बड़े लिंग वाली बीएफ

छवि स्रोत,क्सक्सक्स २०२१

तस्वीर का शीर्षक ,

ब्लू फिल्म सेक्सी 2000: बड़े लिंग वाली बीएफ, मैंने भी 69 में आकर भाबी की टांगों को फैला दिया और उनकी झांट रहित गुलाबी चुत पर अपने होंठ रख दिए.

सेक्स ससस

मैंने कभी उसको गंदी नजर से नहीं देखा था, पर हां पूजा की बहन वर्षा को मैं उससे प्यार करता था और ऐसा लगता था कि वर्षा भी मुझसे प्यार करती थी पर हमने कभी आपस में प्यार का इजहार नहीं किया था. एक्स एक्स एक्स कुमारी लड़कीतुम देख लेना, जाने से पहले मैं उनको भी चोद कर ही रहूँगा, वो भी तुम्हारे सामने ही चोदूँगा.

धीरे धीरे मैं और वो आपस में बात करने लगे और दोस्ती अब प्यार का रूप ले चुकी थी. x वीडियो हिंदीबस यूं समझ लो कि एक रस्सी थी जो निप्पल तब दिखती थी, जब उसको कसके अपने निप्पलों पर रखूं.

पूनम मेरे मुँह के ऊपर अपनी चुत को ले आई और मैं उसकी मरमरी चुत को सक करने लगा.बड़े लिंग वाली बीएफ: यहाँ पर और भी लड़कियां आती हैं और यहाँ से जाते हुए पूरी रंडी बन कर निकलती हैं.

सुबह मेरी नींद खुली तो दिन निकल आया था, मैं नंगा नंगी मौसी की बगल में लेटा था.मुझे महसूस हुआ कि उसने एक हाथ से मेरा लंड पकड़ लिया और अपनी चूत के नीचे फिट कर लिया.

चुदाई वाला सेक्स - बड़े लिंग वाली बीएफ

मुझे बहुत मज़ा आ रहा था क्योंकि किसी ने भी आज तक ऐसे बाँध कर मेरी चुदाई नहीं की थी.चूंकि मैं हर लड़की की इज्जत करता हूँ… सो उस लड़की की खूबसूरत दिखती फोटो की तारीफ़ करने लगा.

उन्होंने अपने अंगूठे और उंगली के बीच मेरी चूची को लेकर मसल दिया मैं सिसकारी भर उठी।उन्होंने दूसरी चूची को अपने मुंह में ले लिया और प्यार से चूसने लगे, उनका हाथ अब मेरे पेट और नाभि के ऊपर से होकर मेरी चूत तक पहुंच गया था, उन्होंने प्यार से मेरी चूत को सहलाया और एक उंगली मेरी चूत में डाल दी. बड़े लिंग वाली बीएफ वैसे हाँ, लेकिन वो बहुत बिजी है अपने काम में, सिर्फ सन्डे और छुट्टियों में ही खाली रहता है.

मैं कई लड़कियों को लंड का चस्का लगवा कर इस रास्ते पर लाई हूँ, यह तो साली विधवा है, जिसे लंड की सख्त ज़रूरत है.

बड़े लिंग वाली बीएफ?

प्रथम वर्ष की मार्कशीट नहीं आई है इसलिए बेटा तुम चाहो तो मेरी कार ले जाना, लेकिन आज ज्योति को लेकर यूनीवर्सिटी चले जाना और इसकी मार्कशीट लेकर इसे कॉलेज में दाखिला दिलवा देना. जब मम्मी पापा को ये पता चलेगा तो उन पर क्या बीतेगी?उसने मुझे बोला- सॉरी भैया, मुझे माफ़ कर दो. मैडम ने मेरे मुँह में एक गिलास में पहले से बना हुआ रस जैसा कुछ डाला और कहा- पी लो.

भाबी झट से तैयार हो गईं और मैं भैया भाबी तीनों एक ही बाइक पर बैठ कर चल दिए. फिर उसने धीरे धीरे अपना एक हाथ आगे बढ़ाया और मेरे बालों को सहलाने लगा और धीरे से कहा- अपना ध्यान रखा करो. )वह ठेट मलवीय कड़क भाषा में बोलता हुआ बहुत सेक्सी लग रहा था लेकिन आगे की बातचीत मैं आपको हिंदी में ही बताने जा रहा हूँ.

मेरे पूछने पर भाबी ने बताया कि चाची आजकल पास में अपने भांजे की बहू से मिलने जाती हैं. जो उसने कहा था वो पूरा धोखा था और उसने वहाँ पर 6-7 लौंडों को बुलवाया हुआ था. मैंने कॉल करके कन्फर्म किया, एकता को देखा तो अपने रूम में सो रही थी.

