कानपुर की बीएफ सेक्सी

छवि स्रोत,एक्सएक्सएक्स वीडीयो

तस्वीर का शीर्षक ,

वीडियो ब्लू सेक्स वीडियो: कानपुर की बीएफ सेक्सी, राजेंद्र अंकल की कान में आवाज आई- आरती उठो, हम लोग आ गए तुम्हें चोदने! तुम्हारे पापा आये नहीं, हम ने बाहर का गेट बंद कर दिया है पर लॉक नहीं किया। जल्दी करो, अब हम लोगों से बर्दाश्त नहीं होता.

लड़कियों की नंगी

मैंने उनसे पूछा कि क्या आप भी पियोगी?भाभी बोलीं- मैं वोड्का पियूंगी. बिहारी आंटी सेक्सयह आइडिया मेरा ही था कि हम दिल्ली तक बस से जायें इससे मुझे रीना मामी के साथ टाइम ज्यादा मिलता!हमें ड्रॉप करने पापा बस स्टैंड तक आए, उसके बाद हम जाकर अपनी सीट पर बैठ गये।बस वातानुकूलित थी, बस चलने लगी तो रीना मामी मुझसे बात करने लगी, वैसे भी वो मुझसे 1 साल ही बड़ी थी तो हँसी मज़ाक करती रहती थी.

मैंने उनसे पूछा कि क्या आप भी पियोगी?भाभी बोलीं- मैं वोड्का पियूंगी. सेक्सी बीपी वीडियो पंजाबीआपको मेरी आपबीती इंडियन सेक्स स्टोरी अच्छी लगी या नहीं,[emailprotected]पे मेल ज़रूर कीजिए.

थोड़ी देर में मैं भी अपनी चचेरी बहन की चूत में ही झर गया, वो तब तक दो बार झर चुकी थी.कानपुर की बीएफ सेक्सी: आअहह…बस 5 मिनट और चूसने के बाद उसका पानी निकल गया और मेरे चेहरे पर उसके चूत रस की मलाई फ़ैल गई.

’कुछ देर की चुदाई के बाद उसने मुझे बेड पर अपने नीचे ले लिया और खुद ऊपर आकर मुझे चोदने लगी.भैया वहां से निकल ही रहे थे, वो बोले- बच्चे, अब तुम्हें अपनी भाभी का ख्याल रखना है, मैं 10 दिन में आ जाऊंगा.

सेक्सी ब्लू ओपन वीडियो - कानपुर की बीएफ सेक्सी

क्या कर रहे हैं?अब मैं क्या बताती कि उनका चाचा उन्हीं के बिस्तर पे अपनी जवान भतीज बहू की नंगी चुत में मुँह डाले पड़ा है.मैंने उसे देखा तो बस देखता ही रह गया एकदम गोरी, उसकी लंबाई 5 फुट 5 इंच, तने हुए मम्मे 32 इंच के, कमर 28 की और उठे हुए चूतड़ 34 नाप के रहे होंगे.

अमित- ठीक है और?मैं- मिनी सन्डे को इस समय बहुत बिजी रहती है तो वो बाद में आने को जरूर आने को कहेगी. कानपुर की बीएफ सेक्सी मैंने कोमल को उसी तरह ही रहने दिया क्योंकि वो संतुष्टि का अनुभव कर रही थी.

उन्होंने कहा- भावेश राजा, अब जब तक यहां हो, रोज अपनी मामी की चुदाई के लिए आ जाना.

कानपुर की बीएफ सेक्सी?

फिर रात को करीब 11 बजे रिया और मैं हम दोनों अपनी सास के कमरे में गईं और कुछ देर टी वी देखती रही. जब मॉम ने उस लड़के से अपनी पैंटी मांगी तो वो देने से मना करने लगा, वो बोला कि वो निशानी के तौर पर उसे ले जाना चाहता है. एक तो मॉम वैसे ही पूरा दिन बाहर रहती थीं और जब शाम में घर में रहती थीं उस वक़्त उनके साथ बहन ज़्यादा वक़्त बिताती थी.

वो मचल रही थी, सिसकार रही थी ‘आह सी सी आह…’ और अपने एक हाथ से मेरा सर अपनी बुर पे दबा रही थी. शादी के बाद से आज तक अंकित के अलावा इस तरह उसे किसी ने नहीं छुआ था. मैंने भी अपने होंठों को वहाँ से हटाया नहीं और अपने होंठ उनके होंठों पर ऐसे ही रखे रहा। हम दोनों के होंठ एक दूसरे के ऊपर बिल्कुल स्थिर थे…ना तो मैंने अपने होंठों से कोई हरकत कर रहा था और ना ही ममता जी। हम दोनों बस एक दूसरे की सांसों की गर्मी को महसूस कर रहे थे।ममता जी के होंठों में अब थोड़ी हरकत सी हुई, उनके होंठ अब थरथराने लगे और उन्होंने अपने होंठों को मेरे होंठों पर हल्का सा रगड़ दिया.

