अंग्रेजी में वीडियो बीएफ

छवि स्रोत,ब्रेस्ट टाइट करने की मेडिसिन

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी वीडियो देसी छोरी: अंग्रेजी में वीडियो बीएफ, मैंने कहा कि अब तुम पेट के बल लेट जाओ … क्योंकि नीचे भी कुछ बाल हैं.

ओल्ड ट्रैक्टर

मुझे तनु के सामने अपनी मां से लंड चुसवाने में कुछ अलग ही मजा आ रहा था. सेक्स वीडियो फुल फॉर्मदोस्तो, अगर कुछ मिले तो कुछ और के लिए कुछ और मेहनत भी करनी पड़ती है.

या तो डिस्चार्ज बाहर करूँ या डिस्चार्ज अन्दर करूँ और हनी को गर्भनिरोधक गोली लाकर खिलाऊँ. सेक्सी वीडियो फुल मजेदारइसीलिये इस तरह के प्रयोग करते समय आप रखें कि आप केवल प्राकृतिक हिना या मेंहदी का ही प्रयोग करें क्योंकि यौनांग बहुत ही संवेदनशील होते हैं.

मैं उनकी सेक्स में बढ़ती सनक को कैसे काबू में करूं?यहां मैं उनके और मेरे साथ हुए कुछ वाकये लिख रही हूं.अंग्रेजी में वीडियो बीएफ: मैंने अन्तर्वासना पर मां-बेटे की चुदाई की कहानियों को कई बार पढ़ा था.

तभी मैंने उसे अपने बीच में किया और अपने लंड को उसकी गांड सेट किया और मालिश करते हुए आगे पीछे होने लगा.मैंने उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिए और उन्हें चूसने लगा और एक हाथ उसकी पीठ पर घुमाने लगा.

दक्षिण अफ्रीका की सेक्सी पिक्चर - अंग्रेजी में वीडियो बीएफ

जब भी कभी भैया घर पर नहीं होते, तो मैं भाभी का सैयां बनकर उनकी जमकर चूत चुदाई करता था.मैंने कहा- नहीं, मैंने आज तक नहीं पीछे से नहीं मरवायी है।मुझे गांड शब्द का इस्तेमाल करने में शर्म सी महसूस हुई.

इधर मैंने साड़ी को पेट से खूब नीचे से बांधी थी, जिससे मेरा पूरा पेट दिखे और नाभि सभी को दिखे. अंग्रेजी में वीडियो बीएफ उसने देरी ना करते हुए उसे मुँह में ले लिया और मैं भी बहुत मज़े से उसको लंड मुँह में दिए जा रहा था.

चिन्ना का खम्बे जैसा लण्ड करोना की स्लेक्स से ढकी चूत के सामने से होता हुआ करोना के पेट तक पहुँच रहा था, जिसकी वजह से करोना अपनी जगह से आगे नहीं हिल सकती थी।चिन्ना ने करोना को चुदाई के लिए तैयार करने की अपनी कार्यवाही आगे बढ़ाई और एक हाथ से करोना की चूचियों को सहलाता रहा.

अंग्रेजी में वीडियो बीएफ?

मेरे लंड का सारा वीर्य मैंने उनके पेटीकोट में ही गिरा दिया और उसी से अपना लंड भी पौंछ दिया. मुझे उसके मुँह में अपने लंड के जाने से मजा आने लगा और मैं अपनी शर्ट ऊपर उठा कर उससे लंड चुसवाने का मजा लेने लगा. और मुझे अभी और पढ़ना है।तभी उसने कहा- लेकिन आप को ये अचानक मेरी शादी की बात क्या सूझी?मैंने स्थिति को भांप कर बात को टाल दिया।फिर हम खाना खाकर सो गए।अगले दिन हम टाइम से उठ कर नहा धोकर सेण्टर की तरफ चले गए।पेपर 3 घंटे का था.

थोड़ी देर में ही मैंने उसके उसकी टांगों को ऊपर की ओर उठाया और उसके दोनों पैरों को अपने कमर पर लपेट लिया. बीच बीच में हम कभी कभी अपने उसी दोस्त के कमरे पर जाकर भी सेक्स करते थे. मैंने उनकी चूचियों को खा जाने वाली निगाहों से देखा और कहा कि सब कुछ … आपकी स्माइल, आंखें, आपका नेचर सब!वो मम्मे उठाते हुए बोलीं- बस … और कुछ नहीं?मैंने फिर से चूचों की नोकें निहारते हुए कहा- भाभी आप तो ऊपर से नीचे तक पूरी ही बहुत अच्छी हो.

मेरे होंठ लगते ही उसने अपनी जिस्म को एक बहुत तेज सिहरन से थरथरा दिया. दो मिनट तक होंठों को रसपान करने के बाद उसने मेरी फ्रेंची को भी निकलवा दिया. यह बोलते ही मैंने उसे गले से लगाया और उसके होंठों पर अपने होंठ टिका दिए.