उसकी बेचैनी से लग रहा था मानो वो अपनी बरसों की प्यास आज बुझाने का प्रयास कर रही हो. आज मैं भी शरारत के मूड में थी- क्या बात है जनाब, आज आप चूमेंगे नहीं हमें?मुझे क्या पता था कि वो तो तैयार है.

इसलिए उसके लंड को अन्दर जाने में ज़रा भी प्राब्लम नहीं हुई… बस मुझे जरा सा दर्द हुआ.

और मुझे तुमसे प्यार कर कर के मेरा मन कभी भी नहीं भरता हैवह- अगर यह मजा दुगना हो जाये तो कैसा रहेगा?मैं- मैं कुछ समझा नहीं? तुम क्या कहना चाहती हो?अब मेरे मन में भी लड्डू फूट रहे थे कि ये लोग अब मुझे कौन सा नया मजा देने वाले हैं जिसे पाकर में बहुत खुश हो जाऊँगा.

अभी भाभी की गांड में मेरे लंड का टोपा ही घुसा था कि पायल भाभी चिल्लाने लगीं- पंकज मेरी गांड फट जाएगी. भाभी को शायद अब तक कुछ पता नहीं चला था, इसलिए मैं अपने हाथ को ऊपर करते हुए उसके मम्मों के ऊपर रख दिया. आ!!अचानक मेरे गाल के धक्के से प्रिये के दाएं उरोज़ का कप थोड़ा ऊपर उठ तो गया लेकिन अभी प्रिया की पीठ पर ब्रा का हुक बंद होने की वजह से हटा नहीं.

मुझे जो टॉयलेट दिया गया था, वो उनके टॉयलेट से बिल्कुल सटा हुआ और ऊपर से खुला हुआ था. इसका नतीजा यह हुआ कि अब उसने मेरा लंड जोर से पकड़ लिया जो कि पूरे विशालकाय रूप में आ चुका था. कहते है जितना गहरा मेहँदी का रंग उतना गहरा प्यार!मैं- पर हमारा प्यार तो सिर्फ कुछ इंच गहराई तक पहुँच सकता है!इतना बोल कर उसके चूत में उंगली डाल दी और वो उचक कर मेरे गले लग गयी.

जब रात का खाना हो रहा था तो चंदर ने मुझे आंख मार कर धीरे से कहा- याद है ना वो…मैंने भी आँख मार कर कहा- हां सब याद है.

जब उन्होंने मनोरमा की तरफ देखने की कोशिश की तो वहाँ पर मैं थी और मनोरमा को बाहर जाने के लिए बोला जा चुका था. फिर उसने शहद की शीशी में मेरा लंड डाला और उसको अपने मुख में लेकर चूसने लगी जैसे कोई बच्चा लालीपोप चूसता है. मैंने कुछ दिन तक दीदी को नहीं घूरा और कुछ दिनों के बाद वो मुझे गुस्से से देखने लगी थीं.

” मैंने बोला।राजू ने हम तीनों के ग्लास हमारे हाथों में दिए और राखी का ग्लास टेबल पर रखकर जाने लगा तो सीमा बोली-ओह… राजू… कहाँ जा रहे हो… तनिक रुको ना!राजू अपनी जगह पर रुक गया. गर्मी की छुट्टियां थी, पूजा मामी और उनकी फेमिली मेरे घर आई हुई थी, रात हुई, सबने रात को खाना खाया और बातें करने लग गये. मुझे मालूम तो था कि पहली चुदाई में ये सब दर्द होना ही था, मगर मुझे पैसे के लिए ये सब करना पड़ रहा था.

मुझे लगा कि चाची मुझे गांड मारने से रोकेंगी लेकिन चाची ने कहा- गांड में घुसाने से पहले थोड़ा तेल लगा ले नहीं तो मेरी फट जायेगी.

क्यों मेरी जान मजा आया, पानी में आग भुझवा कर?”अर्पिता- जानू, एक बार तो मेरी सांस अटक गयी थी. दस मिनट चाटने के बाद कहने लगी- ओह यार… ये मैं क्या कर रही हूँ…मैंने हंस कर कहा- तुम केला खा रही हो.

बड़े लिंग वाली बीएफ मुझे बहुत गुस्सा आया, मैंने फिर से लंड उसकी देसी चुत पे रखा और पूरी ताकत लगाकर इतनी जोर से धक्का लगाया कि मेरा पूरा लंड उसके चुत को चीरते हुए अन्दर घुस गया. ’ कहते समय मैंने महसूस किया कि भाभी की आँखों में वासना के डोरे तैर रहे थे.

बड़े लिंग वाली बीएफ रंग उसका बिलकुल गोरा था, 36 साइज के टाइट मम्मे थे, जब पहली बार देखा तो देखता ही रह गया. उसने कामिनी से कहा कि देखा तुमने इसको?कामिनी बोली- यार ये तो बहुत बड़ा कमीना है, आज इस हरामजादे की गांड मारो.