मुझे लगा कि अमित को पता हो गया है कि उसकी दिव्या बन के मैं ही उससे बात करती हूँ. उसने भी अपनी पेन्ट उतार दी, वो बोला- माया, मेरे लंड को थोड़ा थूक से गीला तो करो. रूचि ने पहले तो मेरे लंड के सुपारे को जीभ से चाटा, होंठों से किस किया और फिर धीरे धीरे पूरा लंड मुंह में लिया.

तब तक काजल भी निकल आई थी, उसने पिला और सफ़ेद मिक्स कलर का सूट पहना हुआ था और आज उसने बाल भी धोये थे. इसके बाद मैंने लंड को भाभी की चूत पे रखा और अपना काम दुबारा शुरू कर दिया.

फिर उसके सैंडल उतार कर उसका अंगूठा चूसा और उसके पैरों पर किस करता हुआ चूत तक आ गया.

मम्मी अपने चेहरे पर आते बालों को समेटते हुए हुए रंडी बनी उसके लंड को गटागट अपने कंठ तक ले रही थीं.

फिर मैंने थोड़ी देर भाभी के बूब्स दबाए और फिर मैं हाथ को नीचे बढ़ाते हुए उसकी चूत को सहलाने लगा. मैंने नेट वाली मिलती जुलती पैन्टी मिला के दे दी और फिर उसके रूपय भी ले लिए और वो फिर घर चली गयी!मैं फिर अपने काम में व्यस्त हो गया और आहिस्ता आहिस्ता शाम हो गयी और मैं रज़िया के बारे में ही सोचता रहा!और सुबह उठ कर उसके घर गया. आज होली में मेरी चुदाई ऐसी कर दे कि मैं तेरे रंग में हमेशा की लिए रंग जाऊं.

मैं अब सोच में पड़ गई कि क्या जवाब दूँ और मैंने कहा कि नहीं वो सो गई है. इस बार वो कुछ नहीं बोलीं तो मैंने और रंग निकाल कर उनके सिलेक्स के अन्दर हाथ डाला और उनकी चुत और गांड पे भी बहुत सारा रंग लगा दिया. जब भी मैं सड़क पर निकलती हूँ, तो गली मोहल्ले में भी कई लड़के मेरी मचलती जवानी पर कमेंट्स करते हैं.

हाय सनी… मेरी गांड… फिर… फट… गई… छोड़ दे… मुझे!”सन्नी- क्या हुआ दीदी, पहले खुद ही बोल रही थी कि आज गांड ही मरवानी है खुद ही तो चूत में जाते हुए लंड को पकड़ कर गांड का रास्ता दिखाया था.

उसने कहा- वाओ अच्छा है!वो बेड पर बैठ गयी, मैं भी उसके बगल में बैठ गया और उसकी चूची को निहारने लगा, आज उसकी चूची कुछ ज़्यादा ही बड़ी लग रही थी… शायद मेरे हॉट होने के कारण।मैंने उसका हाथ पकड़ा और उसे अपने ऊपर गिराया और उसके लिप्स पे किस करने लगा और उसके मम्मे दबाने लगा. फिर मैं अपनी जीभ और होंठों से कभी उसके कान के पीछे तो कभी गर्दन पर और गालों पर जीभ से सहलाता जिससे उसकी धड़कन और सांसें बढ़ती जा रही थी जो मुझे महसूस हो रही थी. फिर वह बोली- मुझे सब कुछ करने का मन हो रहा है पर मैंने यह सब कभी नहीं किया तो मुझे डर भी लग रहा है.

थोड़ी देर में उसने अपने शरीर को टाइट कर लिया और योनि को भींच लिया, उसने अपना गर्म पानी छोड़ दिया, वो चरम सीमा पर पहुँच कर झड गयी थी. मैंने उससे कहा- मैं बाथरूम होकर आता हूँ!तो उसने बड़ी कातिलाना ढंग से हंसते हुए मुझे शरारत भारी निगाहों से देखा. यहां एक बात और कहना चाहूंगा कि शुरुआत में जब हमारे बीच यौन सम्बन्ध स्थापित हुए तो बहूरानी चूत, लंड, चुदाई जैसे अश्लील शब्द बोलना तो क्या सुनना भी पसन्द नहीं करती थी.

अंकल ने मुझसे कहा- बेटा अब सब सो गए हैं, अब पहले मैं तुम्हें किस करूँगा.

मेरे भैया ने कहा- सर वो एग्जाम देकर 25 दिनों के लिए घर आई है, यहाँ कैसे बुला लूँ?उनके सर ने कहा- ये लो रूपये और उसका यहाँ तक टिकट करवा दो और उससे कहो कि वो यहाँ आ जाए, तुमको उसकी याद आ रही है और बंगलौर भी घूम लेगी. चूँकि हम डॉगी स्टाइल में कर रहे थे, तो वो उलटी लेटी रही और मैं उसके ऊपर उलटा पड़ा रहा.

