिर हिला दिया. अनुष्का की स्माइल को देखकर तो अच्छे अच्छों के लंड मचल जाते हैं मैं तो फिर भी एक ड्राइवर था.

मिर्गी नाम की बीमारी की शिकायत रही, इसलिए पापा मम्मी ने स्कूल में मेरा एडमिशन नहीं करवाया.

फिर धीरे धीरे जैसे जैसे मैं मोनिका की चूत को अपने मुँह में भर कर कभी चूसता, कभी दांतों से काटता, वैसे वैसे मोनिका का जो हाथ, मेरे बालों को सहला रहा था, अब वो मेरे बालों को पकड़ कर मेरा सर अपनी चुत मैं डालने की कोशिश कर रहा था.

रितिका नहाने के लिए बाथरूम में घुस गई और जैसे ही वो बाहर आई, मैंने उसे गोद में उठा लिया उसके गीले बालों से पानी की बूंदें मेरे ऊपर गिर रही थी. उसने कहा- मुझे रास्ते से रिसीव कर लेना!फिर मैं गया और उसको मेन रोड से लेकर आया. हमने अपने कपड़े ठीक किये और बाहर आ गए लेकिन चुदाई का अरमान दिल में ही रह गया.

भाभी की कमर बहुत ही चिकनी और पतली थी, वो भी मुझे चूम रही थीं, साथ में बड़ी गरम आवाजों में ‘आह उह. मैंने उसे बलिष्ठ हाथों से गांड के बल उठाया और अपने लंड पर खींच लिया. मेरे लिंग का उभार बढ़ता जा रहा था, जो की मामी के नितम्बों से टकराने लगा.

लता भाभी सुबह ही नहाने के बाद पिछले आँगन में तुलसी के पौधे की पूजा कर रही थी.

उसके इस तरह से मेरा ख्याल रखने से मुझे वह अब अपने आप अच्छा लगने लगा. उसने अपने कोमल हाथों से मेरे लंड को पकड़ लिया और उस पर कॉन्डम पहना दिया. इस टाइम जिस थियेटर में जाने की वे बात कर रही थीं, उसमें ‘अक्सर-2’ लगी हुई थी.

मेरा मुँह उसके बूब्स के बहुत करीब था मेरी सांसें उसके बूब्स पर टकरा रही थीं. मैं बोला- भाभी आज तो आपके साथ जम कर होली खेलूँगा, आपके पूरे का पूरा रंग दूंगा. इसके आगे की स्टोरी में कैसे मैंने सिमरन और मीरा दोनों की चुतों का भोसड़ा बनाया, कैसे मेरा जीवन एक जिगोलो की जिंदगी में बदल गया, ये सब जानने के लिए मुझे जरूर मेल करें.

मैंने अपने पति को बहुत समझाया, लेकिन वो नहीं माने और उसने शराब पीना शुरू कर दी.

कुछ दिन रहने के बाद ननकू शहर चला गया पर मीना के दिल में भय सा बैठ गया. मैंने और कुछ दोस्तों ने मिलने का प्लान बनाया, लेकिन मैंने अपना प्लान किसी को नहीं बताया.

हनीमून बीएफ मुझसे पूछा कि ऋषभ सब ठीक तो है … मैं एक सप्ताह से देख रही हूं, तुम कुछ परेशान से नजर आ रहे हो. उन्होंने मेरे लंड को पकड़ कर अपनी चूत के छेद पर ऊपर नीचे रगड़ा और फिर छेद में थोड़ा सा घुसाकर टिका दिया.

हनीमून बीएफ मेरे मुंह से निकल गया- उस दिन रात को जब आपको देखा तो मैं आपको देखता ही रह गया था. उसके मुँह में कई मिनट तक लंड अन्दर बाहर करने के बाद उसने बाहर निकाला, तो रिया ज़ोर ज़ोर से साँस लेने लगी.

कुछ देर के बाद वह उठने लगी और कहने लगी- अब जाना होगा नहीं तो दीदी उठ जाएगी.

