बीएफ वीडियो की चुदाई

छवि स्रोत,एचडी वीडियो बीएफ देहाती

तस्वीर का शीर्षक ,

भाभी सेक्स कहानी: बीएफ वीडियो की चुदाई, तीसरी बार में उन्होंने मुझे बेड पर नीचे लटका कर चोदा और इस प्रकार उस रात चार बार पापा ने मेरी चूत को पेला.

बीएफ सेक्सी पिक्चर हिंदी

मैंने भी डर का बहाना बनाते हुए आव देखना ना ताव … आंटी के कंधों को पीछे से पकड़ने के बहाने सामने की ओर ज़ोर से अपने आपको धकेला कि उनका मुँह अब सीधे मेरे लंड पर चला गया. एक्स एक्स इंग्लिश बीएफमैंने अपना एक पैर बीवी घुटने के बाजू बाहर रख दिया, फिर बीवी को आहिस्ता से मेरे साथ पीछे आनेके लिये कहा.

मेरे पके हुए आम अब आजाद हो गए, उनके ऊपर के चॉकलेटी रंग के निप्पल अंगूर की तरह दिख रहे थे. भाभियों का सेक्स वीडियोफिर पता नहीं अचानक उसे क्या हुआ कि उसने मुझे पीछे धक्का देकर हटा दिया.

निशा ने शिल्पा की तरफ मुँह कर रखा था और अपनी गांड को हल्के से पीछे कर रही थी.बीएफ वीडियो की चुदाई: वो अपने परिवार वालों को देखने गई थीं कि कौन कहां है क्यूंकि हम और चुदाई करने के मूड में थे.

मैंने अपने दोस्त की इस बात को एकदम सीरियसली लिया और शीतल से बात करना चालू कर दिया.फिर जीजू ने धीरे धीरे अपने लंड को मेरी चूत में भीतर बाहर करना शुरू कर दिया और धीरे-धीरे अपनी प्यारी साली को चोदने लगे.

हिंदी बीएफ देहाती सेक्सी - बीएफ वीडियो की चुदाई

परन्तु मैं वर्जिन साली की बुर फ़ाड़ूँ … तो कैसे?तभी मेरी पत्नी ने अपनी छोटी बहन से कहा- ऋतु, हाथ पांव धो लो.अमर भी अब पिंकी की गर्दन को पकड़कर आगे पीछे करने लगा और अपनी आंखें बंद किए हुए इस पल को मस्ती से जीने लगा.

मैं भी शर्म छोड़कर उसी की तरह बोलना चाह रही थी तो मैंने भी बोल दिया- मैं भी बहुत भूखी हूं, तुम्हारे लण्ड को खाना चाहती हूं. बीएफ वीडियो की चुदाई वो अकेला है, उसको कोई परेशानी ना हो, इसलिए में उसके पास रुक जाऊंगी.

पर मेरी निगाहें अब भी उसी लाल ब्रा पेंटी में बंद उसकी चूचियां और फूली हुई चूत पर ही मंथन कर रही थीं.

बीएफ वीडियो की चुदाई?

अब तुम्हारी चूत का भी मुँह खुला है, तो उसका रस आराम से अन्दर चला जाएगा. ऐसा कहते हुए एक जोर का झटका मेरी गांड में आशीष ने पूरी ताकत से मारा, तो लगभग उसका आधा लंड मेरी गांड के अन्दर घुस गया. उससे बातचीत के दौरान मुझे पता चला कि वो एक विधवा है और पास ही एक मकान में रहती है.

मुझे तो बहुत शर्म आ रही थी, पर मन में अलग ही उत्तेजना पैदा हो रही थी. ओके स्वीटहार्ट … शाम को नहाकर फ्रेश ही रहना!”इस सबको लिखने का आशय ये कि हमारी लाइफ भी अच्छी चल रही थी. बात तो हमारी रोजाना ही होती रहती थी लेकिन खुल कर कोई भी बात नहीं हो पा रही थी.

रात के 9:30 बज गए और नींद का मेरे लिए दूर दूर तक नामोनिशान नहीं था. भाभी कराह उठीं उम्म्ह… अहह… हय… याह… और उन्होंने मीठे दर्द के साथ मेरे लंड को सहन कर लिया. तब भी अभी तक मुझे ऐसा कहीं से नहीं लगा कि कभी मुझे उसके साथ अंतरंगता का मौका मिल जाएगा.