कानपुर की बीएफ सेक्सी फिर मैंने उसको अपनी तरफ घुमाया तो उसकी नज़र नीचे की ओर थी, उसके होंठ बिल्कुल गुलाबी रंग के थे, मैंने धीरे से उन पर अपने होंठ रखे तो उसने भी मुझे रेस्पोन्स दिया और वो मेरे होंठ चूसने लगी. मुझे मेरे शेविंग फोम और रेजर से मेरी भाभी की चूत के सब बाल साफ़ करना चाहता हूँ.

कानपुर की बीएफ सेक्सी वो बोली- कैसे? चूची मसली और चूत को क्या किया?पिंकी बोली कि पहले पूरे कपड़े उतरवाये और दूध पिया. उसके कूल्हे बिल्कुल नरम और सख्त से थे जो धक्के लगने के कारण लाल से हो गए थे.

रमेश अपने लंड पर तेल लगाने की सोचने लगा क्योंकि काजल की चूत अभी नई थी, पर काजल की चूत में पहले ही इतना पानी भरा हुआ था कि वो एकदम चिकनी हो गई थी.

मस्त राम की सेक्सी कहानी

तभी भाई एकदम से हल्का सा हिला तो मैं वहीं हाथ रोक कर दम साधे लेटी रही. मैं झुक गई और उसने मेरी चूत पर थूक लगाया और एक ही झटके में पूरा लौड़ा पेल दिया. भरी हुई!मैं तो उसकी जांघें ही चाटने लगा, इससे वो और भी गर्म हो गयी और मेरा सिर कस के पकड़ लिया.

कुणाल हंस कर बोला- तुमने कभी किसी लड़की चुत को नजदीक से देखा है?मैंने- नहीं. मैंने पैंटी सही की और सलवार कसके बांध ली कि अब फिर से आसानी से ना खुल जाए. अब उन्होंने भी मेरी टी शर्ट को उतार दिया तो मेरा सीना नंगा हो गया, भाभी मेरे सीने पर हाथ फेरने लगीं और मुझे किस करने लगीं.

वो उठा तो आंटी ने कुणाल से पूछा कि सफ़र में तकलीफ तो नहीं हुई?कुणाल- नहीं आंटी बहुत मज़ा आया और अच्छी नींद भी.

मैं उन दोनों को आते देख के एक डीएम से पिलर के पीछे छिप गई ताकि मॉम मुझे ना देख सकें! दोनों को खुश देख कर मुझे समझ आ गया था कि दोनों ने रात वाला चुदाई का खेल फिर से खेला है. मेरी चूचियां इतने जोर से दबाने पर दर्द सी करने लगी थीं और जो मेरी पैंटी में लग गया था, वो उस समय इतना ख़राब लग रहा था कि मैं क्या बताऊँ. ठन्डे पानी की वजह से जलन तो कम हो गई थी, लेकिन माया को ये पता था कि वो साड़ी ऊपर नहीं बांध पाएगी.

जब मैंने देखा कि उस का दर्द कुछ कम हुआ है, तो मैंने उस से कहा कि बस एक बार दर्द होगा, फिर बहुत मजा आएगा. और हाँ तुम्हारी फीस भी मैंने ही आधी करवाई थी, यह कह कर कि यह लड़का चुदाई करने के भी पैसे लेता है लेकिन तुझे ये फ्री में चोदेगा. हम दोनों बाथरूम गए, मैं पेशाब करने लगा और उसने कुल्ला करके अपना मुंह साफ़ किया.

मैं भी बार बार बहानों से मॉम की बॉडी को टच कर रहा था और मेरे साथ वो वाला कज़िन भी था, जिस पर रात में मॉम को शक़ था. मैं भी बड़े प्यार से अपने दोनों हाथों को दीदी की पीठ पर हल्के हल्के घुमा रहा था, दीदी के लिप्स एकदम साफ़्ट थे जो बटर की तरह मेरे लिप्स में घुलते जा रहे थे, दीदी ने अपनी ज़ुबान को मेरे मुँह में घुसा दिया और मैं भी दीदी की ज़ुबान को चूसने लगा मैंने दीदी की ज़ुबान को अपने दाँतों से पकड़ लिया और बड़ी मस्ती में दीदी की ज़ुबान को चूसने लगा.

लेकिन आप क्यों परेशान होते हैं?कोई बात नहीं, मैं खाली बैठा बोर ही हो रहा था तो आपकी हेल्प ही कर देता हूँ. सुरेश और मयूरी अपना प्रेमालाप छोड़ कर रमेश और काजल की चुदाई का ये मनमोहक दृश्य एकटक देखे जा रहे थे. उसने फिर अपना ब्लाउज खोला और ब्लाउज खोलते ही मैंने झट से पूनम के ब्रा का हुक़ लगा दिया.

हालाँकि उसके बूब्स से दूध नहीं निकलता था लेकिन चूसने में ऐसा लग रहा था जैसे अभी दूध निकल पड़ेगा.