मराठी बीएफ पिक्चर व्हिडिओ

यह सोचकर मैं बहुत खुश हुआ कि इसी बहाने मामी जी के दर्शन भी हो जाएंगे. अब तू ही बता ममता कि कमोड भी भला क्या चुदाई की जगह होती है?ममता बोली- हाउ स्वीट! मामा जी तो बहुत ही रसीले हैं. तभी चाची ने अपनी पेंटी को, जो कि अब तक गीली होकर उनकी चूत से चिपकी थी, उतार दिया और पलट कर आवाज दी- कितनी देर लगाएगा, जल्दी कर ना!मैंने कहा- चाची मैं तो कबसे देने को खड़ा हूँ, आप लो तो.

मेरा भी दिल करता है कोई मुझे छूए, सहलाए, प्यार करे, मगर ऐसा हो न सका. करीब एक से डेढ़ घंटे तक वह मुझे ही घूरता रहा, पर मुझे कोई फर्क नहीं पड़ा. तभी मैं आशीष से बोली- मुझे उठने दे, मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रहा … मैं नहीं मर जाऊंगी, मेरी हालत को तूने बहुत खराब कर दिया है.

ज़रीना की मादक सिसकारियाँ और सारा की दर्द भरी चीखों ने मेरा दिमाग सुन्न कर दिया था। पता नहीं सारा ने कब मेरा लण्ड अपनी गांड से निकाला और घोड़ी बने बने ही अपनी चूत में ले लिया और आगे पीछे होकर चुदने लगी.

वो अपनी दुनिया में खोई हुई बोलती रही- उम्म्ह… अहह… हय… याह… और जोर से मारो!और उसकी चूत बहती रही. मैंने उसे अन्दर करने के बाद सभी खिड़की दरवाजे बंद किए और पर्दे लगा लिए. गर्म-गर्म पेशाब जब फुद्दी पर लगने लगा तो उनकी मुनिया को गर्म कर दिया.

इसलिए आपकी इस ख्वाहिश को पूरा करने के लिए मैं आपको आज एक ऐसी ही हिन्दी फिल्मों की हिरोइन की कहानी बताने जा रहा हूँ. दही पीने के बाद मैं मामी की तरफ देखने लगा और सोचने लगा कि ये मुझे किस नहीं करेंगी क्या?मामी मेरी तरफ देख कर अपनी भौं को ऊपर करके इशारा किया- अब क्या?मैं मुस्कराते हुए कहने लगा- मुझे किस नहीं मिलेगी क्या?मामी ने उसी समय मुझे किस कर दिया- अरे मेरे बाबू को भी किस्सी चाहिए. भाभी गर्म आवाजें कर रही थी- आहह … आहह …मुझे भी बहुत मज़ा आ रहा था और लंड बहुत बड़ा हो गया था मानो अभी फटेगा.

कामुक सिसकारियों से भरी जोर की आवाज़ के साथ लण्ड ने आत्म-समर्पण करते हुए चूत में रस की बौछार कर दी और चूत ने भी अपने को समर्पित करते हुए अपने रस को छोड़ दिया. फिर एक ही झटके में भैया ने भाभी की चड्डी निकाल फेंकी और भाभी की चुत पर भी रंग मल दिया.

मैंने मन में सोचा पहली ही रात लंड चूस लिया, तो आज तो होली के माहौल में भाभी की चुत जरूर चुदाई के लिए मिलेगी. या फिर यूं कहें कि उसने जान-बूझकर वह गोल-गप्पा अपने टॉप पर गिरा लिया था. मेरी जांघों की थाप जब उसके चूतड़ों पर पड़ती तो उस आवाज़ से वातावरण कामुक हो उठता.

इस तरह मेरी बीवी उस रंग से सराबोर होकर मस्त मदहोशी में प्रशांत के सीने से लिपट गई, क्योंकि चूत में प्रशांत के गरम सफेद पानी के बौछार की गर्मी ने उसे भी झाड़ दिया.

उसने कुछ ना कहा और मुझे अपने ऊपर लिटा लिया, हम एक दूसरे को चूम ही रहे थे कि उसने अपना लिंग मेरी योनि पे लगा कर रगड़ा. सासू माँ- बेटा, इस घर में काम करने के लिए नौकर नौकरानी हैं, तुझे क्या जरूरत काम करने की!मैं- ह्म्म्म … वो …फिर मैं अपनी बात कहते हुए रुक गयी. फिर शाम को जिम से आते ही मैं भाभी के घर गया, तो मैंने उन्हें दिन की घटना बताई क्योंकि अब हम सारी बातें शेयर करने लगे थे.