मैं उसे खींच कर अपने कमरे में ले आया। दरवाजे और खिड़कियां बंद कर के मैंने फटाफट कपड़े उतारे और उसके जिस्म में बचे हुए कपड़ों को अलग किया. मेरे होंठ पूरे गीले हो गये उनकी चूत के रस से … और मेरी लार भी उनकी चूत को गीला करने लगी.

उसका पेटीकोट नीचे गिर गया और उसकी नीले कलर की छोटी सी पैंटी मुझे दिखाई दी.

फिर मुझे पता चला कि पापा रात में नहीं बल्कि दिन में चुदाई करते हैं.

अगर आप बाहर जाते हैं जैसे किसी बैंक में, दूकान पर, पोस्ट ऑफिस में कहीं भी तो वहाँ की किसी भी चीज को, मेज को, कुर्सी को मत छुएँ. साथ ही मुझे उसकी बात भी याद थी, जिसमें उसने मेरी बहन रिचा से मेरे लंड लेने की बात की थी. नसरीन पूरी तरह गर्म हो चुकी थी, उसकी सांसें तेज़ चल रही थीं … दोनों चुचे ऊपर नीचे हो रहे थे.

मैं- अरे नसरीन तूने जो पैसे उधार लिए थे, वो अब दे दे … कब तक देगी?नसरीन- दीदी आप जानती हो, मैं अभी नहीं कर पाऊंगी … आपने मेरी इतनी हेल्प की है … मैं आपकी कर्जदार हूँ. दीदी- इस बार तो मैं तुम्हें माफ कर रही हूँ … लेकिन दोबारा कभी ऐसी गलती मत करना. मैंने पूछा- बहू, इसका असर और कितने टाइम रहेगा?बहू बोली- 1 घंटे रहता है.

उसके बाद उसने कहा- अब तुम मुझे जल्दी से चोदकर ठंडा कर दो … मैं बहुत प्यासी हूं.

उसने धीरे से अपनी आंखें बंद कर ली।कुछ देर के बाद मैंने उसकी ब्रा का हुक भी खोल दिया और हाथों को पीछे ले जाकर उसकी प्यारी सी मुलायम पीठ पर हाथ फिराने लगा। मैंने उसकी ब्रा को उसके शरीर से अलग किया और उसकी चूची को पकड़ कर धीरे धीरे मसलने लगा उसके होंठों को किस करने लगा।उसके मुंह से सिसकारियां निकलने लगी. फिर वे पूछने लगे- तुम्हें भी रोज चुदने की आदत होगी?मैंने उन्हें हम्म कहकर कर जवाब दिया।अब उन्होंने फिर से मेरी चूत में लंड डाल दिया और मुझसे कहा- अब मैं तुम्हें मजा दिलाऊंगा. मुझे बहुत दर्द हो रहा था, लेकिन उसके हाथ मेरी चूची को मजा दे रहा था.

अब आगे:पच्चीस सेकेंड तक मेरे लंड से वीर्य उसकी चूत में पिचकारियां देता चला गया. फिर उन्होंने मुझे सीधी लिटा लिया और मेरे ऊपर आकर मुझे चूमने लगे, मेरे जिस्म का चाटने लगे, काटने लगे, चूसने लगे. इस दौरान कई बार चाचा को उठाते समय चाची के बूब्स मेरे बदन से टच हो जाते थे.

भाभी भी शायद मूड में थीं तो वो भी बिंदास अपनी चूचियों को दिखा कर मजा ले रही थीं.

जैसे ही मैंने उसकी चूत पर हाथ लगाया तो देखा कि उसकी चूत तो पहले से ही काफी गर्म हो चुकी थी. अब जैसा मैंने पहले भी बताया था कि मुझे सेक्स से बहुत डर लगता है, तो मेरी सिसकारियां डर में बदल गई.

अंग्रेजी में वीडियो बीएफ मैंने भी भाभी के दूध दबाते हुए कहा- ठीक है मेरी जान … भाभी आज से आप मेरी रांड हो गईं. कल्पना फिर से भलभला कर झड़ गई और मैं उसकी चूत का नमकीन अमृत चाटता चला गया.

अंग्रेजी में वीडियो बीएफ वह भी चुदाई का भरपूर मज़ा ले रही थी और मदहोश हो रही थी।मैंने उसके सिर पर हाथ फेरते हुये कहा- जानू तुम्हें अच्छा तो लग रहा है ना?बहुत ज्यादा अच्छा लग रहा है. ऐसा करने से कल्पना मुझे और जोर से कसके अपने गले लगा कर लंड पर धीरे धीरे अपनी चूत रगड़ने लगी.