” मैंने ऐसे बहाने बना कर मम्मी को मना लिया।मम्मी बोली- ठीक है, तुम जाओ थोड़ा आराम कर लो, मैं बनाती हूं!उस समय से मुझे बिल्कुल होश नहीं था कि मैं क्या करूं… मेरा बहुत मन कर रहा था, मुझे लग रहा था कि अंकल लोग आएं और मुझे जम के चोदें. फिर उसने धीरे से बड़े एक्सपर्ट तरीके से मेरा अंडरवियर नीचे खिसकाया, फिर मुझे लगा कि वह मेरी पीठ से चिपक गया. उसने बताया कि आज उसके घर के सब लोग पूर्णागिरि जा रहे हैं इसलिए घर पर वो अकेली रहेगी.

वो मेरी हर बात मानती है और सारी उम्र साथ रहने और चुदने को तैयार है, मेरे बुलाने पे मायके आ जाती है और खूब चुद कर जाती है. इससे काजल की चूत का चिकना पानी उसके लंड पर लग गया और लंड भी गीला हो गया.

क्या गज़ब का माल थीं वो, उनका पति रिटायर्ड मिलिट्री मैन थे और अभी कहीं सिक्यूरिटी का काम कर रहे थे. मेरी फैमिली में मेरे मॉम डैड, छोटी बहन के अलावा हमारी नानी भी हमारे साथ रहती थीं. दोस्तो, मेरी गांड चुदाई की कहानी की कल्पना पर अपने कमेंट्स कीजिएगा.

jiostore मटका

मैंने भाभी से कहा- भाभी ये आप क्या कर रही हो?भाभी बोलीं- मैं तुझे जनन क्रिया सिखा रही हूँ.

इसलिए मैं उनके कमरे में किताब ढूँढने लगा, पर कोई ढंग की किताब नहीं मिली तो बेड पर लेट गया. उसकी पैंटी मेरे थूक और उसके कामरस से गीली हो चली थी तो मैंने उसकी पेंटी को उतार दिया. उसने कहा- हुकुम, आपको मज़ा तो आ रहा है न?तो मैंने भी मुस्कुरा कर कहा- मेरी जान, ऐसा मज़ा आज तक नहीं आया, तुम बस चूसती रहो.

अब मेरे चूतड़ दिखने लगे थे, अगर इससे नीचे करती तो आगे बुर दिखनी शुरू ही हो जाती. सुष्मिता ने मेरे लंड को देख कर कहा कि तुम्हारा तो बहुत ही बड़ा लंड है. हिंदी में ब्लू फिल्म बताएंहैलो दोस्तो, मैं सुकृति 18 वर्ष की हूँ, मैं दिल्ली यूनिवर्सिटी की बी कॉम पहले साल की स्टूडेंट हूँ.

फिर मैंने पिंकी से घोड़ी बनने के लिए बोला, पिंकी सोफे से उतरी और वहीं सोफे का सहारा लेकर घोड़ी बन गई. मैं तो जन्नत में था दोस्तो… उसने मुझे सातवें आसमान पर पहुंचा दिया था.

मेरी मम्मी राधिका ने लंड चूसते चूसते ही पोजीशन बदली और ब्रायन की टी-शर्ट को भी खींच कर उतार दिया. कुछ ही पलों में वो फिर से जोश में आ गई और बोली- आजा मेरे राजा चोद दे आज मेरी चुत को. मोहन लाल- काजल, जा अपने भाइयों से चुदाई करवा ले, जब तक मैं बहू की चूत की कुटाई कर रहा हूँ.

फिर मैंने अपनी जीभ उसकी चुत पर टिका दी, वो तो पागल हो गई, बोली- जीजा जी ऐसा मत करो. अब मेरी बहन मुझसे बोली- भाई, आज मुझे एक रंडी की तरह चोद दे!मैंने अपनी जीभ उसकी चूत पर रख दी, कसम से आग निकल रही थी मेरी बहन की चूत में से! बिल्कुल गुलाब की पंखुरी की तरह उसकी चूत के दोनों फांकें थी. मैं चाहती थी कि कोई मेरी जम के चुदाई करे। मेरे पति अक्सर काम से विदेश में रहते थे जिस वजह से मेरी फुद्दी की प्यास बुझ नहीं पाती थी। मैंने एक उंगली, दो उँगलियों से अपनी फुद्दी चोदने की कोशिश की, मूली गाजर, खीरा, सब इस्तेमाल कर के देखा लिए मगर को बात असली के गर्म लंड की है, वो सब इन ठंडी चीजों में कहाँ! मुझे तो जरूरत थी पोर्न फिल्मों में दिखाए जाने वाले लम्बे मोटे लंडों जैसे किसी लंड की.

यह बात तब की है जब मैं मार्किट गई थी तो वहां अवी का दोस्त मिला जिसने उसकी बर्थडे पार्टी पर मेरे साथ डांस किया था.

मेरा पहला प्यार इरफान ही थे और मैंने अपनी लाइफ का पहला सेक्स हमारी सुहागरात को ही किया. तो मैं सुबह की ट्रेन से मम्मी पापा और दीदी को छोड़ने स्टेशन गया और वहीं से एग्जाम देकर मेरी प्यास बुझाने उषा काकी के घर जाने वाला था.