उनकी सिसकारियों के बदले अब कामुक सीत्कारें आने लगीं- आह … आह … सी … आह …यहां मैं आप लोगों को बताना चाहूंगा कि अपनी स्टोरी बताने के दौरान कल्पना ने मुझे ये भी बताया था कि वो अपने कॉलेज के टाइम से ही पोर्न फिल्में देखती आ रही हैं और उन्होंने एक दो बार अपनी चूत में गाजर मूली या बैगन भी डालने की कोशिश की थी, पर एक या डेढ़ इंच से ज्यादा कभी डाल नहीं पायी थीं. फिर धीरे धीरे मैं अपने हाथ ऊपर लाने लगा और उनके ब्लाउज में हाथ डालकर उनकी दोनों नंगी चूचियां पकड़ कर मसलने लगा.

मैंने कुछ ही पल के बाद उसके मुंह में वीर्य की पिचकारी मारनी शुरू कर दी.

उसने मेरे लंड को हाथ में लेकर सहलाया तो मेरा लंड कड़क होकर तन गया और उसने धीरे से मेरे लंड पर अपने होंठों को रख दिया.

इस बार जल्दी वाला किस था क्योंकि इस बार मुझे अपनी मम्मा सौम्या की चूत का स्वाद लेना था ना. मेरी माँ चाहती थी कि वह अच्छे से सिलाई व बुटीक का छोटा-मोटा काम सीख जाए। फिर मेरी मम्मी ने उसकी मम्मी को फ़ोन करके यहां रहने के लिए बोल दिया था और उसकी माँ मान भी गई थी।भावना के बारे में मुझे एक बात पता थी कि उसका कई लड़कों से चक्कर चल रहा था और अभी भी उसका एक बॉयफ्रेंड है। ये बात पता चलने के बाद मैं भी उसे चोदने की फिराक में लगा हुआ था. गेट खोल कर वो वापिस मुड़ गई और बोली- कोई आ रहा है शायद!ऐसा बोल कर उसने गेट बंद कर दिया.

वहां हम एक लेडी गारमेंट्स की शॉप में गये और फिर वहां से मैंने मेरे लिये कुछ ड्रेसेस लीं। फिर रोहन मुझे एक लेडी अंडरगार्मेंट्स की शॉप में ले गए. मैंने उसके गाल पे किस किया और फिर उसके चेहरे को पकड़ कर उसके रसीले होंठों को किस करने लगा. काम में क्या लगे थे, शादी में आयी चाची की तरफ से आयी हुई लड़कियों और औरतों को ताड़ रहे थे.

अब मम्मा ने नींद खुलने का नाटक करते हुए पूछा- अंकित, ये तू मेरे साथ क्या कर रहा है?हम अलग अलग हो गए और हमारे बीच में बातें होने लगीं.

मैं पंजाब पहुँचा जहाँ अजय मेरा पहले से ही इंतजार कर रहा था!अजय अपनी कार से मुझे अपने घर ले गया. मगर पिंकी ने इस हालत में मुझे देखते ही अपनी आँखें झुका लीं और सुबकती रही. मैं अकेले क्या करूं?तो मैंने मजाक किया कि तुम भी आ जाओ हमारे साथ में!फिर सब हँसने लगे.

मैंने कहा- हां आशीष … जल्दी से आजा, मुझे अपना बना ले, मैं तेरे बिन पागल हुई जा रही हूं. मैंने सरिता को बता दिया कि उस दिन वो 10 बजे अपनी माँ के जाते ही आ जाए. मैं पहले तो चित लेटा था, फिर मैंने भी करवट बदल कर चेहरा उनकी तरफ कर लिया.

उन्होंने अपनी आंखें बंद कर लीं और सोफे पर एक साइड सर टिका कर पैर दबवाने लगीं.

पर आजाद मम्मे रखने का मतलब था, मर्दों को खुली दावत … इसलिए मैंने ब्रा पहनना तय किया. और हम जो खेल खेलने जा रहे हैं, उसमें इस तरह के रिश्ते की कोई जरूरत नहीं है। इसलिए मैं तो रूपाली को मौसी न कह कर भाभी कहूंगा।अरुण तुरंत बोला- हां यार रोहित, तुमने बिल्कुल ठीक कहा.