मेरे घुसते ही उसने सारे गेट बंद कर दिए और अन्दर आकर मुझसे मुस्कुरा कर पूछा- क्या लोगे? ठंडा लोगे या गर्म?मैंने कहा- गर्म.

महिलाओं को जोश की गोली का नाम

”हाँ चलो दिखाओ, अगर सही होगा तो ये चेतना निकाल देगी मक्खन, निकालेगी क्या चाट चाट कर खाएगी. मैं उसकी चूची दबाने लगा और उसे उसका दर्द भुलाने के लिये उसे गर्म करने लगा. मेरी सेक्स कहानी के पिछले भागमेरे घर में मेरी चालू बीवी को उसके बॉस ने चोदामें आपने जाना था कि मेरी बीवी अपने बॉस के साथ पूरी रात कमरे में चुदवाती रही.

उसने मुझे गुस्से से देखा और अपनी चूची को सहलाते हुए बोली- बुरा मानने वाली बात नहीं है, पर क्या कोई इतनी जोर से दबाता है?मैं समझ गया कि मैं बच गया और मैंने मजाक में हंसते हुए उसकी दूसरी चूची धीरे से दबा कर पूछा- क्या इतना ठीक है?वो हंस पड़ी और बोली- हां, इतना ठीक है. कामिनी ने जोर से आवाज लगाई- राहुल विवेक और मेरे लिए दो गिलास लेते आओ, साथ में कुछ नमकीन वेफर्स और नमकीन लेते आना. पहले मैं आप सभी का शुक्रिया अदा करना चाहूँगा कि आप सभी ने मेरी कहानीपति से निराश आशा की चुदाईखूब सराही.

उसने मेरा लंड पकड़ कर बोला- ओहो इतना बड़ा… इसे लेने में तो मजा आ जाएगा.

उसके बाद मैंने चाची जी की पूरी बॉडी पर किस किया। वो अभी भी सो रही थी, अब मैं उनका हाथ पकड़ कर अपने लंड पर रखने ही वाला था कि मैंने अचानक बाहर से आवाज सुनी। मैं डर कर साइड हो गया और बाहर जा कर देख तो वहाँ बिल्ली के दो छोटे बच्चे खेल रहे थे. ”मैंने कहा- अच्छा आप कॉफ़ी बनाइये… मैं आपको सुलाने का इंतज़ाम लेकर आता हूँ. मैं अगर अंकल की जगह होता तो अब तक ढीले आम की तरह से लटका चुका होता.

मकान मालिक मुझे हचक का चोद रहा था और हम दोनों लोग मादक सिसकारियां ले रहे थे और कमरे में आह आह आह की आवाज आ रही थी. काफी देर तक उसके मम्मे चूसने के बाद उसने मुझे अलग किया और बोलने लगी कि सिर्फ चूचों के पीछे ही लगे रहोगे या आगे भी कुछ करोगे. हम दोनों एक दूसरे में खो गए और आंखें बंद करके उस पल का मज़ा लेने लगे.

वो बोला कि अगर में चाहता तो तेरी चुत में भी वीर्य डाल सकता था मगर मुझे पता है कि 9 महीने वाली प्राब्लम हो सकती है इसीलिए मैंने तुम्हारा मुँह चुना था. भाभी को किस करते हुए कई मिनट तक मजा लिया और साथ ही उसके मम्मों को दबाया.

तभी आंटी जी भी आ गईं, ब्लैक ड्रेस में क्या मस्त माल लग रही थीं और उनकी वाइट ब्रा साफ साफ़ दिख रही थी. मैंने विवेक के हाथ में कामिनी का हाथ दिया और बोला- मेरी कामिनी को खुश कर दीजिए. सविता भाबी- आह… आह… आ व्व्व्व्व्… मर गई…भाबी कराह भरी सिसकारियां लेने लगीं.

ये सुनकर मैं दंग रह गया और मैंने उसे ये कहकर टाल दिया कि वो देख रही थी मैं तो नहीं देखता.

मैं भी तेज़ी से धक्के लगते हुए जबरदस्त चुदाई की और इस बीच वो 2 बार पानी छोड़ चुकी थी. यह हिंदी सेक्स स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!दोस्तो, लग रहा था कि ऊपर वाला मेरे ही साथ था उस दिन!सब को सोया देख मैं भी बाथरूम में चला गया और जाते ही पूजा मामी को अपनी बाहों में भर लिया और उसके लिप्स को चूसने लगा. मेरी इस लव रोमांस इरोटिक रियल सेक्स स्टोरी आप सभी के कमेंट्स के लिए मुझे मेरी मेल पर इन्तजार रहेगा.