फिर मैंने उसको अपनी बांहों में उठा कर बेड पे लिटा दिया और उसके दोनों हाथों को पकड़ कर उसके होंठों पर किस करने लग गया. मेरे चूत पर आने पर उसने मुझे पीछे धक्का दिया और टेबल से उतर कर मेरी शर्ट उतारी और पेंट भी उतार दी. ये सब इस घर में मेरे लिए अनएक्सपेक्टेड था इसलिए मैं सोच में पड़ गई थी.

अब हम गेट पर आ गये और विनीत नीचे उतर गया लेकिन आरजू अभी भी मेरी बाहों में थी, ट्रेन ने हॉर्न दिया तो मैं बोला- अब जाओ!तो वो रोने लगी. अमित- तुम भी ले लेना जितने का मिनी को दूंगा, उससे दोगुना का तुम्हें दूंगा. मैं उसी तरह लेटी रही, अमित मेरे पास आया और मुझे करवट के बल लेटने के लिए थोड़ा सा धक्का दिया.

कानपुर की बीएफ सेक्सी फिर मैं उसके होंठों पर अपने लंड को फिराने लगा, धीरे धीरे उसको भी मजा आने लगा. इस पोर्टल को देख कर मुझको भी मेरी कहानी लिखने का विचार आया लेकिन किसी वजह से लिख नहीं पाया.

सेक्सी हॉट वीडियो इंडियन

साफ़ था कि भाभी की चूत बहुत गर्म हो चुकी थी और वो अपने पैरों से मेरे हाथ को अपनी चूत पर दबाए जा रही थीं. ममता ने भी अब बिना कुछ कहे अपनी जांघों को फैला कर मेरी जांघों को अपनी दोनों जांघों के बीच जगह दे दी. उफ्फ़ और ऊपर से उनकी मोटी मस्त गांड, जो मुझे हमेशा से पसंद थी, गजब ठुमक रही थी.

उसने कहा- जब मेरे पति डालते थे तो मुझे बहुत दर्द होता था जबकी उनका लंड तो बहुत छोटा और पतला था. वो धक्कों का मजा ले रही थीं, साथ ही साथ ‘आह…’ भरते हुए बड़बड़ा रही थी- आह… चोद चोद अपनी चाची को, जोर चोद आह्… फाड़ दे मेरी चूत को… जब से तू आया है, तब से तेरे लंड की प्यासी थी मेरी ये चुत… आह… अब इसे अच्छे से चोद बेटा… इसमें बहुत खुजली होती है… आह… जब भी तुझे देखती हूँ तो बस चुदने का जी करता था मेरा… आह… अब इसे जी भर के प्यार कर ले… आह आह… ह्म्म्म आह आह… करते रह… हम्म मजा आ रहा है. हिंदी में चुड़ै वाली वीडियोथोड़ी देर ही हुई होगी उसी पंक्चर कार में ड्राइविंग सीट पर एक मैडम बैठी दिखाई दीं.

चपरासी बोला- साहब 7:30 बज गए और मुझे जाना है!तो मैंने उसको बोल दिया- तू चला जा, हमको थोड़ा टाइम लगेगा.

और आपको कोई ऐतराज़ है अगर मैं आपके लंड को सिर्फ चूस के अपना प्यार जताऊँ तो?मैंने मुस्कुरा कर उसे उठाया और चूम लिया, इसके बाद उसने कार, ऑफिस, रेस्टोरेंट, ट्रेन… कहाँ कहाँ मेरा लंड नहीं चूसा. मैं मौका देखकर उनके कमरे में चला गया और जाकर भाभी जी के बेड पर बैठ गया.

मैं धीरे धीरे चूमते हुए उसके पेट पर आ गया और उसकी नाभि में जीभ डाल कर चाटने लगा तो सिमरन तड़पने लगी. तभी एक जो करीब 25 साल का लड़का था, बोला- अंकल आप अपनी भतीजी को?चाचा बोले- पहले थी… पर इसके हुस्न ने मुझे पागल बना दिया, आज से ये मेरी बीवी है, मेरी रखैल है. बात तब की है जब मेरे माँ और पापा गाँव गए थे, तब मैं अपने कॉलेज से हमारे यहाँ के मेडिकल स्टोर में गया और उस समय मेडिकल स्टोर में हमारे यहाँ की एक भाभी आईपिल की गोलियां ले रही थीं.

अंदर जाकर उसने जूस बनाया और मुझे दिया।फिर थोड़ी इधर उधर की बात हुई, फिर मैंने बोला कि एक्सरसाइज शुरू करते हैं।वो मुझे अपने बेडरूम में ले गयी। वहां पर ज्यादा जगह नहीं थी तो मैं उसे बेड पर ही लेट कर एक्सरसाइज बताने लगा।उसने वो सब कर ली तो मुझे बोली- मेरी कमर में दर्द हो रहा है, प्लीज थोड़ा दबा दो.