बीएफ वीडियो की चुदाई एक बूंद भी नीचे नहीं गिरने दी।भावना ने मेरे लंड को चूस कर साफ कर दिया. मुझे इस वक्त शीतल भाभी एक पोर्न एक्ट्रेस सी लग रही थीं, जो अनायास ही मेरे लंड के नसीब में आ गई थीं.

बीएफ वीडियो की चुदाई मेरी दिनचर्या ये थी कि मैं सुबह अपने कॉलेज जाता और दोपहर से शाम तक घर में रहता या फिर दोस्तों के साथ बाहर चला जाता. मेरा मन तो ऐसा कर रहा था कि मैं भी जाकर उनकी गांड ठोकने में लग जाऊं.

पहली बार मेरी गांड में लंड गया था, मुझे बिल्कुल अच्छा नहीं लग रहा था.

नागाचा पिक्चर

ऊपर वाले की दुआ से अच्छा खासा लंबा-चौड़ा दिखता हूँ और मेरा लंड भी 6. कुछ देर ऐसे ही जवान भाभी की चुदाई करने के बाद मैंने भाभी को आंगन के फर्श पर लिटा दिया और खुद उनके ऊपर लेट कर अपना लंड उनकी चूत में घुसा दिया. वह धीरे से मेरे पास आकर बैठ गई और उसने हल्के से मेरे गाल पर किस कर दिया.

जागृति मेम ने मेरी जींस का बटन खोला और चड्डी के अन्दर हाथ डाल कर लंड हिलाने लगीं. वह मेरे लंड को बाहर निकाल देना चाहती थी लेकिन मैंने ऐसा नहीं होने दिया. थकान की वजह से अब मेरे मन में ख्याल आने लगा कि या तो अब वो झड़ जाए या मैं झड़ जाऊं.

वैसे मुझे भी रात में अकेले छत पर जाने में डर लग रहा था मगर फिर भी मैं हिम्मत करके छत पर पहुंच गयी.

अब हाल ये था कि जितना मैं उसकी चुत में अपनी जीभ घुसा रहा था, उतना ही वह मेरे लंड को अपने मुँह में भर लेती. उनके जीभ के स्पर्श से अलग ही सरसराहट पैदा हुई, उन्होंने मेरी नाजुक त्वचा पर हल्के से काटना भी शुरू कर दिया. फिलहाल अभी कुछ महीनों से उसमें बदलाव जरूर आया है, मगर फिर भी ठंडी लगती है.

उस फ्लोर पे एक और फैमिली रह रही थी, उस फ्लोर पे बाकी के सब फ्लैट खाली ही पड़े थे. मैंने लंड पेलते हुए कहा- क्या भूल गया हूँ मैं?पूजा- आज कौन सा दिन है?मैं- मुझे याद नहीं. वो पागलों की तरह उसे खा जाने की नीयत से चाट और चूस रही थी।मैंने उसे 69 के पोजीशन में अपने ऊपर लिटा लिया और उसकी चूत को चाटने लगा.

मैंने बाइक रोक कर फोन उठाया और दूसरी तरफ से लड़की की आवाज सुनकर मैं हैरान रह गया. तभी मैंने पूछा- शुभी बोर हो रही हो क्या?उसने कहा- जीजू आप तो लगे हुए थे.

पर मैंने भी ठान लिया था … मिसेस शर्मा पर ऐसा इम्प्रैशन जमाऊँगी के मुझे देखते ही वो सन्न रह जाएगी. तुम्हें मेरे लंड से चुदकर कैसा लग रहा है?वह बोली- मैं तो तुम्हारे लंड से चुदते ही रहना चाहती हूँ. शादी की तारीख तय होने के बाद उसका फोन आया कि मेरी शादी में आपको जरूर आना है.

सांवला रंग के बावजूद उसकी बड़ी-बड़ी आंखें और मैचिंग पहनावे के कारण वो गजब की माल लग रही थी.

पूजा ने अपना हाथ हटा लिया, मैंने अपने दोनों हाथों से पूजा की गांड फैला दी और लंड को ठोकर मारी, तो पूजा की गांड के कसे छेद में घुसते हुए मेरा आधा लंड गांड में घुस गया. मैंने लंड सहलाते हुए कहा- अब इतने हॉट माल को बिना कपड़े के देखकर भला मैं तो क्या, कोई भी नहीं रुक सकता. आज मैं अपने यौवन के सुख का अहसास करना चाहती हूँ।उसने मेरा हाथ पकड़ लिया और बोली- आज अपनी इच्छा से अपने लिये कुछ कर रही हूँ और मेरे परिवार में किसी को कुछ नहीं मालूम है।मैंने कहा- कोई बात नहीं, अगर तुम नहीं चाहती तो कोई बात नहीं, कोई जबरदस्ती नहीं है.