दोस्तो, आप समझ नहीं सकते कि मुझे लंड चुसाई में कितना आनन्द आ रहा था. करीब मिनट की धकापेल चुदाई के बाद उसने मुझे नीचे लिटा कर तेज तज चोदना शुरू कर दिया.

ये आप पक्के में जान लीजिएगा कि भारत में कोई सच्चा जिगोलो क्लब एक भी नहीं है. ” कह कर हँसने लगी फिर छोटी बच्ची की तरह रोने लगी।राजू ने मेरी तरफ देखा, मैंने आँखों से ही उसे लाने का इशारा किया।ठीक है मेमसाब लावत है…” कहकर वह नीचे चला गया।रंजू अब अपने दुप्पटे को हाथों में लेकर खेलने लगी, राखी रोना बंद करके बाथरूम चली गई, चेतना तो एकटक दरवाजे को देखती रही।मैं सब को देखकर हँसने लगी।तभी दरवाजे पे दस्तक हुई।आ जाओ. मुझे बाद में पता चला कि सर की वजह से प्रिंसिपल की बेटी को गर्भ ठहर गया था.

सेक्स वीडियो फैमिली

उन्होंने रास्ते में मुझे बहुत सारी खाने की चीजें दिलाईं और हम 3 घंटे के बाद मौसी के घर पहुँच गए.

जिसका दरवाजा मेरे रूम में भी खुलता था मगर मुझसे पापा ने कहा हुआ था कि अपना रूम अन्दर से बंद करके रखा करूँ. कामिनी फ्रूट्स उठा कर ले गई और उसकी गोद में बैठ कर अंगूर खाने लगी और विवेक को खिलाने लगी. फिर मैंने हल्का सा धक्का दिया तो मेरे लंड का सुपारा उसकी चूत में घुस गया और उसकी चीख निकल गयी तो मैंने अपने लिप्स उसके लिप्स से मिला दिए ताकि उसकी आवाज़ बाहर ना जाये.

सुबह जब चुत पूरी फूल कर लाल ना हो जाए और मम्मों पर मेरे दांतों के निशान ना पड़ जाएं. फिर हम दोनों 69 में हो गए और ओरल सेक्स करने लगे, भाभी मेरे लंड को बड़ी प्यास से चूस रही थीं और मैं उनकी चूत को कभी चाट रहा था, तो कभी हल्के से काट रहा था. बफ हिंदी वीडियो सेक्सीमैंने कहा- अब मैं चलता हूँ!तो रश्मि ने कहा- यह कैसे हो सकता है? यहाँ मैं सुबह से आप लोगों की इन्तजार कर रही हूँ और आप अभी जाने की बातें कर रहे हो? आप आये अपनी मर्जी से हैं, जाएंगे मेरी मर्जी से!मैंने कहा- मेरी एक क्लाइंट से आज सायं को मीटिंग है, अतः मैं कल आऊंगा.

मुझको बहुत गुस्सा आया, पर मैंने मन में सोचा ज्यादा दिमाग लगाना बेकार है. आंटी मेरी गीली पैन्ट देख कर हंस पड़ीं और बोलीं- तुम्हारी तो गीली हो गई.

थोड़ी देर चूसने के बाद मैं उठकर बैठ गई और उसकी टांगों को चौड़ा करके उसकी बुर को एक पल के लिए निहारा और फिर अपना मुँह उसकी बुर पे लगा दिया. जज्जी क्या हुआ क्या हेल्प चाहिए आपको?मैडम जी ने कहा कि मेरे रूम का पंखा बहुत स्लो चल रहा है और गर्मी भी बहुत हो रही है. एकता ने पूछा- ये लड़का कौन है?डॉली ने कहा- ये हमारा सेवक है, जो हमारी रात दिन सेवा करता है.

सुहानी बोली- किस लिए थैंक्स?मैं बोला कि आपने हमको प्यार करने का मौका दिया. फिर उसने अपनी स्पीड थोड़ी धीमी की और मेरा मुँह को अपने वीर्य से भरता चला गया. मैंने उसकी चूची मसलते हुए कहा- किसको क्या दोगी कुछ नाम भी तो लो जानेमन.

नंदा रानी के बारे में जानने के लिए कहानी पढ़ेंचंदा रानी की कुंवारी बहन की नथलेकिन रेखा रानी का जूस कोई सामान्य जूस नहीं था, यह तो शहद जैसा गाढ़ा था.

कामिनी जोर से बोली- राहुल!मैंने कहा- हां…वो बोली- जल्दी से इधर आ… और साफ़ कर. भाभी ने भी उसको पहली बार इतना खुश देखा था, ऐसे ही बातें चलती रहीं और भाभी को पता लगा कि हम दोनों हर संडे को गोटिला गार्डेन में खेलने के लिए आते हैं.