अब उसको भी बहुत मजा आ रहा था थोड़ी देर में मेरा भी डिसचार्ज होने वाला था तो उसने कहा- बाहर नहीं निकलना. जब क्लास ख़त्म हुई, उसने मुझसे बोला कि तुमको तो हर विषय का अच्छा ज्ञान है. आंटी ने चूसते हुए लंड को रगड़ कर खड़ा कर दिया और सीधी होकर चुदाई की पोज़िशन में झुक कर बैठ गईं.

नौकरानी की चुदाई का वीडियोउन्होंने एक एक करके दोनों छेद दिखाए जिसमें ऊपर वाला छेद मूतने के लिए बताया कि इस वाले छेद से मूत निकलता है और नीचे वाले छेद में लंड घुसेड़ा जाता है. मेरी बात सुनकर वो खुश हो गई, छोटा समझ कर उसने मुझे गाल पर किस किया और बोली कि तू खूब देखा कर.

सट्टा किंग गली दिसावर आज की खबर

मैं भी हिम्मत न हार कर उनसे साफ साफ लहजे में बोलने लगा कि मैंने तो आपको पहले ही बोल दिया था कि मैं आपको प्यार करता हूँ. वो जस्ट नहा कर आई थी, शायद सर्दी के दिन थे तो शायद दोपहर को नहाई होंगी. वैसे दोस्तो मैं आपको बता दूँ कि ये किसी और की नहीं बल्कि मेरी खुद की कहानी है.

अभी तक इस कहानी में आपने पढ़ा कि मैं तनु को चोदने वाला था तो उसकी मम्मी आँख की शर्म के कारण बहाना बना कर बाजार चली गई. अभी चाय वाले से चाभी लेकर मैंने ऑफिस का गेट खोला और अन्दर आकर बंद कर दिया. जब उन्होंने चूत शब्द कहा तो मैंने थोड़ी हिम्मत करके एक हाथ उनकी जांघ पर रख दिया.

मैंने भी पूरा मजा लेकर मामी की गांड मारी और कुछ देर बाद अपने वीर्य को उनके चूतड़ों पर ही निकाल दिया. उसके निप्पल भूरे कलर के और क़रीबन आधे इंच के होंगे और बिल्कुल छोटे बच्चे की नूनी की तरह थे. मेरा साढ़े 6 इंच लम्बा और ढाई इंच मोटा लंड उसकी चूत की गहराइयों को नापने के लिए तैयार था.

उसे कुछ पता नहीं लगा कि अभी अभी कमरे में क्या गुल खिलाया है मैंने!मैंने हाथ धोये ए रसोई में गया तो सुल्ताना बरतना मंज रही थी. मेरी बात सुनकर दीदी के होश उड़ गये- क्या किसी और ने? क्या कोई और भी शामिल है तेरी इस हरकत में, कौन है वो जल्दी बता?दीदी गुस्से में बोल रही थी.

अब मैंने पिंकी को नीचे बैठा दिया और अपना लंड उसके गालों से सटाने लगा.

मैंने रोहण से कहा- बेटा, मुझे ब्रा पहना दो।रोहण ने कहा- ओ के माँ!रोहण मुझे मेरी ब्रा पहनने लगा और मुझे ब्रा पहना ली रोहण मेरे बूब्स को ब्रा के अंदर करने की कोशिश कर रहा था पर वो नहीं रहे थे क्योंकि मैंने 30 साइज की ब्रा पहनी थी और ब्रा मेरे बूब्स को संभाल नहीं पा रही थी. चोद छोडी विडिओमैं मन में खुश थी, मुझे तो अब अपना जिस्म दिखाने में मजा आने लगा था. पंजाबी सेक्सी बफलेकिन तभी उस्मान बोला- सर, हम कैसे मान ले ये वही ब्रा है जो मैडम आज पहन कर आई हैं?ये सुनते ही माया हंसने लगी. उसकी बुर ने पानी छोड़ दिया, मेरा पूरा चेहरा भर गया और मैं उसकी बुर के रस को चाटने लगा, वो अभी भी अपना बुर उचका उचका के मेरे होटों पे दबा रही थी।मैं ऊपर उठा तो उसने मुझे अपनी तरफ खींचा और मुझे चूमने लगी।मैंने एक हाथ से उसकी बुर से थोड़ा रस अपने हाथों पे लगाया और लंड सहलाने लगा, वो उठी और अपने हाथ पे अपना थूक लिया और मेरा लंड सहलाने लगी.

वो मेरे छाती के बालों से खेलती रही और बोली- आज तुमने मुझे बहुत मजा दिया है.

मैंने उसे बेड से उठाया और नीचे जमीन पर लिटा कर वापिस जोर जोर से चुत मारने लगा. काफी रात हो चुकी थी मैंने उन्हें फ़िर से लम्बा चुम्बन किया और वहाँ से चला आया. फिर कुछ देर बात करने के बाद मैंने उससे उसका वाट्सअप नंबर मांगा उसने बिना किसी झिझक के अपना नंबर मुझे दे दिया फिर हम दोनों वाट्सअप पर बात करने लगे.