उसके बाद मैंने उसको किस किया और साइड में लेटकर उसको भी अपनी तरफ घुमा लिया. वो … मैं … कह रही थी कि उसका भी पेपर खराब हुआ है … अगर आप …” मैं बीच में ही रुक गयी, ये सोच कर कि समझ तो गये ही होंगे।चल ठीक है.

पैंटी के नीचे भाभी ने गुलाबी रंग की ब्रा और पैंटी पहनी थी और उसका दूध सा गोरा बदन ऐसे लग रहा था जैसे पानी में कमल खिला हुआ है. वो बोली- तुम सिगरेट भी पीते हो?तो मैंने कहा- मैं तो और भी बहुत कुछ पीता हूँ. हमारा स्नानागार ज्यादा बड़ा नहीं था, इसलिए इस तरह से पेशाब करना संभव नहीं था कि वो मेरे पीछे कुत्ते की तरह झुक कर मेरी योनि चाट सके.

राजस्थानी चोदा चोदी बीएफ

वैसे तो मैं एक सीधा सा लड़का हूं, क्लास में भी लड़कियों से बहुत कम ही बात करता हूं.

मामी बोलीं- तुम तुम्हारे मामा की क्यों टेंशन लेते हो, उसकी परमीशन में ले लेती हूँ. उसके बाद कुछ ही धक्के मुंह में गये होंगे कि मेरे लंड ने पानी को उसके मुंह में छोड़ दिया. उसने मुझे खड़ा किया और बोला- नाउ योर टर्न!उसने मेरे गले को चूमना शुरू किया और मेरे कंधे तक जाके साड़ी की पिन को हटाया, पल्लू को हाथ में लेके साड़ी खोलने की कोशिश करने में उलझ गया.

पूरी नंगी लड़की को देख कर मेरा तो लंड फटा जा रहा था, मैंने फूलमती से कहा- मुझे चोदना नहीं आता!तो वो बोली- मुझे तो आता है, तू मेरे उपर आ जा!मैं उसके उपर आ गया. आहना के पेट पे हमारी प्रेमलीला के कारण पसीने में थी और मैं उसका पसीने से भीगा पेट चूम रहा था या कहिये कि मैं उसका पसीना चाट रहा था. नौकरानी मालिक का सेक्सी वीडियोमैंने फिर से एक धक्का दिया और दूसरे धक्के में पूरा लंड उसकी चूत में उतर गया.

बेचैन होकर मैं रोने लगी, तब दीदी ने अजय को रोकने का प्रयास किया पर अजय गुर्राकर आंख दिखाने लगा. मेरा चेहरा ठीक अपने चेहरे के सामने पाकर उन्होंने तुरंत ही फिर से आंखों को बंद कर लिया.

पढ़ाई में अच्छा होने के कारण मुझे अच्छी जॉब मिल गई थी, पर मुझे सरकारी नौकरी चाहिए थी. अपने बगल की आंटी के साथ तो मामी ने एक बार मुझे लेकर थ्री-सम भी करने को कहा था. इससे चिन्टू का हौसला बढ़ गया और इसके बाद मीना भी अपने को नहीं रोक पायी तो मौसी भांजा रिश्ते की मर्यादा तार तार हो गई.

उनकी वासना भड़क उठी थी और हम दोनों बिस्तर पर चूमाचाटी का मजा लेने लगे थे. मैंने कहा- बेटा, तू इतना डर क्यों रहा है? अब डरने की कोई बात नहीं है. हम दो बहनें हैं, मेरी बड़ी बहन कुसुम जो मुझसे 7 साल बड़ी है। मैं घर में सबसे छोटी हूं और शुरू से सबकी बहुत दुलारी रही हूँ।बात उस वक्त की है जब मैं 18 साल की थी। हमारे यहाँ एक मुंहबोली बुआ जी का आना जाना था.

जब प्रसंग पूरी तरह से चुदाई करके अपने घर चला गया तो मैंने आरती से कहा- यार, तुम तो बहुत पहुँची हुई चीज़ हो.