तब आशीष ने मेरी तरफ देखा, मैं आशीष की तरफ देखकर मुस्कुरा दी और वो मेरी आंखों में देखकर चोदने का इशारा किया तो फिर से मैं हंस दी और आंखों को नीचे कर लिया. अर्पिता- लगता है मेरी जान का मन आज फिर तड़पाने का है, मेरी चूत में पानी में भी आग लगी हुई है और तुम हो कि मेरे मम्मों से ही खेल रहे हो. जब मैं उठी तो रात भर की चुदाई से मेरी टाँगें पूरी तरह से खड़ी नहीं हो पा रही थीं.

आपको ऐसा बोलते शर्म नहीं आती?मैंने बोला- अब तुमको ये करने में शर्म नहीं आती तो मुझे बोलने में क्यों आएगी, सीधे बताओ कौन था वो लड़का?वो फिर से अनजान बनने की कोशिश करने लगी और बोली- कौन लड़का?हालांकि उसके चहरे से घबराहट साफ दिखाई दे रही थी. ”मैंने पूरी नंगी होकर उन दोनों के लंड खड़े करते हुए गाउन पहना और कहा- अब तुम मुझे किस कर सकते हो, फिर मैं अन्दर जाती हूँ. मैं तो सेक्स का भूखा हूँ और भाभी को चोदते चोदते काफ़ी अनुभव भी मिले हैं.

बड़े लिंग वाली बीएफ ”मैंने कहा- अच्छा आप कॉफ़ी बनाइये… मैं आपको सुलाने का इंतज़ाम लेकर आता हूँ. लेकिन मैं उसको पटाने के लिए नहीं जाता था क्योंकि मुझे लगता था कि ये कभी मेरी नहीं हो सकती.

सेक्सी एचडी फूल एचडी

मैं डर गई थी और मैंने धीरे से कहा- मोहन जी, रूको ना किसी ने देख लिया तो बहुत लोचा होगा. अब जब वो पानी लेने मेरे रूम के सामने आतीं तो थोड़ा हंसतीं और अक्सर बिना दुप्पटे के आ जातीं, जिससे जब वो झुककर बाल्टी भरतीं, तो उनके सोने के रंग के चुचे मुझे अपनी और बुलाते. जब मैं वापस आया तो मैंने देखा कि मैंने सैंडल पे डाला हुआ माल मैडम जी अपनी खूबसूरत उंगलियों से साफ कर रही थीं और उसी उंगली को वो अपने मुँह में डाल रही थीं.

शादी में उसकी बिगड़ी चाल देख कर कोई भी शक कर सकता था कि कहीं ये ठुक कर तो नहीं आ गई और हम फॅस सकते थे. बस आप सभी से एक इल्तिजा है कि आप किसी महिला मित्र का नम्बर मांगने की जिद न किया करें… आप सिर्फ एक कहानी समझ कर ही इसका आनन्द लें. नंगी औरतोमैंने उन्हें अपने हाथ की तरफ देखते देखा तो मैंने भाभी से पूछा कि आप तो दोपहर को अर्चना भाभी को बोल रही थीं कि मैं कमरे में रहता हूँ तो तकलीफ होती है.

पर आज मेरा सपना पूरा होने की घड़ी आ गई थी, आज मोहन के बड़े भाई की शादी थी और मैं अपने पति रवि के साथ शादी में जाने वाली थी.

मैंने उसे बेड पर चित लिटाया और उसके दोनों पैर मेरे कंधे पर रख कर उसे चोदने लगा. यह सुनते ही वो सुबकियां ले ले कर रोने लगी और वो बार बार सॉरी बोल रही थी.

एक बार फिर मैंने पानी में डुबकी लगायी, उसको नितंबों से पकड़ा और ऊपर उठा लिया. दूसरे ही दिन उन्होंने मुझे फिर कॉल किया और बताया कि आज मेरे बाथरूम के शावर में पानी नहीं आ रहा है, प्लीज़ जल्दी आ जाओ. उसने मेरे खड़े होते लंड को देख लिया था, तो शिखा अपनी चूचियों को झुका कर मुझे दिखाते हुए बोली- मैं वही सीमा हूँ जिससे तू ऑनलाईन सेक्सचैट पे पूरी रात बात करता रहता है.

उसे मम्मों को भी एकाध बार मेरी कोहनी लग जाती थी या वो खुद मुझे कुछ इस तरह से छूती कि उसकी चूचियां मेरे शरीर से रगड़ जातीं.

उनसे बात करते करते ही बारिश तेज होने लगी, तो हम दोनों बस स्टॉप के अन्दर शेड के नीचे खड़े हो गए. मैंने लंड वापस पायल भाभी की चूत में डाल दिया और पायल के बोबे चूसने लगा. वे बोले- बेटा फोन में देखूँ, टाइम क्या हुआ है?फोन मेरी टांगों के बीच में रखा था.