मेरा तो दिमाग़ ही खराब हो गया, इतने खूबसूरत चूचे थे, इतने गोरे गोरे कि मेरा तो लंड सीधा खड़ा हो गया. बाद में मैंने अपना लिंग मोना की गांड पे रखा और वो कुछ बोले, मैंने लंड को पेल दिया. मुझे बहुत मजा आ रहा था, आज मैं पहली बार 2-2 लंड से एक साथ चुदने वाली थी.

सन्यासी आयुर्वेदा का मोबाइल नंबर

दस मिनट बाद मैंने उसे फिर चूमना शुरू कर दिया, वो तुरंत ही मेरे ऊपर आ गई और मेरे लंड को चूस कर फिर से खड़ा कर दिया और चुदासी आवाज़ में कहने लगी- बेबी प्लीज़ फ़क मी…मैंने उसे नीचे लिटाया, उसके होंठों को चूसा, कान को चूमता रहा क्योंकि मैं जानता हूँ कि औरतों को इसमें मजा बहुत आता है. मेरी गांड फटने लगी कि कहीं भाभी ने ये सब बातें भाई को बता दीं, तो मेरी तो वाट लग जाएगी. मैंने एक टाइट टी-शर्ट पहनी थी, जिससे मेरा कसा हुआ शरीर दिखता था और शॉर्ट्स पहना हुआ था.

किसी हैम जैसा मोटा, पत्नी की रंगत वाला कामुकता के चरम पर पहुँच आसमान की ओर सलामी देता हुआ ओमार का गोरा लंड मेरी पत्नी के चेहरे की पृष्ठभूमि में एक शानदार नजारा पेश कर रहा था!!इस समय तक जब किड मेरी बीवी के अंदरूनी हिस्सों को छिन्न भिन्न करने में लगा हुआ था और हमारी सेक्स की देवी उसके लंड को अपने गुलाबी होठों से दबाए हुए उसे खुश करने का प्रयत्न करने में लगी हुई थी.

मैंने लंड मेघा के मुँह में दे दिया, मेघा ने मेरा लंड लेकर चूसना शुरू कर दिया.

दोस्तो उसकी इतनी गर्म बॉडी थी कि सर्दी थी, तब भी मुझको ऐसा लगा, जैसे उसमें आग लगी हो. तब मैं मीना को बोली- मीना अब तुम सागर को बाथरूम ले जाओगी, अपने हाथों से सागर का लंड साफ करोगी और बाद में मेरी चुत भी. हिंदी ट्रिपल सेक्स वीडियोमैं भाभी के साथ झट से कूलर वाले कमरे में चला गया चूंकि उस कमरे में गर्मी होने के कारण मैं सिर्फ अंडरवियर और बनियान में ही था.

इसलिए!भाभी ने कहा- क्यों तुम्हारी गर्लफ्रेंड अच्छी नहीं है क्या? उसे तुम किस नहीं करते?मैंने भाभी को खुश करने के लिए कहा- भाभी, मेरी कोई गर्लफ्रेंड ही नहीं है. रिया ने रॅप ऑन स्कर्ट पहने था जो उसके घुटनों तक ही था और ऊपर जैकेट था. तब मुझसे रहा नहीं गया और मैं दौड़ कर उनके पास पहुंच गया, ऐसे भी मैंने दो बजे तक इंतजार कैसे किया था वो मैं ही समझ सकता हूं।उनके घर पहुँचा तो आंटी ने मुझे बैठने को कहा, वो थोड़ी निराश सी लग रही थी, मैं भी नाराज था तो बातें कम ही हुई, और मैं जहां रोज बैठता हूं वहीं जाकर बैठ गया.

और रही बात सुभाष की, तो उसको मैंने दवा दे दी है, उसे नींद आ गई है, वो सो गया है. तभी थोड़ी देर में ही मॉम ने नहाते हुए ही दरवाज़ा खोला और वाइपर से बाथरूम के अन्दर पानी खींचने लगीं, जिससे कमरे में पानी ना आ जाए.

उन्होंने मुझे सब बोल दिया कि राहुल ने उसके साथ ऐसा किया और वो प्रेग्नेंट हैं.

दीदी लंड को बाहर निकाल कर अपने मुँह में जमा थूक को लंड पर थूक देती और एक हाथ से तेज़ी से लंड को ऊपर नीचे करके सहलाने लग जाती, फिर जब खाँसी ठीक हो जाती तो जल्दी से लंड को वापिस मुँह में भर लेती और फिर से पूरा लंड मुँह में लेने की कोशिश करने लगती लेकिन पूरा लंड लेने में दीदी को परेशानी हो रही थी, फिर भी वो ज़्यादा से ज़्यादा लंड को मुँहमें लेके चूसने लगी थी. सच बताऊं तो वह भी पूरे मूड में थी, घर से यही सोच कर आई थी कि आज इसका लंड लेकर ही रहूंगी. जब हम दिल्ली पहुँचे तो नम्बर एक्सचेंज कर के अपने अपने रास्ते चल पड़े.