जिस प्रकार मैं झुकी हुई थी और वो मुझ पर दोनों टांगें फैला कर चढ़ा हुआ था, उससे धक्के बहुत मजेदार लग रहे थे. मैंने जैसे ही लंड का दवाब उसकी चुत पर डाला, अमीषी की आंखें चौड़ी होती गईं.

मैंने उसको वापस अपनी तरफ खींच लिया और उसको फिर से अपने नीचे लेटा लिया. एक बार तो मन किया कि शायद मैं ही ज्यादा सोच रहा हूँ मगर फिर ध्यान आया कि अगर उसे कुत्ते को अंदर बंद ही करना था तो कमरे की लाइट बंद करने की क्या जरूरत थी?हो न हो जरूर उसकी चूत का लावा कुत्ते के लंड के पानी से शांत होने की इच्छा कर रहा होगा. जैसे ही फोन उठाया, तो उधर से आशीष की आवाज आई- हैलो!मैं पहली आवाज में पहचान गई कि यह आशीष है.

सेक्सी फोटो है

तब मेरी नींद खुली तो मैंने देखा कि चादर एकदम लाल हो गई थी और रूपा की बुर पर भी खून की पपड़ी जम चुकी थी.

मैंने उनकी चूत चूसना शुरू किया और उन्होंने मेरा लंड चूसना चालू कर दिया. मैंने पहले धीरे-धीरे उसे घुसाया, फिर मुझे कुछ समझ नहीं आया और कब मैं होश खो बैठी और जोश में जोर से बोतल अन्दर डाल कर घुसा ली. मम्मा को कभी कभी मेरा स्पर्म भी दिख जाता था लेकिन मम्मा ने मुझसे कभी कुछ पूछा नहीं तो मैं भी बिंदास होता चला गया.

उन्होंने कहा- अरे इसे हल्के में मत लो … अभी कपड़े पहनकर चर्मरोग वाले डाक्टर के पास जाओ और उसे दिखाओ. भाभी ने एक पारदर्शी नाइटी पहन रखी थी जिसमें अंदर गुलाबी रंग की ब्रा थी और लाल रंग की पैंटी जो साफ-साफ नजर आ रही थी. देहाती में सेक्सी बीएफइसके पीछे कारण था क्योंकि यह सब सोचने के लिए उसे यह भी सोचना पड़ेगा कि वह रीना की अपनी बीवी की तरह चुदाई कर रहा है। उसके बाद सीमा की चुदाई कर रहा है और वह भी दोनों की मर्जी से, अपने पूर्ण रूप के मजे के साथ.

फिर मैंने स्टूल हटा कर साइड में रखा और आंटी की ओर देखा तो वो पानी पी रही थीं, उनकी सांसें ऊपर नीचे हो रही थीं. उन्होंने जल्दी से अपनी चैन खोली और अपना गोरा मोटा लंड बाहर निकाल लिया.

इमरान झट से मान गया और मैंने उसी दिन दिलिया और ज़रीना से भी निकाह कर लिया. वैसे उसकी लिपस्टिक अब उसके होंठों पर कम … और मेरे होंठों पर ज्यादा थी. मैं कब से इस बात के इंतजार में था कि सलोनी मौसी कब अपनी चूत में साबुन लगाएंगी और मुझे उनकी चूत के दर्शन होंगे.

इसलिए चुदाई के पहले राउंड के बाद पूजा दीदी की चूत के साथ मेरे लंड की मौज-मस्ती कई घंटों तक चलना लाजमी था. मगर जिस छोटे से गांव से मैं ताल्लुक रखता हूँ, उधर ये सब इतना खुला नहीं था. भाभी ने कहा- पर रोहन अभी मुझे घर जाना होगा क्योंकि देर हो जाने से किसी को शक ना हो जाए.

मेरे इतने तेज धक्कों के बाद भी संगीता के चेहरे पर एक मस्ती सी चढ़ती जा रही थी.

इसलिए मैं अबसे अपने बाथरूम का दरवाज़ा खुला रख कर नहाने लगा और मेरा निशाना सही लगा. मुझे कुछ याद आ गया और मैंने रुई में लेकर सुन्न करने वाली दवा उसकी चुत पर मल दी.