हिंदी एक्स एक्स एक्स व्हिडीओएक रात को मैं फ़ोन पे मेरी गर्लफ्रैंड से बात कर रहा था तो एक अनजान नंबर से बार बार कॉल आ रही थी, और मेरा फ़ोन वेटिंग में आ रहा था, अनजान नंबर था तो मैंने भी ज्यादा ध्यान नहीं दिया. यहां हमें किसी ने पकड़ लिया तो… नहीं नहीं… मैं यहां नहीं चुदूँगी… चलो वापस चलते हैं.

अस्मत पगली प्यार हो जाएगा

वो अपने दोनों हाथ मेरे पीठ पर लाकर नाखून गड़ा रही थी और अपने दांत से मेरे कंधे को काट रही थी. ”बोलते बोलते अलका रानी अचानक से ठिठक गई- राज जी… जूसी रानी कौन?मैंने कहा- मैं प्राइवेट में किरण को जूसी रानी कहता हूँ. तो आकर क्या करूँ?भाभी जी ने कहा- कभी बिना काम के भी आ जाया करो, आपके साथ में हमारा भी टाइम पास हो जाएगा.

मैंने कहा- भाभी नसीब देखने के लिए क्या दिक्कत है… क्या मैं कोई मदद कर सकता हूँ?भाभी बोलीं- तुम ही मेरे नसीब को दिखा सकते हो. भाभी अपना हाथ उसकी गांड पर रख उसे अपने पास खींच रही थीं और वो धीरे धीरे आगे पीछे होकर धक्के मारने में व्यस्त था. मैंने भी लंड उसकी चूत में घुसा दिया और फिर मंजू के ऊपर लेट कर ही उसके कान में बोला- जान, वो आदमी तुम्हें इतना चोद रहा है, उसकी कमर को तो कस लो!मंजू ने तुरन्त मेरी कमर कस ली.

यह सुन कर एकता उठी और बोली- मेहमानों की सेवा भी करोगे या नहीं?मैंने दोनों की तरफ देखा और अन्नू ने कहा- बिंदास एन्जॉय करो यार. जैसे ही बिंदु माँ ने मुझे कुछ कहना चाहा तो आशीष बिंदु माँ को पीछे से पकड़ कर उनके मम्मों को जोर जोर से दबाने लगा. मैंने अपनी पेंट हटा दी और उसकी तरफ देखा तो वो भी अपनी पेंट उतार चुका था.

तब मुझे ध्यान आया कि वो पीछे वाला आदमी कुछ ज्यादा ही चिपक कर खड़ा है और वो लोग उसी को देखकर मुस्कुरा रहे हैं. मैंने कमर पर जोर देते हुए पूरा लंड भाभी की चुत में डाला तो भाभी ने जोर से चिल्ला दिया.

और दिशा तुम दोनों की चूत चाट सकेगी, ऐसे तुम तीनों को कुछ न कुछ चाटने को मिलेगा.

जब मैंने अपनी जुबान से चुत को सहलाया तो उसके अन्दर जैसे करंट दौड़ गया. हिंदी ब्लू सेक्सी चुदाईअरे साली तुम तो पूरी जवान हो ही, बस एक बार मेरे लंड से चुद जाओगी तो तेरा कुँवारापन खत्म हो जाएगा और लड़की से औरत बन जाओगी. इंडियन पोर्न सेक्सीमेरा मन और आगे कुछ करने को हुआ, मैंने अपने पैर को थोड़ा सा और आगे किया और उसकी गांड को अपने पैर से ऊपर से ही सहलाने लग गया. वो बोला- नहीं बस डिनर लगा कर वे सब चले जाएंगे, वहां कोई नहीं रहेगा.

खैर मैंने बाथरूम में जाकर डिटॉल को पानी में डाल कर चुत को साफ़ किया और फिर बेड पर नंगी ही गिर कर सो गई.

अब मंजू एकदम मेरे काबू में थी मानो उससे जो बोलो करवा लो!मैंने मंजू से कहा- जान, तुम उस आदमी से कुछ नहीं बोलोगी क्या?मंजू- फ़क मी… चोदो मुझे… आज बहुत मज़ा आ रहा है! और करो… आह हहहहह ऊऊऊईईई ईईईई!करते करते मंजू मुझे कसती चली गयी और मैंने पूरी गति से उसको चोदना चालू कर दिया. भाभी ने अपनी पकड़ ढीली की और अपनी कुर्ती भी उतार दी, अब सिर्फ लाल रंग की ब्रा थी, उन्होंने कहा- ब्रा का हुक खोल!मैंने दोनों हाथ से भाभी की ब्रा का हुक खोल दिया. फिर विवेक ने कामिनी को सीधा कर दिया और दोनों टांगें कंधों पर रख कर दोनों हाथों से कामिनी की बड़ी बड़ी गोरी गोरी चूचियों को मसलने लगा और फुल स्पीड में धक्का देने लगा.