सुहागरात की सेक्सी वीडियो हिंदी मैंने उसके उठे हुए मम्मों को वासना की नजरों से देखते हुए कहा- आज मैं तुम्हारे साथ सेक्स करना चाहता हूँ. मैं बोली- तो वर्षा अब हम कब प्लान करेंगे?वो बोली- कैसा प्लान?मैंने कहा- तू रात को क्या बोल रही थी मजदूर से चुदने का.

मम्मी ब्रायन से अलग हुईं और अंकल के इशारे पर मुझे लेकर वाशरूम को बढ़ गईं. थोड़ी देर बाद उसने मेरी मॉम का लहँगा आगे से उठा कर मेरी मॉम की पेंटी में हाथ घुसा दिया. सवाल- मेरी गर्लफ्रेंड नहीं है, कैसे बनाऊं, अब तक सेक्स नहीं किया?जबाव- वैसे तो सही राय है, शादी करो.

सेक्सी पंजाबी सेक्सी

वो एक घंटे बाद घर पे आई और पहले तो उसने मुझसे सामान्य बात की फिर बोली- जीजा जी, उस दिन के बाद मैं आपको भूल नहीं पा रही हूँ. मगर असल में उसने धीरे से कहा- कमीनी, क्या खेल खेला है तूने। अब ठुकवा ले इन सबसे!और हम धीरे से हंस पड़ी. इसलिए वह जब भी विकास से मिलने आती थी तो अपने साथ किसी न किसी फ्रेंड को साथ लाती थी, जिस पर पूजा के घर वाले भरोसा करते हों.

अगले स्टेशन पर गाड़ी स्टेशन पर रुकी तो उसने लड़के को कुछ स्नैक्स और बिस्किट्स लाने को कहा, साथ में पिंकी के लिए चॉकलेट भी. भाभी फिर से छटपटाने लगीं, पर मेरी पकड़ इतनी मजबूत थी कि वो कुछ ना कर सकीं और अपने आपको मेरे हवाले कर दिया.

मेरा पहला प्यार इरफान ही थे और मैंने अपनी लाइफ का पहला सेक्स हमारी सुहागरात को ही किया.

मैं नींद में था सो मुझे लगा कि मेरा दोस्त है साले को फिर से ठरक चढ़ गई होगी. कविता का शरीर काफ़ी भरा पूरा है, चूचे बड़े बड़े लगभग 34 इंच के बिल्कुल पर्फेक्ट शेप के हैं। उनकी गांड चौड़ी और कमर पतली, जांघें मोटी गोल गोल, गाल गोरे गोरे, होंठ गुलाबी रंग के, बाल उसके घुंघराले हैं. मैंने ज्यादा किसी से पूछ ताछ नहीं की और पवन के ऑफिस भी जाना छोड़ दिया.

मुझे तो जैसे जन्नत मिल गई हो… क्योंकि ये सब मेरे साथ पहली बार हो रहा था, इससे पहले मैंने कभी किसी को नहीं चोदा था… पर अन्तर्वासना पर लगभग सारी कहानियां पढी हैं तो मुझे पता था कि कैसे चोदना है. उसके बाद जब मैंने भाभी को चोदने की बात की तो भाभी ने मेरी शिकायत करने की धमकी दी. मुझे वही सब सीन याद आने लगा जो अमित और गांव और अवी ने मेरे साथ किया था.

सागर मीना के पास पहुँचा और मीना को खड़ा करके उसकी नाइटी की लेस निकाली.

कानपुर की बीएफ सेक्सी: मैंने जब से सुल्ताना को पहले दिन से देखा था, तब से मैं उसके सेक्सी बदन पर मर मिटा था, मेरा लंड उसको देखते ही खड़ा हो गया था और मैं उसके साथ चुदाई करना चाहता था. तभी एक दर्जी आ गया, शायद भाभी ने उन्हें अपने ब्लाउज का नाप देने के लिए बुलाया था.

हम दोनों ही झड़ने के बाद वहीं भरभरा कर वहीं औंधे गिर कर ज़ोर ज़ोर से सांसें लेने लगे. लगभग 15 मिनट तक दोनों ने मुझे किस किया और मैंने भी उन दोनों को किस किया. भाभी- सनी आख़िर तुम आज करना क्या चाहते हो?मैं- आज मैं आपके साथ सेक्स करूँगा.

कहानी लिखने में समय बहुत लगता है इसलिए आप मुझे प्रोत्साहन दें ताकि मैं अगले चार और दिन का अनुभव लिख सकूँ.

नीचे वाले में मम्मी पापा और छोटा भाई सोता है और ऊपर वाले कमरे में और मेरा भाई. इतना सुन कर तो मैं और भी ज्यादा जोश में आ गया और मामी को हचक कर चोदने लगा. आपके पहले प्रोजेक्ट पे ये आपके साथी होंगे और इसलिए आप दोनों का केबिन एक ही है.