मर्दों के जिस्म में बहुत सारी ऐसी जगह होती हैं जिनको चूसने और चाटने के लिए औरतें ललायित रहती हैं. जब मैं अपने लंड को अंदर डालने से रोक देता था तो सोनू नीचे से अपने चूतड़ उछालती थी और मुझे कहती- करो. जॉन- लेकिन एक बार ट्राई करने में क्या जाता है?मैं- नहीं, फिर कभी सोचूंगी.

फिर वह धीरे-धीरे अपने मुँह के अन्दर मेरे लौड़े को पूरा अन्दर लेकर चूसने लगी. मैंने कहा- पाण्डे जी, अगर मैंने बात की और उसने कुछ बोल दिया तो मेरी इज़्जत की तो वाट लग जायेगी. अब रूपा बोली- भैया, क्यों ना आप मुझको ही अपनी गर्लफ्रेंड नहीं बना लो.

बीएफ वीडियो की चुदाई वो धीरे धीरे नज़दीक आता गया और हम दोनों एक दूसरे को चूमने चाटने भी लग गये. मैं उत्तेजना में चिल्ला रही थी और उन तीनों में से कोई भी रुक नहीं रहा था.

सील तोड़ चुड़ै

मैं सोनल के मम्मे जोर से दबा रहा था और वो तेज आवाज में मोन कर रही थी. वह ‘ऊऊह आआह्ह …’ करने लगी, उसे फिंगर सेक्स का मजा देने के बाद मैंने सोचा कि अब उसकी चूत में लंड डालने का सही टाइम हो गया है. अच्छा तो ये तुम्हारी और डीओ की मिली-जुली खुशबू है, बहुत ही मादक है ”अंकल ने मेरी दोनों कांखों पर किस किया और दोनों जगह पर जीभ भी घुमाई.

मेरी तारीफ सुनकर मैं मुस्कुराई, फिर पलटकर उसकी फ्रेंची में हाथ डाल कर उसके लंड को पकड़ लिया. इससे भाभी के बदन में आग सी लग गई, उन्होंने मेरा पूरा मुँह अपनी चूचियों में दबा लिया. बीएफ वीडियो हिंदी न्यूमुझे तो बहुत शर्म आ रही थी, पर मन में अलग ही उत्तेजना पैदा हो रही थी.

इसी वजह से शायद मर्द बार बार उत्तेजना में लिंग बाहर निकाल कर अन्दर घुसाते हैं.

मैंने कुछ पल सोचने के बाद उससे कहा- ठीक है, कहाँ पर मिलना है?उसने कहा- वह सब मैं आपको फोन करके बता दूंगी. उन्होंने मेरे लंड को बहुत देर तक मज़े लेकर चूसा और जब मैं झड़ा तो चाची मेरा सारा वीर्य भी पी गईं.

तभी भाभी ने अपने बिस्तर पर ही मुझे बैठने को बोला- आप कुछ देर यहीं रुक जाओ, इनका दर्द रूक जाए तभी जाना. मैंने अपना लंड बाहर निकाल दिया और उसके मुंह में डाल दिया तो वह फिर से मजा लेकर उसको चूसने लगी. दोस्तो, ये मैंने अपनी ममेरी बहन के साथ चुदाई की कहानी आपके सामने रखी.

आह्ह … उईई … माँ … आह्ह … आहह … ओह्ह!दर्द के साथ-साथ मैं तीनों लंड एक साथ लेने का अहसास भी कर रही थी जो मुझे मजा भी दे रहा था.

फिर धीरे-धीरे से मेरी गांड का दर्द हल्का कम हुआ, लेकिन मैं तो रोए ही जा रही थी. कुछ देर पहले तो वह इतनी गर्म हो गई थी और फिर अचानक से उसको क्या हो गया. मेरी मम्मा- अच्छा चल शादी करनी थी … तो ऐसे शादी होती है क्या? ना मांग भरी, ना फेरे किए, ना कुछ और सीधे सुहागरात?मैं समझ नहीं पाया कि मम्मा ने ऐसा क्यों कहा लेकिन जब मैंने मम्मा के चेहरे पर एक कनिंग स्माइल देखी तो मैं समझ गया कि मम्मा भी मुझसे चुदवाना चाहती हैं.