क्योंकि जब से उन्होंने मुझे यह ऑफर दिया है, मेरे समुचित जिस्म में और खासतौर से चूत में बहुत ज्यादा उथल-पुथल मच रही है.

हॉट सेक्सी वीडियो हिंदी में

मैंने कहा- बहू, तुम कभी गाँव आओ तो वहां भी तुम्हारी ऐसी मस्त चुदाई करूँगा. उसके बाद कोमल ने मुझे अपने ऊपर से हटाया और अपनी मैक्सी लेकर बाथरूम की ओर गयी. मेरे दिमाग में अब सिर्फ मेरी बहू का नंगा जिस्म था और मुझे उसे चोदना था.

मैंने भी हम्म कहकर उनके सवाल का जवाब दिया।उन्होंने मुझसे कहा कि आज मैं तुम्हें बहुत चोदूंगा. खाने के दौरान चिन्ना कनखियों से करोना के सौंदर्य को ही निहार रहा था। करोना भी मन ही मन अपने हुस्न पर गुमान कर रही थी।खाना खाने के बाद अचानक चिन्ना बस के नीचे चला गया और अटेंडेंट को भी नीचे बुला लिया. दीपिका भी जैसे पूरी शिद्दत के साथ मेरे लंड को चूस कर मजा ले रही थी.

एक दो चाल के बाद उसका हाथ फिर मेरी जाँघों पर था पर इस बार वो हल्का हल्का मेरी जाँघों को सहला रहा था.

कुछ देर बाद नीलम डेन्टिस्ट के यहां चली गई और मैं अपने कमरे में आ गया. इस बार मैंने लंड पकड़ कर धक्का दिया इस बार मेरे लंड का टोपा उसकी चूत कमसिन चूत में घुस गया. पांच मिनट बाद ही मैंने उसकी चूत को अपने रस से भर दिया और हम दोनों बेड पर ही लेट गए.

मैंने मन ही मन कहा- अभी तो केवल शुरूआत हुई है बहन, आगे आगे देखो क्या होता है. तो वो और ज्यादा बेचैन हो गई और बोली- क्यों तड़पा रहे हो? अब चोद भी दो मुझे।मैंने थोड़ा सा थूक अपने लंड पर लगाया और अपना लंड उसकी चुत में पेल दिया।लंड अभी आधा ही अंदर गया था कि वो दर्द से चिल्लाने को हुई. मैंने अपने दोस्तों से कहा कि कोई मस्त भाभी टाइप की काम वाली दिलवाओ.

इतने में बस चल पड़ी।रास्ते भर मीनू अपने कूल्हों को इधर उधर कर रही थी, इस दौरान मेरी नजर उसकी पैंट पर गयी और मुझे उसकी कच्छी के दर्शन हो गए जो पिंक कलर की थी।कुछ देर बाद मीनू सो गयी और मेरे कंधे पर अपना सर रख लिया. मैंने फिर से गर्म करने के लिए उसके होंठों और मम्मों पर किस करना स्टार्ट किया, जिससे वो मुझे अपने ऊपर खींचने लगी.

फिर कल्पना ने मुझसे अलग होकर कहा- बताओ तुम्हारी कोई स्पेशल इच्छा हो, तो बोलो, मैं पूरी कर दूंगी. कुछ देर किस करने के बाद मैं खड़ा हुआ और मैंने अपने सारे कपड़े उतार दिए. मैंने मौका देखकर पूरी ताकत से एक और झटका मारा, तो मेरा लंड नताशा की चूत को चीरता हुआ उसकी जड़ तक समा गया.

सेजल बड़े प्यार से अपने ससुर के लंड की खाल को ऊपर नीचे कर रही थी और उन्हीं की अंडों के साथ खेल रही थी.

मैंने उससे कहा- यार ये बात मैंने भी सोची थी, लेकिन मुझे ऐसे किसी रंडी के बारे में नहीं पता जिससे मैं चुदाई की बात कर सकूं. फिर मैंने उसके दोनों चूचे छोड़ कर उसकी कमर को पकड़ कर अपने लंड को नीचे से ऊपर उसकी चूत में धक्का लगाना शुरू कर दिया. मैंने भी झट से लोअर टी-शर्ट उतार दी और चड्डी में खड़ा लंड सहलाने लगा.

उसको प्यार से समझाते हुए कहा- कोई बात नहीं, आज के लिये इतना ही बहुत है. अपनी मां की मोटी चूचियों और उनके नंगे बदन के बारे में सोच कर लंड को रगड़ता था और फिर वीर्य छोड़ कर सुकून मिलता था.

बहू मेरी कमर में पैर डालके लटक गयी और मैं उसे उठाके सोफे पर ले गया. पापा को भी यह बात समझ आ चुकी थी कि यह बाल गीले क्यों हैं … पर वो मुझसे पूछने लगे- क्या हुआ बहू … तुम्हारी योनि इतनी गीली क्यों है. इसलिए जब मैंने उसकी झांटों की बीच से उसकी चुत की फांकों पर जब हाथ लगाया, तो उसने मेरा हाथ बाहर निकाल दिया.