जब भैया को जम कर नशा चढ़ गया, तब मैं बोला- भैया, अब मैं भाभी के साथ होली खेल लूँ?भैया बोले- हां हां आज तो होली का दिन है … रंग दे अपनी भाभी को …भाभी बोलीं- नहीं अमित … मैं अभी नहा कर साफ़ होकर आई हूँ … अब रहने दो. मैंने उसकी दोनों टांगों को दोनों तरफ से पकड़ कर और ज्यादा फैला दिया.

सासू माँ- बेटा, इस घर में काम करने के लिए नौकर नौकरानी हैं, तुझे क्या जरूरत काम करने की!मैं- ह्म्म्म … वो …फिर मैं अपनी बात कहते हुए रुक गयी. धीरे-धीरे मैं नीचे की तरफ बढ़ रहा था और अनुष्का मेरे चूमने से अपनी गांड को और ऊपर उठाती जा रही थी. मेरी मुलाक़ात उन दोनों से हुई, बातें हुई, और अच्छी पहचान बन गई क्योंकि मैं भी मज़ाक और जोक्स का माहिर था, तो हमारी खूब जमने लगी.

जैसा कि मैंने पिछले भाग में बताया था कि वहां के लोगों के किराए को अपनी आमदनी का साधन बना रखा है तो यह बिल्डिंग भी वैसी ही बनाई गई थी. फिर हम दोनों एक दूसरे को जोर जोर से किस करने लगे। लिप-किस का दौर लंबा चला. चिन्टू खाट से उठा और मीना के पास जाकर उसके गले में अपनी बाहें डाल दीं.

हनीमून बीएफ फिर विजय बोला- उनके पास जाकर चुदने की क्या पड़ी थी तेरे को … मैं जब से तेरे को चोदना चाहता था और इधर ये बात भी सोच कि घर की बात घर में रहेगी, मैं तुझे हर वक़्त चोद सकता हूँ. ”उन्होंने मेरे हाथ में एक बड़ी कैडबरी रखी, उसे देख कर मैं भी पिघल गयी.

सेक्सी दिखा सेक्सी बीएफ

उस वक़्त रात के करीब 9:30 हो रहे थे और स्टोर पर भी दुकानदार के अलावा कोई नहीं था. मैं भाभी के होंठों को चूसने लगा और साथ में उसके चूचों को भी हाथों से दबाने लगा. उसने बोला- अन्दर मेरे हस्बैंड नहीं हैं, वो कुछ दिनों के लिए बाहर गए हुए हैं.

जब वह झुक कर मुझे जूस का गिलास देने लगी तो उसके टॉप के अंदर लटक रहे उसके चूचे मुझे साफ-साफ दिखाई दे गए. कुछ पलों तक दीदी की चूत को चाटने के बाद विनय जीजू ने अपने लंड को दीदी की चूत पर रख दिया और उसकी चूत में अपने लंड को अंदर की तरफ धकेल दिया. ज्योति की सेक्सी पिक्चरकुछ देर बाद 69 की सी स्थिति बन गई और संजय का लंड कोमल के मुँह में आ गया.

तुम्हें कहना चाहिए… वाह… भरी भरी चुचियां, भरपूर चूतड़ … क्या माल है.

नहाते हुए मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया और मैंने फिर से बाथरूम में उसकी चुदाई कर डाली. मीना को तन का जो सुख चिन्टू से मिल रहा था, वो सुख ननकू के बस में नहीं था, चिन्टू का नया खून था, नया जोश था उसमें … और फिर चोरी का फल तो ज्यादा मीठा लगता ही है.

तभी रानी मेरे बिल्कुल नज़दीक आ गयी और मेरा हाथ पकड़ के चूत के मुंह से लगा दिया. मैं समझ गया कि इसको चुदना तो है, लेकिन ये पहली बार के कारण डर रही है. अभी तक कहानी के पिछले भाग में कल्पना ने बताया कि मेरी सास मुझे एक कॉल ब्वॉय से मिलने को समझा रही थीं और मैंने उन्हें ‘सोच कर बताती हूँ.