नंगि फिल्म बीएफमैं बोली- क्या?तो उसने मेरे कंधे पर हाथ रखा और अपना चेहरा मेरे चेहरे के नजदीक लाते हुए मेरे होंठों के पास अपने होंठ ला दिया. उन दस दिनों में ऐसी कोई रात नहीं थी, जब मैंने और माया ने चुदाई ना की हो.

घड़ी ब्लू पिक्चर

मैं बाहर के कमरे तक पहुंचा ही था कि उन्होंने मुझे पीछे से आवाज़ लगा कर पूछा- गौरव, क्या तुम्हें घर में कोई काम है?मैंने कहा- नहीं, ऐसा कोई जरूरी काम तो नहीं है, क्यों आपको कुछ और भी काम था क्या?उन्होंने बोला- हां, कल मैं पौंछा लगा रही थी, तो मेरा पैर पानी में थोड़ा फिसल गया था. मम्मी ने कहा- आआह … अगर तुम मुझे पति की तरह सुख दे सकते हो तो … मुझे सुख दे दो … मुझे चोद दो. क्यूंकि उसमें बहुत सारी पोर्न वीडियोज थीं, वो भी फुल एचडी फॉर्मेट में.

जब मैं उसकी जीभ को अपनी जीभ से चूसता था तो चूत लण्ड को अंदर खींचने लगती थी जैसे चूत लण्ड को चूस रही हो. मैंने अपनी एक टांग से उसकी नीचे वाली टांग को दबा दिया और दूसरी टांग से उसकी दूसरी टांग को दबा दिया. फिर उसने मेरा लण्ड पकड़ कर बुर के छेद में लगा दिया और बोली- राजा, अब तो अन्दर घुसा दो.

मेरे मन में उसके लिए कोई ग़लत विचार नहीं थे लेकिन आज से करीब दस-बारह महीने पहले एक दिन की बात है कि मैं रात को करीब 3 बजे पेशाब करने के लिए उठा और बाहर आ गया. मैं भूखे कुत्ते की तरह उसके बूब्स को चूसने चाटने और चबाने लगा।रश्मि मेरे लन्ड को पकड़ के हिला रही थी. मैंने भाभी के बारे में एक अपने दोस्त से पूछा जोकि गांव में ही रहता था.

मौसी की चूत उनके बाकी शरीर के रंग से थोड़ा सांवली थी और चूत के अगल बगल झांटों का जंगल था. मैंने बाथरूम का दरवाजा बंद कर दिया था और उन्हें अपनी बांहों में भर लिया.

इसलिए तुम मेरे मुंह में ही निकाल दो साहिल … आह्ह् … उम्म … करती हुई वह और जोर से मेरे लंड को चूसने लगी.

इस पर भाभी बोली- इसकी चिन्ता मत करो … यह तो भोसड़ी का शाम को सोकर सुबह आठ बजे उठता है. हॉट सेक्सी बीएफ ब्लू पिक्चरक्योंकि मैं नौकरी की तलाश में थी और एक दिन किसी ऑफिस में गई इंटरव्यू के लिए तो वहाँ पर आरती मिल गई. पिक्चर वाली बीएफअब मेरा अगला स्टेप था इन अंकल जी को सेड्यूस करने का मतलब उन्हें लुभाने का ललचाने का और उन्हें मुझ पर आशिक करवाने का था. एकाएक मैंने उन्हें कमर से पकड़ कर घुमा दिया और उसे पेट के बल लिटा दिया.

जिसके बारे में सोच कर बहुत लोग उसके नाम के मुठ मारते हैं और उन्हें चोदना चाहते होंगे.

मेरा पंजा उनकी चुचे और बगल के बीच में था और पैर का घुटना ठीक उनकी चूत के ऊपर था. मैंने वक्त जाया न करते हुए उसके जिस्म को चूमना शुरू कर दिया, कभी उसके कंधे पर काट लेता तो कभी उसकी कमर को नोच लेता. चाचा जी ने बोला कि कल उनको कहीं जाना है तो मुझे उनके घर पर रहने को बोला.

वैसे भी भाभी को चोदने का मन तो था ही … और ऊपर से पोर्न वीडियोज देख लीं, तो मेरी कामेच्छा दोगुनी हो गई. परन्तु मेरा लंड मोटा होने के कारण उसकी चुत के अन्दर नहीं जा रहा था. तुम भी अपने फोन को कुछ इस तरह से अड्जस्ट कर लेना ताकि पूरी चुदाई रेकॉर्ड हो जाए तो फिर मैं उसको देखूँगी.