हिंदी सेक्सी पिक्चर वीडियो

पैसे की कुछ खास चिंता नहीं है फिर भी सोचती हूं कि खाली दिमाग शैतान का घर न बन जाये इसलिये जॉब करती हूं और थोड़ा दिल भी बहल जाता है.

एक तो ये करण इनको सारा दिन चूसता रहता है और तेरे मामा भी इनको नहीं छोड़ते हैं. फिर मैंने पूरी हथेली से उसकी बुर को दबाया और चुत की लकीर के सहारे उसकी बुर को ऊपर नीचे कई बार सहला दिया, जिससे वो थोड़ा मचल उठी. पर मैंने कैसे भी करके अपने आप को संभाला और अपनी ममेरी बहन से अलग हुआ।हम लोग बहुत दिनों बाद मिल रहे थे तो सब लोग रात में देर रात तक बात करने वाले थे। अब धीरे धीरे रात होने लगी गर्मियों का दिन था तो मैं सोने के लिए ऊपर चला गया.

फिर उसने अपने शरीर का पूरा वजन मेरे ऊपर डाल दिया और मुझे जकड़ लिया. एक दिन उसने मेरे फोन में ब्लू फिल्म देख ली और मेरी मम्मी को बता दिया. सेक्सी मूवी फुल डाउनलोडमैं वहीं कमरे में बैठा हुआ सोचने लगा कि आकांक्षा को यहां लाऊं या ना लाऊं.

और करोना ने चिन्ना अंकल के लण्ड पर बैठ कर गप से अपनी खुल चुकी चूत में जड़ तक ले लिया. चिन्ना जैसा औरतखोर चाहे कितना भी नरमी से पेश आ रहा था पर उसने पिछले दो दिनों में देख लिया था कि इस सांड के लण्ड को हर रात चूत का पानी चखने की आदत है.

उसके द्वारा मेरे लंड की चुसाई देख कर तनु का मन भी शायद मेरा लंड चूसने के लिए कर गया था. जैसे ही उसने हां कहा तो मैंने उसकी चूत में जीभ से चाटना शुरू कर दिया. उन्होंने शायद अन्दर ब्रा भी नहीं पहनी थी क्योंकि उनके निप्पल टाइट मैक्सी में नोक जैसे बाहर निकले हुए थे.

आपको यह कहानी कैसी लगी मुझे[emailprotected]पर मेल करके जरूर बतायें. भाभी चुदासे स्वर में बोली- उसके बाद!मैं- मेरा लंड का साइज 8 इंच से थोड़ा ज्यादा बड़ा है … ये काफी मोटा भी है. उन्होंने एक दिन मुझे समूचा नग्न करके बहुत छोटे बच्चों वाली टॉयज कार और दूसरे खिलौने मेरे नग्न जिस्म पर चलाएं.

वह धीरे- धीरे जीभ से कभी उसके दाएं निप्पल को छेड़ता, फिर उसके इर्द गिर्द सर्किल बनाता, कभी होंठों में दबा कर हल्के दबाव के साथ चुमला देता.

चिन्ना का खम्बे जैसा लण्ड करोना की स्लेक्स से ढकी चूत के सामने से होता हुआ करोना के पेट तक पहुँच रहा था, जिसकी वजह से करोना अपनी जगह से आगे नहीं हिल सकती थी।चिन्ना ने करोना को चुदाई के लिए तैयार करने की अपनी कार्यवाही आगे बढ़ाई और एक हाथ से करोना की चूचियों को सहलाता रहा. मैं आधी सीढ़ियों पर था तो मैंने दीवार के साइड में रुक कर के उसे जाने का रास्ता दे दिया,मुझे देखकर वह मुस्कुराते हुए सीढ़ियों पर चल रही थी और मेरे लौड़े पर अपनी कमर को रगड़ती हुई निकल गई.

मैंने कहा- बहू, बात क्या है खाना क्यों नहीं खा रही हो?बहू बोली- मुझे आपसे बात नहीं करनी है. मैंने कहा- आराम से विशाल… आह्ह … धीरे करो बेटा, सब कुछ होगा लेकिन आहिस्ता-आहिस्ता।मेरी बात सुनकर वो रुक गया. शादी के बाद हनीमून को यादगार बनाने के लिए-कई बार शादी के बाद पहले हनीमून को यादगार बनाने के लिए कपल्स इस तरह के प्रयोग करते हैं.