और कमाल की बात यह है कि गर्मियों की छुट्टी में शादी होने वाली है तो तुम्हें भी छुट्टी होगी.

मैंने पूरा शांत हो कर मामी जी के कंधे पर अपना सर टिका कर उनको कस के पकड़ लिया. तब तक पड़ोसन घर में घुस गई और मेरी तरफ़ देख कर बोली- आजकल जमाना ख़राब है और कोई भी किसी का ध्यान नहीं रखता है. दीदी की सासू माँ बोल रही थी- बाबू, तेरी दीदी ना शादी करना चाहती है.

सेक्सी वीडियो मराठी सेक्स वीडियो मराठीउसने कहा- आज मुझे वाकयी में बहुत सर्दी लग रही है, मैं सो जाती हूँ, तू कुछ देर बाद मुझे उठा देना. मामी वैसे ही हॉट लगती थीं, लेकिन तैयार होकर वे और भी ज्यादा सुन्दर लग रही थीं.

बीएफ सेक्सी एचडी ब्लू पिक्चर

कपडे हाथ में लेकर अपने कमरे में जाने लगी तो मुझसे चला भी नी जा रहा था. मामी जी ने भी मस्ती में आकर अपनी जांघों को थोड़ा सा खोल कर दीवार पर अपनी हथेलियों को जमा दिया. लेकिन फिर दूर जाकर टेबल के पास बैठ गयी और बोलने लगी- मुझसे गलती हो गयी बहुत बड़ी! और मैं आगे से कभी नहीं करुँगी तुम्हारे साथ.

उसका पति संभोग तो चाहता होगा, मगर वो रोज रोज के एक तरह से करने से ऊब गया होगा. इतना कह कर मैंने उसकी स्कर्ट ऊपर कर दी और उसकी लाल रंग की पेंटी निकाल कर फेंक दी. जब वह मेरे पास पानी लेकर आई तो मुझे झुककर पानी का गिलास पकड़ाने लगी.

कभी थोड़ी दूर चली जाती, तो कभी बिल्कुल करीब आकर मेरी आँखों में आँखें डाल कर नितम्ब लचकाती या कमर मटकाती. मैंने जाते ही भाभी के बिल्कुल पीछे खड़े हो कर अपना लंड उनकी गांड पर टच कर दिया. फिर एक ही झटके में भैया ने भाभी की चड्डी निकाल फेंकी और भाभी की चुत पर भी रंग मल दिया.

और अगर तुम्हारी सैलरी बढ़ती भी है, तो बस 10% बढ़ेगी क्योंकि यह कंपनी का रूल है. फिर सबने खाना खाया और सोने की तैयारी करने लगे।अभी तक मैं जब भी दीदी के यहां जाती थी तो दीदी जीजू के साथ बेड पर ही सोती थी इसलिए मैं बेड पर ही सोने लगी.

मैंने उससे कहा- कॉलेज जाना कैंसल कर दो … आज तुम्हारे ही घर पर क्लास चलेगी.

भाभी नंगी ही अपनी गांड मटकाते हुए उठकर किचन से लिक्विड चॉकलेट का डिब्बा ले आई. इग्लिश सेक्सीउन्होंने मुझसे लंड की साइज़ पूछी, तो मैंने उन्हें बताया कि ये 8 इंच+ का है और अब चार इंच गोलाई में मोटा हो गया है. सेक्सी मुसलमानी की चुदाईमेरा चेहरा ये सोच कर ही लाल हो गया था कि अब वह तलाशी के बहाने जाने कहाँ-कहाँ हाथ लगायेंगे. फिर अगले ही पल वो पुनः मेरी नाभि के अन्दर तक जुबान डाल कर कुछ टटोलने सी लगी.

मेरे लंड की रगड़ को अपनी गांड के अन्दर महसूस करके, मामी जी भी अब पूरी मदहोश हो चुकी थीं.

अब मुझे लग रहा था कि इसको तो लंड मिल जाएंगे, लेकिन सालों ने मेरी गांड मार दी या मेरे साथ गलत किया तो मेरा क्या होगा. इस बार चूत की मलाई की चिकनाई की वजह से लंड आसानी से चुत में समाता चला गया. मैंने उससे कहा कि उस दिन वो किस मेहनत की बात कर रही थी?तो सरोज भाभी ने कोई जवाब नहीं दिया बस मुस्कुराने लगी.