दिसावर दिसावर

फ़िर जब चूत ढीली हो गई, वो भी अब बहुत गर्म हो गई थी और बार-बार बोल रही थी- अब डाल दो. हम दोनों मुस्कुरा उठे और एक दूसरे की आंखों में काफी देर तक देखते रहे. मैं घर के काम ऐसे करती हूँ कि मेरे पति अपना लंड मेरे चुत में डालकर मेरी चुत आसानी से चोद सकें.

वो बिस्तर पर आ गईं और मेरी जींस को नीचे करके लंड को हिला कर पूरा खड़ा कर दिया.

मैंने कहा- ओह … अंकल कैसे?तो अंकल ने कहा- बहुत लम्बी कहानी है बेटा … तुमको बताने बैठ गया, तो बहुत समय लग जाएगा और तुमको इतना समय नहीं होगा.

मैं भी उसे गटक गयी और लण्ड का टोपा चाटने लगी।तब वहां से चली।बस इसी में थोड़ा देर हो गयी।अम्मी बोली- ठीक है रेहाना … पर ये तो बता कि उसका लण्ड कितना बड़ा है?मैंने कहा- लण्ड तो बड़ा मोटा तगड़ा है. भाभी ने एक लम्बी आह भर कर कहा- मेरी जैसी लड़की के भाग्य में शौहर का सुख ही नहीं है. बीएफ सेक्सी चूत चोदने वालीमैं अपना लंड पूजा के गांड में अन्दर बाहर करते हुए गांड भी चोद रहा था और उसके होंठ अपने होंठों में लेकर चूसने लगा.

जब तक अपनी मम्मा सौम्या के लिए मेरे दिमाग में ऐसी भावनाएं नहीं आती थीं तब तक मैं मम्मा सौम्या को सुबह से शाम तक कई बार किस कर लेता था. मेरा नाम रेहाना है, दोस्तो! मैं एक गोरी चिट्टी, बड़े बड़े बूब्स वाली खूबसूरत और हॉट लड़की हूँ।मैं पढ़ी लिखी हूँ सेक्सी हूँ, और एक बड़े पद पर काम करती हूँ।मैं आपको एक अंकल Xxx कहानी बता रही हूँ. बहुत देर तक हम लोग एक दूसरे को चूमते रहे, मैं उसके नाजुक अंगों को उसके कपड़ों के ऊपर से ही मसलता रहा.

मेरी पहली कहानी थीबहन की सास और मेरी माँ से सेक्सयह कहानी मेरी एक मित्र की है. मैं भी मदहोश होता जा रहा था और उस हॉट डॉक्टर की चुत रगड़ता जा रहा था.

उसकी आवाज तेज होने की स्थिति में आ सकती थी इसलिए मैंने पहले ही निशा का मुँह अपने एक हाथ से दबा दिया कि आवाज न निकले.

वह बोली- क्या शर्त है?मैंने कहा- जब भी मैं चाहूँगा, तुमको मेरे पास चुदवाने के लिए आना पड़ेगा और जब मेरी श्वेता तुम्हारे बॉयफ्रेंड से चुदवाएगी तो तुम्हें उसका वीडियो बनाना पड़ेगा. मैं डर गया कि मम्मी को कुछ हो ना जाए इसलिए कुछ टाइम तक वैसे ही रुक गया. एक से एक खूबसूरत गोरी गुलाबी लड़कियां मेरे जीवन में आईं और उनका भोग भी लगाया लेकिन काली सलोनी लड़की पहली बार मेरे से टकराई थी.

सेक्स करने वाली नंगी फिल्म उन्होंने बहुत सावधानी से मारी थी, पर जब लंड में जोश आ जाता है तो क्या कोई मारने वाला धीरे धीरे कर पाता है, रगड़ ही देता है. मेरा शरीर अकड़ने लगा अपना पूरा जोर लगाकर लंड पूजा के गांड में जड़ तक घुसा दिया.

वो एक करवट लिए लेटी थी और उसका नाइट गाउन उतना ऊपर चला गया था कि उसकी टांगों का जोड़ दिख रहा था. अपने ब्वॉयफ्रेंड को बोल देना कि जगह का इंतजाम कर ले और वहां आराम से अच्छे से उसके साथ सुहागरात मना लेना. फटाफट अपना मोबाइल निकाला और उसे साइलेंट मोड पर किया और चुदाई की रिकार्डिंग करने लगा.