पर मैंने उसे कस कर पकड़ा था और वैसे ही आज बहुत दिनों बाद ये कुंवारी चूत लंड के नीचे आयी थी तो इतनी जल्दी मैं उसे अपनी से कैसे अलग कर सकता था।मैंने थोड़ी देर उसके ऊपर वैसे ही अपने आप को रहने दिया थोड़ी देर उसके होंठों को चूसा उसकी चूचियों को मसलने लगा।वह धीरे से बोली- बाबू, प्लीज बहुत दर्द हो रहा है. जैसा कि मैंने पहले लिखा कि मैं कॉलेज के टाइम से अंतर्वासना पढ़ रही हूं तो आप समझ ही गए होंगे कि मुझ में कितनी तीव्र यौन इच्छा और काम वासना भरी पड़ी है. आप ईमेल करके मुझे लिखें ताकि मैं आगे की सेक्स कहानी भी आपके साथ शेयर कर सकूं.

अंग्रेजी में वीडियो बीएफ रानी भाभी ने भी मुझको उनके स्तनों को घूरते हुए देखा, तो मुझे टोका नहीं बल्कि मुस्कुरा कर पूछा- मोहित कैसे हो?मैं घबराते हुए बोला- ठीक हूँ भाभी. कभी उनको किस करता और उनके चूचों को सहलाता जा रहा था।काफी वक़्त हो गया था तो मैंने मैम से कहा- मैं अभी चलता हूँ.

नकाब की डिजाइन

कुछ देर इधर उधर घूमने के बाद मुझे नींद गहराने लगी, तो मैंने मम्मी से कहा कि मुझे सोना है. मेरा लंड तो अब छोटा हो गया था और कंडोम तो पूरा मेरे वीर्य से भरा हुआ था. खाने के दौरान चिन्ना कनखियों से करोना के सौंदर्य को ही निहार रहा था। करोना भी मन ही मन अपने हुस्न पर गुमान कर रही थी।खाना खाने के बाद अचानक चिन्ना बस के नीचे चला गया और अटेंडेंट को भी नीचे बुला लिया.

मैं माया से बात तो कर रहा था, लेकिन मेरी बार बार नज़र उसके चुचों पर जा रही थी. भाभी के जाने के बाद मैं सोचने लगा कि भाभी हंसी क्यों … क्या ये मुझसे पट जाएंगी … अगर वो मुझे पसंद नहीं करतीं … तो कुछ कह-सुन न देतीं … या फ़िर चुप कुछ कहे बिना चली जातीं … लेकिन वो हंसते हुए मेरे कलेजे में नैनों के बाण चलाते हुए गांड मटकाते अन्दर चली गईं. राजस्थानी ओरिजिनल सेक्सी वीडियोलंड से सारा वीर्य निकल जाने के बाद मैं आकांक्षा के बराबर में ही लेट गया.

वो फूल को मेरे होंठों से लेकर मेरी जांघों तक बहुत धीरे धीरे सहला रहा था और मेरी बॉडी को चूमे जा रहा था.

क्या हुआ था बाप बेटी के बीच?दोस्तो, मेरा नाम विवेक (बदला हुआ) है और मैं दिल्ली के पॉश इलाके रोहिणी में रहता हूं. इस चुदाई के मजेदार खेल के दौरान उसने फिर एक बार मुझसे वही बात बोली- प्लीज विकी, मुझे धोखा नहीं देना.

कहानी में आगे बढ़ने से पहले मैं आपको अपने बॉयफ्रेंड के बारे में बता दूँ, मेरे बॉयफ्रेंड का नाम सागर है, मैं उसे सैम बुलाती हूँ. कभी उसके होंठों को, कभी उसके गालों को, कभी उसकी गर्दन को, तो कभी उसकी चूचियों पर किस कर रहा था. फिर वे मेरे बालों में अपनी उंगलियां फिराने लगे और मेरे होठों पर किस करने लगे.

इससे घबराओ मत, यह तुम्हारे काम से खुश होकर तुम्हें सलामी दे रहा है और अपनी मालिश करवाना चाहता है.

फिर बहू ने मेरा लंड पकड़ के अपनी चूत में डाल लिया और मैं उसकी जोरदार चुदाई करने लगा. मुझे नंगा देखकर और रानी को मेरा लंड चूसते देख बहू ने अपना हाथ अपने मुँह पर रख लिया. ये बात अभी 3 महीने पहले की है, मैं घर का काम कर रही थी और आपकी बहू बोली- रानी काम हो जाये तो चली जाना गेट बंद करके!मैंने कहा- ठीक है भाभी.

बिहारी वीडियो सेक्समेरी चूत से बहुत कम पानी आ रहा था, इसलिए लंड फंस कर अन्दर जा पा रहा था. कहानी का पिछ्ला भाग:ट्रेन के सफर में मेरे शौहर की कारस्तानी-2उन सब के अलग होते ही मुझे महसूस हुआ कि गांड का छेद बहुत जल रहा था और चूस चूस कर इन लोगों ने मेरे निप्पलों को सुजा दिया था.