आप मेरी कहानी पर कमेंट्स के ज़रिए भी बता सकते हैं कि आपको मेरी कहानी कैसी लगी. उसने एक ही झटके में अपनी गांड को उठाते हुए मेरे लंड को चूत में खींच लिया. मैंने कहा- मैडम, मैं किसी को भी इस बात के बारे में नहीं बताऊंगा, पर प्लीज कम्पनी से मत निकालो.

जिओवीडियोकॉल बीएफ

मेरे मकान मालिक के वहां जो औरत झाड़ू पौंछा लगाने आती थी, उसने भी हमारी ही गली में किराए पर मकान लिया हुआ था. यह सब सुनकर मैं मन ही मन बहुत खुश हो गया कि कल से माँ मेरी हो जाएगी. इंदु जब लंड के ऊपर नीचे होती उसकी 36 इंच की चुचियाँ हवा में उछल कर ऊपर नीचे होती जो मेरे जोश को और बढ़ा देती.

10-15 मिनट बाद एक मोटरसाइकल के रुकने की आवाज़ आई तो आरती बोली- पुन्नी ले, तुझे चोदने के लिए लंड आ गया है.

हिना ने अपने बारे में बताया और कहा कि यदि उसको भी इस फ्लैट में रख लो, तो रोज ही समूह में चुदाई का मजा आएगा.

मैं मदहोशी से ज़ोर ज़ोर से सिसकियां लेने लगी- आआहहह स्टीव खेलो मेरे साथ. आशीष अब बिस्तर में चढ़ गया और बोला- अब मैं तेरे एक-एक कपड़े उतारता हूं. देसी चुदाई वाला सेक्सीउसे किस करने के पकड़ा, जिसकी वजह से मेरा मुँह उसकी गर्दन पर आ गया था.

उसमें बेड लगा हुआ था, एक छोटा सा टेबल, एक चेयर और एक तीन सीटर सोफ़ा लगा था. कल्पना की आपबीती सुनने के बाद सच में मुझे कुछ समझ नहीं आ रहा था कि मैं क्या बोलूं क्योंकि उनकी कहानी सुनने के बाद मुझे भी फील हुआ कि उनके साथ धोखा किया गया है. ’या फिर ‘कभी अंदर भी पिचकारी मारी है, या बाथरूम में ही बहा देते हो सब?’एक बात मैंने नोट की थी, कि रज़िया भाभी की तबियत कभी-कभी अचानक ख़राब हो जाती थी.

वहां भी सब सिर्फ सेक्स के लिए बात करते हैं, लेकिन तुमने मुझे अच्छे से बात की, मेरा ध्यान रखा. मेरी चूत ने जल्दी ही पानी छोड़ना शुरू कर दिया पर बैडमैन मानने को तैयार ही नहीं था कि वो मेरी चूत छोड़े.

मिसेज पाटिल की चुत, जो पहले से ही गर्म थी, एकदम से बूंद बूंद कर चमकता हुआ पानी छोड़ने लगी.

अपनी गांड में वीर्य की गर्माहट महसूस करती मामी जी एक बार फिर जोर से चीखते हुए झड़ने लगीं- औअहह हहहहहहा … मैं भी गयी … अहम्म्म्म ममम. जोश में आकर मैंने भी उसका पूरा साथ दिया और एक बार उसके होंठों को काटा. मगर मामी तो गर्म हो चुकी थी और कूद-कूद कर लंड को अंदर निगल रही थी उनकी लंडखोर चूत.

आपकी भाभी सेक्सी मेरे मुंह में सोनू की चूत की दोनों फांकें और उसका क्लिटोरिस आ गया था और मैं उन्हें खाए जा रहा था. अब कोमल पूरी भीग चुकी थी और उसकी टी-शर्ट उसके बदन से एकदम चिपक गयी थी जिससे उसके बोबे और निप्पल साफ़ झलक रहे थे.