आदिवासी सेक्सी वीडियो आपो

पहले तो मैंने मना कर दिया, पर फिर उसके दबाव देने पर मैं उसके साथ जाने के लिए तैयार हो गया. मैं सौम्या के साथ लिपट कर लेट गया जिससे अपनी मम्मा सौम्या की गांड पर मेरा लम्बा लंड रगड़ लगाने लगा. धीरे-धीरे समय बीतता जा रहा था और मैं सोच रहा था कि आज मैं उससे अपने दिल की बात करूंगा … कल उससे अपने दिल की बात करूँगा, नहीं कल तो पक्का ही करूँगा.

वैसे कुछ लड़कियाँ तो खुद ही चुदवा लेती हैं मगर कुछ लड़कियाँ बाहर भले ही चुदवा लेती हों लेकिन घरवालों और रिश्तेदारों के सामने सती-सावित्री होने का नाटक करती रहती हैं. हम दोनों ने सामने दीपाली का पेपर खोल कर रख लिया और जो क्वेस्चन हम दोनों के बाकी थे, उतारने लगे.

पर उसके चार दिन बाद उन्होंने मुझे अपनी बालकनी से देखा तो मुझे आवाज़ लगा कर कहा- गौरव अगर खाली है तो थोड़ा घर साइड आना.

अबकी बार चूंकि चूत के अंदर मेरा वीर्य भी लगा हुआ था तो फच-फच की आवाज आने लगी. मेरी कहानी को इतना प्यार और पसंद करने के लिए आप सभी पाठकों का धन्यवाद. मैंने सोने की बहुत कोशिश की मगर मुझे भी अपने और दीपक (मेरा बॉयफ्रेंड) के बीच हुए सेक्स के बारे में वही सीन याद आने लगे.

मम्मी ने पूछा- ये तो महंगी लग रही है, कितने की है?मैंने झूठ बोल दिया कि यह तो ढाई सौ रूपए की मात्र है. इस बीच कई बार मैंने नम्रता से वही खेल दोहराने के लिये कहा, लेकिन वो साफ मना कर देती. एलेक्स को गले लगाते हुए मुझे महसूस हुआ कि उसका खड़ा हुआ लंड मेरी पैंटी के ऊपर से मेरी चूत पर टच हो रहा है.

उधर नीचे रोहित उसकी चूत को बेतहाशा पागलों की तरह चूम और चूस रहा था।मैं अपना लंड चुसवाते हुए सन्जू की चूत की तरफ झुक गया जिसे रोहित चूसे जा रहा था.

बीएफ वीडियो की चुदाई: प्लीज़ दोस्तो, मेरी इन्सेस्ट सेक्स स्टोरी पढ़ने के बाद अपना फीडबैक देना मत भूलिएगा. मेरे मुंह से कामुक सिसकारी निकल रही थी- उम्म्ह… अहह… हय… याह… जोर से करो … पी जाओ दीपक … मेरे दूधों को काट लो … आह्ह … बहुत मजा आ रहा है.

मेरी चूत ने पानी फेंकना शुरू कर दिया और चूत के रस में भीगते ही लंड चप्प-चप्प की आवाज करने लगा. मैंने पूछा- क्या मैं तुम्हारी पैंटी को उतार दूँ?उसने कोई जवाब नहीं दिया. उसके अधखुले ब्लाउज के सारे बटन खोलकर उसके चूचों को कैद से आज़ाद किया और धीरे-धीरे एक हाथ को नीचे ले जाते हुए उसकी कमर सहलाते हुए पेटीकोट का नाड़ा खोला और हम दोनों सांपों की तरह नंगे एक दूसरे से लिपट गए.

मैं उन्हें चूसते हुए उसकी चूत और जाँघों में सहलाते हुए उसकी लोवर को नीचे खिसकाता जा रहा था और आगे होने वाले कार्यक्रम के लिए जगह बना रहा था.

उनकी आवाज में दर्द था, रूखापन था, परन्तु दिखने में उम्र जैसा कुछ नहीं था. इसके बाद मैंने अपने दोनों हाथ उनके पायजामे की इलास्टिक पर रख दिए और उसमें अपनी उंगली फंसा दीं. चाची भी मुझसे कुछ भी नहीं बोलीं और मुझे भी उनके मम्मों के स्पर्श को पाकर बहुत मज़ा आ रहा था.