सट्ट मटका कल्यान

एक दिन मैं सीढ़ियों से नीचे उतर रहा था और उसी टाइम भाभी छत पर जाने के लिए सीढ़ियों पर चढ़ रही थी. नीलम ने सिर हिलाकर मना करते हुए कहा- नहीं, हनी घर में है और वैसे भी मुझे डेन्टिस्ट के यहां जाना है, टाइम हो रहा है. और हालात यह हुए कि 5 साल के अंदर आप गोसानी परिवार के पास खुद की एक बड़ी कोठी थी.

मेरा नाम राज है और ये घटना मेरी मौसी की बेटी और मेरे बीच बने सम्बन्धों की है. अब कल्पना ने भी मेरी शर्ट उतार कर बेड पर फेंक दी और मुझे जोर से गले लगा कर मेरे बालों में हाथ फेरने लगी. मेरे रूम में मां, दीदी और तनु और मैं चारों ही एक साथ लेट कर इस सीन का मजा ले रहे थे.

तीस मिनट बाद मेरे दोनों हाथ दुखने लगे तो मैंने कहा- अब मुझ से नहीं हो रहा. मैंने देखा सिम्मी के स्तन के ऊपर एक छोटा प्यारा तिल है जो काफी मनमोहक था।मैं एक हाथ से जैसे ही सिम्मी के बायां स्तन दबाने लगा. परन्तु इसकी परवाह न करते हुए अनुभवी चिन्ना घुटनों के बल करोना की टांगों के बीच में बैठ गया.

मैंने दरवाजा खोला, तो मोहन भाई ही आया था और उसके साथ एक 25-26 साल का युवक भी था. क्या हुआ था बाप बेटी के बीच?दोस्तो, मेरा नाम विवेक (बदला हुआ) है और मैं दिल्ली के पॉश इलाके रोहिणी में रहता हूं.

सुप्रिया- ले ठूंस ले … मम्मी पापा कहीं बाहर गए हैं … जल्दी से खाले … वरना आज तो तुझे खाने को कुछ मिलता ही नहीं.

जल्दी से चोद डालो मुझे … बुझा दो आज मेरी चूत की आग … आह साली बहुत तड़पाती है … निगोड़ी कहीं की. ब्लू फिल्म कलर पैलेट २०२१ ऑनलाइननौ बजे निधि वहां आ गई।पूजा ने कहा- जीजाजी, दीदी को लेकर आप मम्मी वाले रूम में जाइये. खाने में सबसे गर्म चीज क्या हैरानी के जाने के बाद मैंने बहू को देखा तो उसकी आँखों में मुझे गुस्सा दिखाई दिया. अब तक करोना काफी आगे बढ़ चुकी थी, उसे कुछ समझ नहीं आ रहा था कि ये उसे क्या खुमारी सी चढ़ रही है.

अब उससे भी बरदाश्त ना हुआ तो वो बोली- बस करो। मुझसे अब और ना रहा जा रहा है। अब चोद दो मुझे.

उसने देखा कि चिन्ना की तरफ से चिन्ना के बेडरूम की तरफ से दरवाजे की झिरी से हल्की हल्की रोशनी आ रही है. मैंने बोला- पूरा दिखाओ न!कुछ देर नानुकर के बाद मेरी बहन ने अपना पूरा ब्लॉउज खोल दिया. भैया भाभी सो गए थे और मैं प्रीति के दूध और चूतड़ों को अपने आधे जिस्म पर महसूस कर पा रहा था.

इत्तफ़ाक़ से कुछ ही दिन बाद नसरीन भी मासिक पीरियड से निवृत होने वाली थी. मैंने अपना लंड बहू की चूत पर लगाया तो बहू ने खुद लंड पकड़ के अपनी चूत में डाल लिया. लेकिन उसने दूसरा निकाह करने से मना कर दिया और वो बेवा बन कर रहने के लिए राजी हो गई थी.

सेक्सी ओपन में

जब वो पौंछा लगा रही थी तो उसके बड़े बूब्स सूट से बाहर आने के लिए मचल रहे थे. ज़ाहरा की बलखाती कमर 32 इंच की है और गांड 34 इंच की है।मेरा मन उसे पटाने का हुआ, तो मैंने उससे थोड़ी-थोड़ी बात करना शुरू की। पहले फेसबुक पर रिक्वेस्ट भेजी और और कुछ ही पल में मैंने उसका व्हाट्सप्प नंबर ले लिया और फ़िर हमारी बातें होने लगी।एक दिन हमारी यों ही बातें हो रही थी तभी कुछ ऐसा हुआ कि बातों बातों में मैंने उसे उसके स्तनों की फोटो मांगी. पापा बोले- सॉरी से काम नहीं चलेगा … ये तो साफ करना ही पड़ेगा क्योंकि अगर आज साफ नहीं किया, तो कल हॉस्पिटल में कोई और ही तुम्हारी झांटें साफ करेगा … और शायद हो सकता है सभी स्टाफ के सामने तुम्हारी झांटें साफ़ हों … और यह भी हो सकता है कि यह सब मुझे ही साफ करना पड़े, क्योंकि उस टाइम कोई नहीं सोचता कि यह किसकी झांटें हैं.