यूं ही चूचियों को मसलता सहलाता मैं कब सो गया मुझे कोई होश ही नहीं रहा. उन्होंने मुझे घोड़ी बना दिया और अपना लंड मेरे गांड के गड्डे पर रख दिया और उसे हिलाने लगे. भाभी कार्नर में थी, मैंने अपना फेस उनकी तरफ किया हुआ था और वो मेरी पैन्ट के ऊपर से मेरा लंड मसल रही थी, मैं भी मौका देखकर उनके निप्पल पर उंगली घुमा रहा था.

खुजली के लिए टेबलेट

कामिनी ने पल भर के अन्दर अपना टॉप उतार दिया और कुछ ही देर में वो काली ब्रा और शॉर्ट्स में थी. मैंने उसकी ब्रा का हुक खोल दिया और उसके दोनों तरफ घुटनो के बल बैठ कर पीछे से हाथ डाल कर चूचे पकड़ लिए, हौले हौले से उनको सहलाया. कभी एक टांग को ऊपर उठाकर तो कभी साईड से करवट लेकर उसकी चूत को पेलता रहा.

कुछ ही देर मैं भाभी के मम्मों का मीठा दूध मेरे गले को तर करने लगा, मैं दबा दबा कर भाभी के मम्मों का रस निचोड़ने में लगा हुआ था.

जैसे उसने मेरे लंड को धीरे धीरे सहलाना शुरू किया, तो मुझे पता चल गया कि भाभी चुत चुदाई के लिए तैयार है.

मुझे देखते ही दोनों अपने अपने कपड़ों की तरफ भागे और जल्दी से कपड़े पहनने लगे. उसने मुझसे पूछा कि क्या चाहिए?मैंने भी हिम्मत करके बोल दिया कि आपका लंड चाहिए. ससुर पतोह की चुदाईलगभग 10-15 मिनट लंड चूसने के बाद वो बोली- तुम लोगों की चुदाई देख कर मेरी चूत में भी बहुत खुजली हो रही है… प्लीज़ जल्दी से मेरी चूत की खुजली को मिटा दो!और नेहा से बोली- तुम डरो नहीं, मैं समझ सकती हूँ तुम्हारा प्राब्लम, तुम चिंता नहीं करो!फिर मैंने अपने लंड से नेहा की सास की जबरदस्त चुदाई की.

मैंने कहा- ओके पर एक प्रॉब्लम है?वो बोलीं- क्या प्रॉब्लम है?मैंने कहा- मसाज़ लोवर पहन कर करता हूँ और यहाँ मेरा लोवर नहीं है. 10 मिनट की चुदाई के बाद मेरा भी झड़ने वाला था, मैं मामी से बोला- मामी, मैं झड़ने वाला हूँ. मेरी चुदाई की हिन्दी कहानी के पिछले भागमेरी सहेली की मां बनने की चाहत-1में आपने पढ़ा कि कैसे मेरे पति ने मुझे अपने बिजनेस को बढ़ाने के लिए मेरे कामुक जिस्म का इस्तेमाल करना चाहा, मैं भी यह काम ख़ुशी खुशी कर रही थी.

फिर मैंने उससे बोला कि मुझे बहुत डर लग रहा है, तुम आज मेरे कमरे में ही सो जाओ. जब मैं उठी तो रात भर की चुदाई से मेरी टाँगें पूरी तरह से खड़ी नहीं हो पा रही थीं.

मैंने कई बार हटाया, बाद में तंग आकर मैंने उसके पैर को हटाना छोड़ दिया.

एक दिन ऐसे ही पढ़ाने वक़्त मेरा हाथ खुशबू के जाँघ से छू गया, तो उसने कुछ प्रतिक्रिया नहीं दी, बस मुस्कुरा दी. मैंने भाभी से फोन नंबर लेते समय उसके फोन नंबर पर अपने फोन से एक मिस कॉल दे दी थी, जिससे मेरा नंबर भी उसके पास चला गया था. क्योंकि दोस्तो, मेरा लंड अब पूरे उफान पर था, मैंने कहा- लंड की साइज़ का अच्छा अनुभव लगता है तुम्हें.

सेकस विडीयौ मेरी सेक्सी स्टोरी के पहले भागवो कौन थी-1में अपने पढ़ा कि मैं अपने चाचा की बेटी की शादी में गाँव गया हुआ था. कि तभी मैंने पूनम के मुँह पर अपनी चूत का सारा पानी फच्च्च च्च्च्चच करके गिरा दिया और मेरे मुँह से आअहह हहहह हऊऊहहह निकल गई और मेरी चूत को पूनम जोर जोर से चाटने लगी और चाट कर साफ किया.