वो अपने साथ एक क्रीम की शीशी लिए हुए था, उसने उसमें से बहुत सी क्रीम निकाल कर मेरी बुर के अंदर अपनी उंगली डाल कर अच्छी तरह से लगा दी. मैंने भी मौके का फायदा उठाकर दोनों हाथ उनके टॉप के अन्दर करके उनकी कमर और पीठ को सहलाने लगा. वो कहने लगीं- ये सब क्या बोल रहे हो?तब मैंने उनसे कहा- मुझे चोदते समय गालियां देना अच्छा लगता है.

साउथ फिल्म का बीएफ

समझी?” उन्होंने गुर्राकर कहा।सर प्लीज़ …” मैंने सहम कर उनकी आँखों में देखा. अम्मी चाय नाश्ता बिस्तर में रख कर भाभी को बाहर ले गयी और कहा- तू चल, मुझे मालूम है क्या हो रहा है. उनके मुँह से चादर निकाल कर बड़े प्यार से उनके होंठों को किस कर रहा था.

वो मुझे देखते हुए बोली- तुमको कैसे पता?तो मैंने उसकी चुत के पानी वाली पूरी बात बता दी. उस समय मेरी बीवी पेट से थी, तो मैंने कई दिनों से सेक्स नहीं किया था.

मैंने उसकी आंखों में आंखें डाल कर देखा तो उसने मेरे लंड को पकड़ लिया.

इसके अलावा वह खेतों में मेहनत करते तो इनके जिस्म और कपड़ों से मस्त महक आने लगती थी. फिर भी एक और दबी-घुटी हुई हलकी सी चीख निकल ही गई- ई ई माँ … ऊऊ ऊ आ … आ आ ई ई माँ … आ आ आ … मर र र र गई … ईई ई ईई … सी … सी. मैं बिना कुछ कहे किचन से बाहर आ गया और मामा जी के साथ टीवी देखने लगा.

मगर मामी तो गर्म हो चुकी थी और कूद-कूद कर लंड को अंदर निगल रही थी उनकी लंडखोर चूत. तभी उसने खुद ही बता दिया कि वो संभोग पूर्व प्रायः मुख मैथुन करना चाहते थे, पर मैं ही अपनी भागीदारी नहीं दे पाती थी. जैसे ही कोई मजबूत लंड मेरी चूत के लिए मिलेगा, मैं उसके साथ अपनी चूत चुदाई की कहानी आप सभी के सामने पेश करूँगी.

कई बार तो सोचता था कि जॉब छोड़ दूं, लेकिन फिर जल्दी जॉब ढूंढना आज के टाइम में बहुत मुश्किल भी तो है़, इसीलिए कंटिन्यू जॉब करता रहा.

हनीमून बीएफ: तभी जो गाड़ी मेरे को पास करते हुए आगे निकली थी, वो गाड़ी आगे जाकर स्लो हो गई. मैं- हां मम्मी जी, आप ही कोई सलाह दो मुझे …सासू माँ- तू 2-3 महीने तक रुक जा यहां और जैसा मैंने बताया वैसी लाइफ जी कर देख ले, अगर तुझे ठीक ना लगे तो चली जाना अपने मायके … और वसीयत अपने ही पास रख या तो अपने मायके भिजवा दे.

आरती तो नहीं घबरा रही थी मगर प्रसंग का खड़ा लंड एकदम से ढीला होकर मूंगफली की तरह से हो गया. मैंने जल्दी से उसके गालों के ऊपर किस की और फिर उसके नर्म मीठे होंठों को चूसने लगा. ममता बोली- सही कहती है मामी …सुधा बीच में ही ममता को टोकते हुए बोली- अरे, आगे की बात तो सुन.

फिर मैंने चाची को कुतिया बनने को कहा, चाची भी झट से कुतिया की तरह घुटने और हाथ के सहारे बैठ गईं.

मगर उसका दिल आपके मामा जी पर आया तो हम लोगों के रहते हुए भी उनसे चुदवा कर आ गयी थी. जब मैं कुछ बड़ी हुई, तो मेरी बहुत इलाज हुआ और झाड़-फूंक के बाद तबियत ठीक हो गई. और हमारी बातें खत्म हुई, दोनों हल्के नशे में खड़े लन्ड लेकर अपने अपने जुगाड़ के पास पहुँचने को निकल पड़े।[emailprotected].