सोनू और मैं अक्सर गांव में घूमने के लिए साथ में निकल जाया करते थे और काफी मस्ती किया करते थे.

वैसे मैंने कभी मानवी के बारे में सोचा नहीं था कि ये भी इतनी खूबसूरत है और ये भी मेरा एक ऑप्शन हो सकती है, लेकिन कभी उस पर इस नजरिये से मेरा ध्यान ही नहीं गया क्योंकि मुझे उसे देख कर बहन भाई वाला अहसास होता था.

मैंने पूछा तो बोली- सच में आज जो मज़ा आया है, वो जिंदगी में कभी नहीं आया. जब आप किसी लड़की के साथ पहली बार सेक्स कर रहे हो, तो आप जानते ही हो कि कितनी जल्दी झड़ना हो जाता है. सेक्सी वीडियो हिंदी में ओपनफिर मैं उसके होंठों पर अपना लंड रगड़ने लगा, तो उसने हाथ से हटाने की कोशिश की, जिससे उसके हाथ चूचों से हट गए और मैंने उसी समय उसके मम्मे पकड़ लिए.

उसने मुझे नीचे लेटने को बोला और अपनी गुलाबी चूत मेरे मुँह पर रख कर बैठ गई और झुक कर मेरे लंड को हाथ में लेकर सुपारे को जीभ से चाटने लगी. उसके बाद मैंने भाभी से जाकर बोल दिया कि आज रात को अपने ससुर का लंड लेने के लिए तैयार रहना. मेरे होंठ पूरे गीले हो गये उनकी चूत के रस से … और मेरी लार भी उनकी चूत को गीला करने लगी.

मैं कुछ सोच कर बोली- ठीक है … लेकिन सर आप मुझे कितनी सैलरी दोगे?इस पर नवीन जी मेरे दूध देखते हुए बोले- वैसे तो ये तुम पर निर्भर करता है कि तुम मुझे किस तरह से खुश करती हो … मेरा मतलब अपनी कुकिंग आर्ट से … तब भी मैं तुमको 15,000 महीना दे दूंगा … और यहां और भी घरों में काम दिला दूँगा. मैं मामा के गांव लगभग 4 साल बाद गया था। इसलिए लगभग कोई मुझे पहचान नहीं पा रहे थे। मैं पहले से कहीं ज्यादा हैंडसम और स्मार्ट हो चुका था.

मैंने अपने कपड़े निकाले और अंडरवियर निकाल कर पूरा का पूरा नंगा हो गया.

इसी दरम्यान मैंने नसरीन को लैपटॉप चलाना सीखने की सलाह दी और उससे कहा कि आज के दौर में कंप्यूटर सीखना कितना जरूरी है. मैं उनके लिए चखना ले आई, जब मैं उनको चखना देने लगी तो मैंने जानबूझ कर अपना आंचल गिरा दिया और अपने दूध उनको दिखा दिए. हालांकि आज से पहले मेरे दिल में प्रीति के लिए कोई ग़लत विचार नहीं था, पर कुछ महीनों पहले प्रीति एक बार भैया के मेरे घर आई थी.

सेक्स गांव की ये सुनकर वो घबरा गया और उसने कहा- प्लीज ऐसा मत करो … मैं बर्बाद हो जाऊंगा. अब लड़कियाँ तो अपनी सहेली से सब शेयर करती ही हैं।दोपहर 12 बजे हम एक साथ थिएटर पहुँचे.

तभी सीमा नीचे बैठ गई और मेरे लंड को अपनी मम्मों के बीच में लेकर लंड को मसलने लगी. मैंने उसे गोद में उठाया और पूजा की मम्मी के रूम में लाकर बिस्तर पर लिटा दिया।बिस्तर पर सफेद चादर बिछी थी और गेंदे के फूलों की पंखुड़ियों से दिल और तीर का निशान बना था, उसके बीच में गुलाब की पंखुड़ियों से आर और एन लिखा था।रूम का दरवाजा बंद करने के लिए जैसे ही मैं दरवाजे के पास आया, तभी निधि पीछे से आकर मुझसे लिपट गयी. फिर मैंने कहा- अब घोड़ी बन जा!सलमा घोड़ी बन गयी।इस आसन में मैंने उसे पूरे 5 मिनट चोदा.