तुझे काम क्या है वो बता?मैं- भाई वो सेक्स के खिलौने कहां मिलते हैं. चुदाई के कुछ देर बाद खुद को साफ़ करके हम दोनों ने कपड़े पहने और फिर मैंने उसे एक लिप किस किया. मोहन हंसते हुए बोला- हां छिनाल, आज तुझे चोद के मेरी रखैल बना लूँगा और मेरे बच्चे की माँ भी बना दूँगा.

एचडी सेक्स कॉम

रेखा ने लंड को गहरी गहरी साँसें लेते हुए अच्छे से सूंघा, सुपारी की खाल पीछे करके अपने गालों पर फिराया, फिर जीभ निकाल के सुपारी का स्वाद चखा. क्योंकि जब भी मेरी माँ मेरे सामने आएगी, तो मुझे वो नंगी ही दिखाई देगी, जिसे मैं चोद रहा होऊंगा. कमरे में फच्च्च्च्च फच्च…” के साथ साथ आहहह… आहहह…” की आवाजें भरने लगीं.

फिर हमने थोड़ी इधर उधर की बातें की और तभी उसने सीधे मुझसे कह दिया- क्या तुम मेरे घर पे आ सकते हो. उसके हर धक्के का जवाब भी भाभी अपनी गांड उठा कर पूरी दम से लगा रही थीं.

एक हाथ से वो मेरे मम्मे को इतनी जोर से मसल रहा था कि बस दर्द किसी भी पल सहन से बाहर हो जाए और दूसरे मम्मे के निप्पल पर उसकी जीभ मीठी मीठी सिहरन दे रही थी.

मेरे ऐसा पूछने के बाद वो मेरे पास आया और मेरा हाथ पकड़ कर मुझे अपने बेडरूम में ले गया, वहाँ उसने मेरी बड़ी बड़ी फोटोज फ्रेम करके दीवार पर लगाई थीं. मकान मालिक ने मुझसे अपना लंड चूसने के लिए बोला और मैं मकान मालिक का लंड चूसने लगी. मैंने उसको कहा- तुम क्या चाहते हो?तो उसने मुझे फिर से बेडरूम में आने को कहा और वो अन्दर चला गया.

वो मकान मालिक वास्तव में मेरी बहुत देखभाल करता था और मेरी सारी जरूरतें पूरी करता था. हर लाइन के घरों के फ्रंट उसकी अगली लाइन के घरों के फ्रंट के आमने सामने हैं. पहले मैंने उसे होंठों पर किस किया, फिर उसकी गर्दन पर किस करते हुए मैं नीचे आने लगा.

अब भाभी उसको चुप करवाने की कोशिश कर रही थीं, लेकिन वो चुप ही नहीं हो रहा था.

बड़े लिंग वाली बीएफ: तभी आंटी जी भी आ गईं, ब्लैक ड्रेस में क्या मस्त माल लग रही थीं और उनकी वाइट ब्रा साफ साफ़ दिख रही थी. ”मैंने कहा- अच्छा आप कॉफ़ी बनाइये… मैं आपको सुलाने का इंतज़ाम लेकर आता हूँ.

कुछ देर बाद मेरा भी माल निकलने वाला था तो मैंने पायल भाभी से पूछा कि पायल जी. वो कहने लगी- कम ऑन बेबी अब मत तड़पाओ… प्लीज़ डाल दो अपना ये मूसल… और ठंडी कर दो इस चूत को… आह…मैंने अपना लंड उसकी चुत पर सैट करके एक जोरदार धक्का मारा. कुछ देर बाद अब भाभी फिर से मेरे लंड को खड़ा करने की ट्राई करने लगी और हाथ से लंड हिलाने लगी.

मैं तो यह सुन कर मन ही मन में बहुत ज्यादा खुश हो गया था क्योंकि मैं उनके बारे में पहले भी रमन के मुँह से कई बार सुन चुका था कि वो अनामिका से भी ज्यादा सुंदर है और वो उसे भी चोद चुके हैं।चलिए आपको सोनल के बारे में थोड़ी बात बता दूं जिससे आप लोगों को कहानी में मजा आ जाये.

कभी कभी वैशाली भाभी हमारे घर पे मेरी माँ से बातें करने आ जाती थीं, जब वो अकेली महसूस करतीं. मैं अभी ये सोच ही रहा था कि उसने अपना लंड मेरे मुँह में घुसेड़ दिया. इस पर वो बोली- मैं आपको कैसे दिखा सकती हूँ?मैंने कहा- जब उस लड़के का पूरा लंड ले सकती हो, तो मुझे सिर्फ अपनी चूत नहीं दिखा सकती, अगर ये बात को राज रखना है, तो तुम्हें मुझे यकीन दिलाना ही होगा कि तुमने अभी तक चुदाई नहीं की है.