भीम की सेक्सी वीडियो

उनकी गांड के नीचे तकिया लगा दिया और उनकी टांगों को चौड़ी करके अपने हाथों में थाम लिया. होटल पहुंचे तो देखा बड़ा आलीशान होटल था, खाना खाकर हम लोग अपने अपने कमरों में चले गये. उनको नहीं थी।तय दिन पर हम निकल गए ट्रैकिंग के लिए। हम दोनों ही बहुत एक्साईटेड थे इसके लिए क्योंकि दोनों का ही पहला ट्रेक था।हम लोग सुबह 5 बजे अपने स्टेशन पहुंचे और ऑटो करके अपने होटल में पहुँच गए। वहाँ बहुत ठंड थी। होटल पहुँच कर हम बारी बारी से नहाये। मैंने अपने फ़ोन में मस्त गाने भी लगा दिए जो दोनों को ही पसंद हैं।फिर हम नाश्ता करने के लिए बाहर निकले.

आज मैंने अपने लौड़े को उसकी सलवार के नाड़े से रगड़ कर साफ़ किया और अपने कमरे में आ कर सो गया. नितिन ने मुझसे पूछा- कहां चलें?मैंने मुस्कुराते हुए कहा- जहां तुम्हें करते हुए शर्म न आए.

पर मैंने कैसे भी करके अपने आप को संभाला और अपनी ममेरी बहन से अलग हुआ।हम लोग बहुत दिनों बाद मिल रहे थे तो सब लोग रात में देर रात तक बात करने वाले थे। अब धीरे धीरे रात होने लगी गर्मियों का दिन था तो मैं सोने के लिए ऊपर चला गया.

फिर मैंने उसके शरीर से उसकी साड़ी को अलग कर दिया और फिर से उसके उरोजों को दबाते मसलते हुए उसे चूमता रहा और वो अपने मुँह से ‘ऊह हहहह आह आह सस्स सस्स ससीई. इसलिए मुझे लगता था कि मामी की चुत में ज्यादा बार लंड नहीं गया होगा और उनकी चूचियां भी ज्यादा नहीं मसली गई होंगी. मैं बोली- ठीक है साहब जी … कितने बजे आना है?नवीन जी बोले- मेरा मॉर्निंग में 7 बजे जाना रहता है और मैं रात में 9 बजे कमरे पर आता हूँ.

मगर एक बार मेरी एक सहेली ने मुझे मर्दों को मसाज देने का आईडिया दिया. ऐसे मोड़ पर ना तो मैं उसके साथ जबरदस्ती कर सकता था और न ही पीछे हट सकता था. अब वे मेरे पीछे बैठ कर मेरे दोनों गोलों को अपने हाथ से और चौड़ा कर के खोलकर निहारने लगे.

मैं जहां से भी जाती तो भीड़ ज़्यादा होने के वजह से कभी कोई मेरी गांड टच कर देता, तो कोई दबा देता.

अंग्रेजी में वीडियो बीएफ: अब तो वैसे भी वो चुदने के लिए मेरे नीचे मेरे कमरे में आ ही गई है तो मना नहीं कर पाएगी।उल्टा होकर वो लेटी ही थी, गांड लंड के सामने थी तो मैं उसके ऊपर लेट गया। अपने लंड को उसकी गांड पर स्पर्श करने लगा। मैंने उसकी गांड पर और अपने लंड पर अच्छे से थूक लगाया और अपना लंड उसकी गांड के छेद पर टिका दिया. उसकी चुत इतनी टाइट थी कि मेरा थोड़ा सा लंड उसकी चुत में ही गया और उसकी मुँह से चीख निकल गयी.

मैंने सुनने की कोशिश की तो मामी की आवाज थी- आह्ह… आह्ह… ईस्स… थोड़ा आराम से करिये न, अगर राज को सुनाई दे गया तो वो क्या सोचेगा?मुझे अंदाजा हो गया था कि अंदर मामा और मामी चुदाई कर रहे थे शायद. मुझे नहीं पता था कि ऐसा क्यों हुआ?तो उसके बाद मुझे अपनी बुआ की बेटी की चुदाई करने का मौक़ा नहीं मिला. मुझे समझ आ गया था कि अब ये झड़ने वाली है तो मैंने दाने को रगड़ना छोड़ कर अपने झटके तेज़ कर दिए.

ये सेक्स कहानी कैसी लगी, जरूर बताएं मैं पहली बार कहानी में लिख रहा, कुछ गलतियां होना लाजिमी हैं.

उन्हीं में से उसकी एक सहेली, जो पीछे 4 सालों से बच्चा पैदा करने के लिए कोशिश कर रही थी, पर उसके पति में कोई कमी थी, जिसके कारण वो मां नहीं बन पा रही थी. उसका हाथ नीचे सरक कर मेरे पेट को सहलाता हुआ मेरे पैंट तक पहुंच गया था. उन्होंने अपने बूब्स को पकड़ते हुए बोला- देखो अब तो ये भी नीचे को लटकने लगे हैं … पहले तो एकदम टाइट थे.